Sun. May 19th, 2019

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

1
Leave a Reply

avatar
1 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
1 Comment authors
BINOD PASWAN Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
BINOD PASWAN
Guest
BINOD PASWAN

दिल दहलादेनेवाले इस घिनौने कृत्यका जितना भी भर्त्सना करें कम है . अपराध का कोई जात या धर्म नहीं होता, ऐसे जघन्य अपराधीको कड़ी से कड़ी सजा होनी चाहिए . मीडियाके तरफ से भी ऐसे अपराधके बिषयपर जातीय टिप्पणी देना/जातीयतासे जोड़ना या अन्य किसी जाति/ समुदायको दोषी या निर्दोषी बताना पत्रकारिताका नित्तांत मर्म बिपरीत होगा . ऐसे मामलोंमें मीडिया सजग रहे . अपराधीको उन्मुक्ति किसी हालत में नहीं होनी चाहिए .