Sat. May 18th, 2024
himalini-sahitya

दिल को पागल होने दो : आरती आलोक वर्मा (गजल)

    –  आरती आलोक वर्मा



मुझको आपा खोने दो
दिल को पागल होने दो ।।

गम की बारिश होने दो
काजल मुझको धोने दो ।।

आंसू झम झम बरसेंगे
आंखे बादल होने दो ।।

इन पलकों की छांव तले
मुझको हर पल सोने दो ।।

सब  तेरी  बातें  मानूँ
ऐसे जादू टोने दो ।।

हसरत जाने कब से मरी
लाश वफा की ढ़ोने दो ।।

हिमालिनी, अंक जून २०१८ |



About Author

यह भी पढें   गीतकार डा.हेमन्त खतिवडा रचित कैसा मन मस्ताना प्यारे प्रकाशित
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: