Sun. Nov 18th, 2018

भक्त शिव की उपासना

image(12)
मालिनी मिश्र, काठमाण्डू, ११ अगस्त
भक्त  शिव की उपासना करने के लिए लाखों लोग 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक भारत के देवघर में बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर पहुंचकर कामना लिंग का जलाभिषेक करते हैं। मान्यता है कि सावन में गंगाजल से महादेव का अभिषेक करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं, लेकिन गंगाजल के साथ बेलपत्र भी चढाने की प्रथा है ।  बेलपत्र चढाने की विशेष प्रथा के कारण ही यहां बेलपत्रों की प्रदर्शनी का चलन है । पुरोहित दुर्लभ बेलपत्रों को जंगल से भी एकत्र करके लाते हैं , जिसे देखने के लिए हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ रहती है । वहां पूजा करने वाले पण्डाओं का कहना है कि स्थानीय  त्रिकूट पर्वत  से अद्भुत व दुर्लभ पत्रों को लाकर प्रदर्शनी में  चादंी की थाल में सजाया जाता है ।
पुजारी श्रीनाथ पंडा ने बताया कि स्थानीय त्रिकूट पर्वत पर आज भी ऐसे कई बेल के पेड़ हैं जो दुर्लभ हैं। यहीं से बेलपत्रों को इकट्ठा किया जाता है। उन्होंने बताया कि प्रदर्शनी में शामिल दुर्लभ बेलपत्रों की पहचान बुजुर्ग पुरोहित करते हैं। आखरी सोमवार को सबसे अनोखे और अद्भुत बेलपत्र लाने वाले पुजारी समाज को ईनाम दिया जाता है। यह प्राचीन परंपरा और प्रदर्शनी श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केंद्र बनी रहती है।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.