Sat. Jan 25th, 2020

नेपाल यैम बना, बड़े हैम का टुकड़ा … : डा.गीता कोछड़ जायसवाल/सीपु तिवारी

 

डा.गीता कोछड़ जायसवाल/सीपु तिवारी | 18 वीं शताब्दी में, सबसे शक्तिशाली गोरखा राजा पृथ्वी नारायण शाह ने कहा था, “नेपाल दो पत्थरों के बीच एक यैम है”, जिसका अर्थ यह था कि नेपाल जो दो शक्तिशाली राज्यों – भारत और चीन – के बीच है, उसका विकसित होना और बढ़ना मुश्किल है। पृथ्वी नारायण शाह एक ऐसे राजा थे जिन्होंने एकीकृत नेपाल बनाने के लिए कई छोटे राज्यों को एकजुट किया था। दिलचस्प बात यह है कि सन् 1788-89 के युद्ध के दौरान उनकी गोरखाबलों ने वर्तमान तिब्बत (जो चीनी क्षेत्र का एक हिस्सा है) पर हमला किया और कई हिस्सों में जीत हासिल की।

इस जीत के विरोध स्स्वरूप चीन ने नेपाल पर कार्रवाई की, जिसके परिणाम स्वरूप सबसे शक्तिशाली गोरखा सेना को आत्मसमर्पण करना पड़ा। मुमकिन है कि हार कि इस भावना का घाव आज भी नेपाल के गोरखाली लोगो के दिलों में सिसकता होगा। फिर भी, नेपाल में 20,000 से अधिक तिब्बति लोग बसे हुए हैं। सबसे अहम बात यह है कि गोरखा सैनिकों ने वर्षों तक अंग्रेजों के लिए काम किया है और लगभग 1,27,000 पेंशनभोगी भारतीय सेना के सबसे प्रतिष्ठित सैनिक रहे (भारतीय सेना के 90,000 और केंद्रीय तथा राज्य सरकारों के 37,000 अर्द्धसैनिक बल)। 2017 में गोरखाली लोगो को पेंशन और बकाया के रूप में वितरित कुल राशि लगभग रु. 2,500 करोड़ या 4,000 करोड़ नेपाली मुद्रा रही।

वास्तविक भौगोलिक अंतरिक्ष के संदर्भ से देखें तो, भारत नेपाल के मौजूदा राजनीतिक क्षेत्र की तुलना में 22 गुना बड़ा है; जबकि चीन कुल क्षेत्रफल में 66 गुना बड़ा है। इसलिए, शक्तिशाली पड़ोसी सिर्फ दो दिग्गजों की आर्थिक मात्रा के संदर्भ से ही नहीं, बल्कि वास्तविक भौगोलिक परिदृश्य, राजनीतिक क्षेत्र और जनसंख्या के संदर्भ से भी हैं, जो दोनों देश – भारत और चीन- को परिभाषित करते हैं। राजनीतिक और रणनीतिक संबंधों के खेल के आधार पर नेपाल की राजनीतिक शक्ति के बदलाव के अनुसार अपने लाभ के लिए दोनों पड़ोसियों की तरफ़ नेपाल की विदेश नीति ‘सम-दूरी’ (equi-distance) से ‘पुल’ (bridge) से ‘संतुलन’ (balancing) और ‘सामरिक फायदे’ (strategic advantages) में बदल गई है।

लेकिन, हाल के चुनावों में बहुमत पार्टी के रूप में एकीकृत कम्युनिस्ट शासन के प्रमुख नेपाल के प्रधान मंत्री खड़ग प्रसाद ओली के सत्ता में आने के बाद, विदेश नीति को कई दृष्टिकोणों के साथ फिर से परिभाषित किया जा रहा है; एक, नेपाल की समृद्धि के साथ स्थिर सरकार नीति उन्मुखता को बदलना; दूसरा, सभी द्विपक्षीय संबंधों के आधार पर सभी विदेशी शक्तियों के अहस्तक्षेप के लिए राष्ट्रवादी भावनाओं को संबोधित करना; तीसरा, बहुपक्षीय मंच और बहुपक्षीय जुड़ाव में नेपाल के हितों को दर्शाना; और अंत में, भौगोलिक लाभ नई शक्तियों के रूप में अन्य शक्तियों के भू-आर्थिक उद्देश्यों को संतुलित करने के लिए नई चेतना लाना।

पिछले कुछ महीनों में पीएम ओली ने इन विदेशी नीतिओं को भारत और चीन दोनों पड़ोसी राज्यों के प्रमुखों के साथ दोबारा बदलने के लिए ठोस प्रयास किए। सत्ता संभालने के बाद, ओली ने भारत के साथ संबंधों का प्रबंधन किया और रेलवे कनेक्टिविटी, कृषि, जल विद्युत आदि विभिन्न समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इसी के बाद, ओली ने चीन की छह दिवसीय यात्रा की, और रेलवे, ऊर्जा, परिवहन, पर्यटन, बुनियादी ढांचे का विकास, और दीर्घकालिक-आर्थिक सहायता आदि कुछ समझौतों पर हस्ताक्षर किए। रेलवे लाइन तिब्बत के शिगात्से (Shigatse) शहर के ग्यारोंग व्यापार बंदरगाह (Gyirong trading port) को नेपाल की राजधानी शहर काठमांडू से जोड़ेगी। हालांकि, चीन रेलवे लाइन को भारत में विस्तारित करने का इच्छुक है, परंतु भारत ने नेपाल के तराई क्षेत्र में अन्य रेलवे लाइनों का प्रस्ताव पारित किया है।

नेपाल के भीतर बहस ने इन परियोजनाओं में निवेश की वास्तविक लागत पर गंभीर चिंताओं को उठाया है। पूर्व विदेश मंत्री प्रकाश शरण महत के अनुसार, “ऐसी परियोजनाओं में नेपाल के राष्ट्रीय बजट का निवेश करने के बजाय, नेपाल को भारत और चीन दोनों को अनुदान पर देश की रेलवे बनाने के लिए कहा जाना चाहिए। अगर नेपाल देश में रेलवे बनाने के लिए ऐसा ऋण लेता है, तो नेपाल ऋण वापस नहीं कर पाएगा क्योंकि ऐसी परियोजनाओं की लागत नेपाल के वार्षिक पूंजी व्यय से अधिक होगी। ‘यह स्पष्ट है कि नेपाल दोनों बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं के कारण पड़ोसियों से मिल रहे अवसरों का लाभ लेना चाहता है और उनके प्लवन प्रभाव (spill over effect) की संभावनाओं की प्रतीक्षा में है। हालांकि, पड़ोसी नेपाल को संभावित छोटी शक्ति के रूप में देखते हैं जो उनकी आउटबाउंड उन्मुख अर्थव्यवस्था (outbound oriented economy) को बढ़ावा देने में फायदेमंद हो सकता हैं। नेपाल को अपने घरेलू बुनियादी ढांचे में सुधार करने और अपनी जनसंख्या की खराब और पिछड़ी स्थिति को सही करने के लिए कनेक्टिविटी बनाने की बेहद जरूरत है। दोनों पड़ोसियों की चिंताएं आतंकवादी केंद्रों और राज्य विरोधी गतिविधियों से गहरा सम्बंध रखती है, जो भारत और चीन दोनों की स्थिरता के लिए बड़ी चुनौती है।

दिलचस्प बात यह है कि पड़ोसी शक्तियों को खुश करने के लिए, ओली शासन ‘विरोध-मुक्त क्षेत्र’ स्थापित कर रहा है और चीन की मदद से खुफिया इकाइयों को तेज कर रहा है। पीएम ओली की चीन यात्रा के ठीक पहले, इस साल मार्च में, काठमांडू के बाहरी इलाके चंद्रगिरी नगर पालिका की पहाड़ी ढलान पर स्थित नेपाल की सशस्त्र पुलिस बल अकादमी (Armed Police Force Academy) का उद्घाटन किया गया। अकादमी में 19 इमारतें हैं जो 15000 वर्ग मीटर के क्षेत्र में फैली हैं। चीनी पक्ष से 350 मिलियन अमरीकी डालर के फंड के साथ दो साल में बनायी गई यह अकादमी नेपाल में प्रवेश करने वाले तिब्बतियों की निगरानी और जांच में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इसके साथ-साथ, विशेष चेक पॉइंट हैं जिन्होंने नेपाल और चीन के तिब्बती क्षेत्र के बीच सभी प्रवेश-निकास बिंदुओं के लिए सख्त बाधाएं की हैं। इसलिए, सभी आंतरिक और बाहरी गतिशीलता को कड़ाई से नियंत्रित किया जाएगा क्योंकि कनेक्टिविटी के चलते अपराधों में वृद्धि और अपराधियों की गतिशीलता की संभावना चीन की प्रमुख चिंता है, जैसा कि खुली सीमा के चलते भारत का अनुभव रहा है।

जैसे ही नेपाल मुक्त व्यापार के लिए अपने दरवाजे खोलता है और निवेश आमंत्रित करता है, भारत और चीन दोनों पड़ोसी राज्यों के हितों को नि: शुल्क चल रहे व्यवसाय पर बढ़ते नियंत्रण के साथ गहन सहयोग करना होगा जो एक निचले स्तर पर लगातार चल रहा है और सुरक्षा मुद्दों के लिए एक बड़ी समस्या है। बढ़ती शक्तियों के आर्थिक पंखों का विस्तार करना और साझा समृद्धि की दुनिया बनाने के लिए ऐतिहासिक और सभ्यता के संबंधों को मज़बूत करना ही दोनों शक्तियों का मूल आधार है। दोनों बड़ी शक्तियों के उद्देश्य ओली शासन के रणनीतिक हितों और इच्छाओं के साथ अच्छी तरह तालमेल खाते हैं, लेकिन कुछ भी मुफ्त में नहीं मिलता। इसलिए, नेपाल अब एक बड़ा ‘हैम’ है, और भारत व चीन दोनों ही क्षेत्रीय समृद्धि और आम भाग्य के लिए प्रतिस्पर्धा करने के बजाय, साझा तालमेल बनाना चाहते हैं।

 

*डा.गीता कोछड़ जायसवाल-चीन में संघाई फुतान विश्वविद्यालय में अस्थाई बिद्वान है, और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की प्रोफेसर है।
*सीपु तिवारी- लेखक, राजनीतिज्ञ और मधेश के जानकार है।

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: