Mon. Nov 19th, 2018

अधिकार बिहिन संविधान २०७२ संशोधन का इंतजार कर रही है

बारा | आदि काल से चली आ रही प्रथा अन्तर्गत हम पर्व त्यौहार मनाते आ रहें हैं |  अभी दिपावली तथा छठ पर्व के पवित्र अवसर पर पुरे देशवाशियो के प्रति शुख ,शान्ति , स्मृधी ,सु – स्वस्थ्य एवम उत्रोतर प्रगति की कामना करतें हैं | अन्धेरे पे प्रकाश , असत्य पर सत्य , स्वक्षता एवम सर-सफाइ के ईश पर्व को आज भी नेपाल की आधी आवादी मधेसी तथा थारु समुदाय के लोग अन्धकारमय दिपावली मनाने को बाध्य है | क्योंकि अधिकार बिहिन संविधान २०७२ संशोधन का इंतजार कर रही है | इस विषय को लेकर देश मे हो रहे तमाम राजनीति गतिविधि पे क्रान्तिकारी युवा संघर्स समिति , बारा नेपाल का गम्भीर ध्यानाकर्षण हुआ है ! तसर्थ नेपाल के प्रधानमन्त्री के पी ओलि नेपाल  हरेक नगरिको के प्रती उतर दायी हो और संविधान सन्सोधन को लेकर हो रहे बिबादो को तुरन्त समाधान करे ! अगर संशोधन में कंजूसी की गयी तो इसका अंजाम बुरा हो सकता है | इतिहास गवाह है जब जब युवा जगा है , तब तब इतिहास ने करवट बदली है ! यहि दो सब्दो के साथ आँप सबो मे जय क्रान्ति का उद्घोश है !

अरुण कुमार सिंह, अध्यक्ष क्रान्तिकारी, युवा संघर्स समिति ,बारा (नेपाल )

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of