Sun. Dec 8th, 2019

नेपाल का तराई क्षेत्र, बिहार, असम में बाढ का कहर जारी

  • 88
    Shares

15 July


नेपाल में  लगातार हो रही बारिश के कारण आई बाढ़ व भूस्खलन से मरने वालों की संख्या 60 पहुंच गई है, जिनमें 24 महिला और 36 पुरुष हैं। नेपाल पुलिस के अनुसार 38 लोग घायल हुए हैं और 26 लापता हैं। घायलों का संबंधित जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है।

बारिश के कारण कई लोग विस्थापित हो गए और यातायात भी बाधित हुआ है। देशभर में दक्षिणी मैदानी हिस्से के साथ-साथ पर्वतीय क्षेत्रों के 25 से ज्यादा जिलों में बृहस्पतिवार से भारी बारिश हो रही है जिससे 10,385 परिवार प्रभावित हुए हैं। पुलिस ने देशभर के कई स्थानों से 1,104 लोगों को बचाया है। केवल काठमांडू से 185 लोगों को बचाया गया। नेपाल पुलिस के अनुसार, खोज एवं बचाव अभियान के लिए देशभर में कुल 27,380 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

खबर के अनुसार, बाढ़ पूर्वानुमान सेक्शन (एफएफएस) ने बताया कि मानसून सक्रिये है और देशभर में ज्यादातर स्थानों पर दो से तीन दिनों तक बारिश जारी रहेगी। मूसलाधार बारिश के कारण नदियां उफान पर हैं। बागमती, कमला, सप्तकोशी और उसकी सहायक नदी सूर्यकोशी में पानी खतरे के निशान को पार कर गया है। इस बीच, मौसम विशेषज्ञों ने इतने कम समय में भारी बारिश की वजह जलवायु परिवर्तन को बताया।

बिहार के कई जिलों में बाढ़ से हालात बदतर हो चुके हैं। राज्य में रविवार को चार लोगों की मौत हो गई, जबकि नौ जिलों में 18 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। नेपाल के तराई क्षेत्र में लगातार हो रही मूसलाधार बारिश की वजह से बिहार की पांच नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को उच्चस्तरीय बैठक बुलाई, जिसमें अधिकारियों को बाढ़ से निपटने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश देने के साथ ही सभी जिलों में राहत और बचाव कार्य चलाने को भी कहा गया है। बैठक में जल संसाधन मंत्री संजय झा, मुख्य सचिव दीपक कुमार विकास आयुक्त सुभाष शर्मा व अन्य अधिकारी मौजूद रहे। इस बीच, मौसम विभाग ने अगले चार दिनों में कई जगहों पर तूफान की चेतावनी जारी की है।

 

बाढ़ ने दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, मोतिहारी और शिवहर, सुपौल, मुजफ्फरपुर में बाढ़ ने भारी तबाही मचाई है। अररिया में दो, शिवहर और किशनगंज जिले में एक-एक मौत हुई है। सीतामढ़ी जिले में 11 लाख, जबकि अररिया में 5 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 12 टीमों को बचाव और राहत कार्यों में लगाया गया है।

सुपौल जिले में कोसी नदी का जलस्तर बढ़ने से लगभग 50 हजार लोग प्रभावित हो चुके हैं। मुजफ्फरपुर के औराई में एक दर्जन से अधिक गांव मे बाढ़ का पानी घुस गया है, जिसके बाद लोगों को ऊंची जगह पर शरण लेनी पड़ी है। यहां आपदा प्रबंधन की टीमें लोगों को राहत पहुंचाने के काम में जुटी हुई हैं। छह जिलों में लोगों का खाना मुहैया कराने के लिए 16 से ज्यादा सामुदायिक रसोई घरों बनाए गए हैं।

नीतीश ने किया हवाई दौरा

बैठक के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ से प्रभावित पांच जिलों का हवाई दौरा किया। नीतीश ने दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, मोतिहारी और शिवहर में हालातों का जायजा लिया और अधिकारियों को बचाव व राहत कार्यों का दायरा बढ़ाने का निर्देश दिया।
असम में 11 मरे, 26 लाख से ज्यादा प्रभावित
असम में रविवार को बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 पहुंच गई, जबकि राज्य के 28 जिलों में करीब 26.5 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक, जोरहाट, बाड़पेट और धुबरी जिले में रविवार को चार लोगों की मौत हो गई।

बाड़पेट में सबसे ज्यादा 7.35 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। मौसम विभाग ने आने वाले दिनों और ज्यादा बारिश की आशंका जताई है, जिससे ब्रह्मपुत्र नदी के जलस्तर में और इजाफा होगा। इससे हालात और बिगड़ेंगे।

 

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: