Mon. Nov 18th, 2019

About

हिमालिनी नेपाल से प्रकाशित होने वाली क वर्ग में सूचिकृत मासिक हिन्दी पत्रिका है । यह १९९८ से लगातार प्रकाशित होती आ रही है । सूचना और संचार जगत में हिमालिनी ने अपनी एक महत्वपूर्ण स्थिति दर्ज करा ली है । यह पत्रिका सिर्फ नेपाल में ही लोकप्रिय नहीं है, बल्कि भारत में बिहार राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में जैसे दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, सुरसंड और उत्तर प्रदेश के कई क्षेत्रों में भी अपनी पहचान बनाए हुए है । जाहिर सी बात है कि हिमालिनी ने नेपाल और भारत के बौद्धिक जगत को जोड़ने का भी काम किया है । अपने शुरुआती दौर में हिमालिनी का प्रकाशन त्रैमासिक होता था । किन्तु, हिमालिनी की बढ़ती लोकप्रियता और साहित्य समाज, बुद्धिजीवी वर्ग के बीच इस पत्रिका ने अपने आपको स्थापित किया जिसके परिणामस्वरूप इसके प्रकाशन को त्रैमासिक की जगह मासिक किया गया । यह पत्रिका मधेश के विचारों की संवाहक पत्रिका है, इतना ही नहीं हिमालिनी मधेश की आवाज भी है । खास कर देश की राजनीतिक उतार–चढ़ाव पर इसकी तीक्ष्ण नजर रहती है और साथ ही यह कोशिश भी कि बिना किसी पूर्वाग्रह के समाचार का सम्प्रेषण किया जाय । राजनैतिक सांस्कृतिक और सामाजिक विचारों को ईमानदारी के साथ सम्प्रेषित करने की जिम्मेदारी हिमालिनी विगत एक दशक से भी अधिक वर्षों से करती आ रही है और दिन प्रतिदिन खुद को नए तेवर के साथ पाठकों के समक्ष ला रही है ।

सलाहकार सम्पादक :जयकान्त लाल दास,पुष्पा ठाकुर
सम्पादक:डॉ. श्वेता दीप्ति
वीरगंज ब्यूरो :कुमार सच्चिदानन्द सिंह
राजविराज प्रमुख:करुणा झा

विशेष सम्वाददाता
कैलास दास जनकपुर),
रत्नेश्वरकुमार झा जलेश्वर)
गोविन्द न्यौपाने (हेटौडा),
विनय दीक्षित (नेपालगन्ज)
क्षेत्रीय प्रबंधक
अरुण कुमार मिश्र
बारा–पर्सा प्रभार
मुरली मनोहर तिवारी

प्रबन्ध निदेशक:सच्चिदानन्द मिश्र
सह–महाप्रबंधक:रवीन्द्र झा
डिजाइनर :लीलानाथ गौतम
मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव:कृष्ण मुरारी मिश्र

कार्यालय व्यवस्थापक:राजनारायण यादव

बाजार व्यवस्थापन
अखिल सिंह (वीरगंज
दिनेश शर्मा (जनकपुर),
वरुणमाला मिश्रा, (विराटनगर),
प्रभा सिंह (गौर),
सिकेन्द्रसिंह यादव, (मोरङ)
भारत कार्यालय
डॉ. लारी आजाद, दिल्ली

2 thoughts on “About

  1. कहानी प्रकाशन हेतु मार्गदर्शन करें……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *