Mon. Jun 17th, 2024
himalini-sahitya

पीड़ा को सहने की तरकीब : डॉ. रूपेश जैन

पीड़ा को सहने की तरकीब



हे नीलकंठ तुमे शत शत नमन

कंठ में गरल धरते हो

सदियों से पीड़ा को सहते हो

मैं भी विष का चषक पीने वाला हूँ

इस पीड़ा को सहने की कोई तरकीब बताओ

तुम जैसा स्थिर रहने की कोई तदबीर बताओ

विषयों का सरल अबलोकन करना था

मैं मुढ, क्या जानू मंथन में विष मिलता है

यह भी पढें   नेपाल का साउथ अफ्रीका से 1 रन से हार के बाद, सुपर-8 दौरा भी समाप्त

अब आत्म पल-पल गरल में जलता है

सारा अबलोकन अब भूल गया

इस पीड़ा को सहने की कोई तरकीब बताओ

तुम जैसा स्थिर रहने की कोई तदबीर बताओ

डॉ. रूपेश जैन ‘राहत’



About Author

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: