Sat. May 18th, 2024

नेपाल–भारत संबंधः नयां चुनौती के लिए परम्परागत नीति काफी नहीं हैः राणा

                                                        पशुपति शमशेर राणा, अध्यक्ष, राष्ट्रिय जनता पार्टी, (प्रजातान्त्रिक)

काठमांडू, जनवरी २८ । भारतीय प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी एक सफल प्रधानमन्त्री के रुप में परिचित हो रहे हैं, उनका कार्यकाल सफल बन रहा है । अर्थात् मोदीजी आर्थिक तथा राजनीतिक मुद्दों पर सफल बन रहे हैं । भारत नेपाल का एक दोस्त है, पड़ोसी राष्ट्र है, उसकी सफलता हमारे लिए भी लाभदायक बन सकता है । क्योंकि भारत सफल हो जाता है तो उसका लाभ नेपाल भी ले सकता है ।
नेपाल और भारत के बीच सदियों से सामाजिक तथा सांस्कृतिक संबंध रहा है, जो राजनीतिक शक्ति से अधिक मजबूत है । लेकिन कभी–कभार आपसी संबंध में कुछ वैमनस्यता भी दिखाई देता है । इसके पीछे हमारे बीच रहे मजबूतीयां भी है । क्योंकि जो नजदिक होते हैं, उसके बीच कभी–कभार आपसी मतभेद भी होता है । हां, नेपाल और भारत के बीच सामाजिक तथा सांस्कृतिक संबंध तो मजबूत है, लेकिन आर्थिक तथा राजनीतिक दृष्टिकोण से कुछ असमझदारी दिखाई देता है । जिसके चलते भी हमारे यहां नकारात्मक टिका–टिप्पणियां होती है । मुझे लगता है कि अब इस तरह की टिप्पणियां भी सम्बोधन होना चाहिए ।
नेपाल–भारत संबंध को और मजबूत बनाना है तो अर्थ–राजनीतिक प्रभाव के बारे में बहस होना चाहिए । परम्परागत सामाजिक और सांस्कृतिक संबंध ही अब नेपाल और भारत को आगे नहीं बढ़ा पाएगा । अब नीतिगत और नयां संबंध विस्तार में जोर दोना पड़ेगा । क्योंकि नेपाल–भारत बीच जो नयां चुनौती दिखाई दे रहा है, उसको सामना करने के लिए परम्परागत नीति काफी नहीं है ।

(भारत के ६९वें गणतन्त्र दिवस के अवसर पर नेपाल भारत मैत्री समाज द्वारा काठमांडू में आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त विचारों का संपादित अंश)



About Author

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: