Mon. Nov 19th, 2018

वैश्वीकरण के दौर में विस्तार पा रही है हिन्दी

हिमालिनी, अप्रैल 2018 अंक । इस वर्ष विश्व हिन्दी दिवस पर भारतीय दूतावास द्वारा आयोजित कार्यक्रम का विषय था “हिन्दी का वैश्वीकरण” । आज के परिेप्रेक्ष्य में एक सामयिक विषय है ये । जिसकी चर्चा किसी खास दिन या महीने में नहीं होती बल्कि हिन्दी को लेकर यह बहस निरन्तर जारी है । नेपाल में हिन्दी के अस्तित्व को लेकर हिन्दी प्रेमियों और भाषाभाषियों को चिन्ता होती रहती है । विदेशी भाषा कह कर आज तक हिन्दी को यहाँ संवैधानिक मान्यता नहीं मिली है । जबकि नेपाल के इतिहास में हिन्दी का अपना एक महत्तवपूर्ण स्थान है । यहाँ के राजनीतिक परिवर्तन और शैक्षिक विकास में हिन्दी का अमूल्य योगदान है । लेकिन आज इसे सही स्थान नहीं मिल रहा । पर एक सुखद पहलू ये है कि यहाँ हिन्दी के विरोध की बातें चाहे जितनी भी हो जायँ पर आम जनता में  हिन्दी से लगाव भी दिख ही जाता है । इसका उदाहरण हर वर्ष भारतीय दूतावास द्वारा आयोजित हिन्दी दिवस के कार्यक्रम में बखूवी देखने को मिलता है । काफी उत्साहित होकर लोग कार्यक्रम में आते हैं और हिन्दी की चर्चा में शामिल होते हैं । इतना ही नहीं हिन्दी की रचनाओं को भी मनोयोग के साथ प्रस्तुत करते हैं । ये बातें जाहिर करती है कि राजनीतिक स्तर पर चाहे जितना भी विरोध हो हिन्दी से स्नेह रखने वालों की कमी नहीं है । उक्त कार्यक्रम में हिन्दी के वरिष्ठ लेखक डा. रामदयाल राकेश ने अपने विचार रखते हुए कहा था कि विश्व में नेपाल ही वह देश है जहाँ भारत के बाद सबसे अधिक हिन्दी भाषा–भाषी बसते हैं । बावजूद इसके हिन्दी की दशा यहाँ संतोषजनक नहीं है । हिन्दी दिवस को और भी बृहत रूप से मनाने के लिए प्रतिबद्ध भारतीय दूतावास के डीसीएम डा.अजय कुमार ने कहा है कि इस दिन को अब विद्यालयों से जोड़ा जाएगा जिससे बच्चों को भी अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिल पाएगा । निःसन्देह यह एक अच्छा प्रयास होगा यह उम्मीद है । वैश्विक स्तर पर हिन्दी के बढ़ते आयाम से अब इनकार करने का समय नहीं है । विश्व हिन्दी दिवस की परम्परा पर एक विहंगम दृष्टि कार्यक्रम संचालक अताशे रघुवीर शर्मा जी ने डाली थी । जिससे इस परम्परा को गहराई से जानने का अवसर मिला  साथ ही देश विदेशों में हिन्दी की अवस्था पर भी जानकारी मिली ।


हम सभी जानते हैं कि विश्व में अँग्रेजी के बाद चीनी भाषा को दूसरा स्थान प्राप्त है और यह माना जाता है कि चीनी सबसे अधिक लोगों के बीच बोली जाती है । विश्व में लगभग पैंतीस सौ भाषाएँ बोली जाती हैं जिनमें पाँच सौ ऐसी भाषा है जिसका लिखित रूप नहीं है । सोलह ऐसी भाषा है जिसे पाँच करोड़ से अधिक लोग बोलते हैं जिनमें अरबी, अँग्रेजी, इतालवी, उर्दु, चीनी परिवार की भाषाएँ, जर्मन, जापानी, तमिल, तैलगु, पुर्तगाली, फ्रांसीसी, बंगला, रुसी, स्पेनी और हिन्दी । यह हिन्दी के लिए गौरव की बात है कि सोलह सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा में हिन्दी शामिल है । १३७ देशों में हिन्दीभाषी रहते हैं किन्तु अफसोस कि इसका सही आँकड़ा हमारे समक्ष नहीं है । जिसकी वजह से चीनी भाषा दूसरे स्थान पर है और इसका सबसे बड़ा  एक कारण यह है कि चीनी भाषा में लगभग सत्तर भाषा एवं उपभाषाओं को शामिल किया गया है जो विश्व के कई देशों में बोली जाती है । इन सभी को मंदारिन में शामिल कर के यह तथ्य लाया गया कि चीनी भाषा विश्व में दूसरे स्थान पर है । जबकि सच्चाई यह है कि इसमें से कई भाषा को लोग आपस में नहीं समझते । परन्तु विडम्बना यह है कि हिन्दी से उन सभी भाषाओं और उपभाषाओं को अलग कर दिया गया जो एक समान एक ही लिपि के हैं और जिन्हें सभी समझते हैं,  यही वजह है हिन्दी का विश्व में तीसरे स्थान पर होना । अगर हम जुड़ें तो इस बात से कोई नहीं नकार सकता कि हिन्दी विश्व की पहली भाषा बनने में सक्षम है । आवश्यकता एक ऐसे मानक पद्धति की है जो सभी भाषाओं के तथ्याँक को सामने लाने के लिए प्रयोग किया जाय ।
भाषा क्या है ? सहज शब्दों में कहें तो विचारों को व्यक्त करने का माध्यम है भाषा । मानव को समस्त प्राणियों में श्रेष्ठ कहा गया है, क्योंकि इसके पास मस्तिष्क है, और इस मस्तिष्क में उपजते हैं विचार । इन विचारों को अभिव्यक्त होने के माध्यम की जरूरत होती है ।  यों तो मौन भी मुखर होता है किन्तु अभिव्यक्ति के स्तर पर भाषा ही वह माध्यम है जिससे विचार, अनुभव और भाव मूर्त रूप धारण करते हैं । भाषा वस्तुतः व्यक्ति मात्र की पीड़ाओं, उल्लासों और संवेदनाओं का एक अनुवाद है । भाषा वैचारिक और मानस पटल पर उद्वेलित होने वाली भावनाओं का प्रतिबिम्ब है । विश्व में कई भाषाएं बोली जाती हैं और सम्भवतः सभी भाषाएं आपस में संवेदना के स्तर पर जुङाव रखती है परन्तु हिन्दी भाषा अपनी सहजता और लचीलेपन के कारण इस संवेदनशीलता की इस विशेषता के अत्यÞन्त निकट है । हिन्दी शब्द पूर्व में  भारतीयता या भारत से संबंध का द्योतक था जो कि प्रायः अभारतीयों द्वारा प्रयोग में लाया जाता था, अर्थात् वे लोग जो भारत से आए हैं या भारतीय हैं उन्हें और उनकी बोली को हिन्दवी कहते थे । कालांतर में यह शब्द हिन्दी प्रदेश की उपभाषाओं एवं बोलियों के लिए भी प्रयुक्त होने लगा । हिन्दी के इतिहास पर नजर डालें तो पाते हैं कि इसका इतिहास हजार वर्षों से भी पुराना है तथा यह भाषा अपनी विकास प्रक्रिया में एक गतिशील नदी की तरह बहती हुई निरन्तर जटिलता से सरलता की ओर अग्रसर होती गई ।


आज हम जिस समृद्ध हिन्दी को बोलते और अभिव्यक्त करते है उसके विकास की भी अपनी कहानी है । शैशवावस्था में हिन्दी अपभ्रंश के बहुत निकट थी । १०००÷११०० ई. के आस पास तक हिन्दी का कुछ ऐसा ही मिला जुला रूप था । उस समय इसका व्याकरण भी अपभ्रंश का ही प्रतिरुप था.अनेक परिवर्तनों को संजोए हुए ,अवधी और ब्रज के सानिध्य में १५०० ई. तक आते आते हिन्दी स्वतंत्र रूप से अपनी पहचान बना कर वर्तमान स्वरूप में आने लगी । हिन्दी साहित्य का मध्यकाल १५००—१८०० आक्रमणों का काल था अतएव विदेशी आक्रमणकारियों की भाषा संस्कृति का प्रभाव पड़ना स्वाभाविक था जिसके परिणामस्वरुप हिन्दी में तुर्की व फारसी शब्दों का समावेश बहुतायत से हुआ । इसी दौर में व्यापार के माध्यम से विदेशी सम्पर्क भी बढ़ने लगा अतः पूर्तगाली, स्पेनी, फ्रांसीसी और अंग्रेजी भाषा के शब्दों का समावेश भी हिन्दी में हुआ । ठीक इसी समय पिंगल, मैथिली, ब्रजभाषा और खङी बोली का स्वर्णिम साहित्य रचा गया । मुगल काल में उर्दू का उद्भव हुआ और उर्दू के कई शब्द हिन्दी भाषा में रच बस गए । भारत जैसे विविधता पूर्ण राष्ट्र में हिन्दी ने सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका परतंत्रता से मुक्ति दिलाने में निभाई । हिन्दी वह भाषा थी जो प्रथम स्वतंत्रता संग्राम हो या उसके बाद चले आंदोलन, देश भर में आजादी की अलख जगाने में सेतु बनी खास कर उत्तर भारत में । यही वजह रही कि स्वतंत्रता के पश्चात अंग्रेजों की ओर से बनाई व्यवस्था में हर काम अंग्रेजी में होने और अभिजात्य वर्ग के अंग्रेजी का प्रयोग करने के बावजूद २२ बोलियों से युक्त हिन्दी को राजभाषा का दर्जा दिया गया ।
हिंदी भाषा का साहित्य भी आज विविध विधाओं के माध्यम से वैश्विक फलक पर अपना स्थान बना रहा है । उत्कृष्ट लेखन व हिंदीतर श्रेष्ठ साहित्य का अनुवाद इस भाषा को मांझ कर इसके  वैश्विक स्वरूप को प्रभावी रूप से प्रस्तुत कर सकता है जो कि भूमंडलीकरण के इस दौर में परम आवश्यक है ।
आज हिन्दी के प्रचार में पत्र पत्रिकाओं के साथ साप्ताहिक, पाक्षिक एवं मासिक पत्र भी अपनी महती भूमिका निभा रहे हैं, लेकिन हिन्दी को बढ़ावा दे कर सहारा बन रहे इन माध्यमों से ही हिन्दी को सबसे बड़ा खतरा भी है । ये माध्यम बोल चाल की भाषा के नाम पर विदेशी भाषा के व्यामोह से स्वंय को मुक्त नहीं कर पा रहे हैं और इनमें प्रयुक्त भाषा में अंग्रेजी शब्दों की बहुतायत होने लगी है परिणाम है कि हिंदी के स्वरूप में बदलाव आ रहा है और हिंग्लिश के रूप में एक नया अपभ्रंश रूप अवतरित होने लगा है । वर्तमान में अंग्रेजी भाषा का प्रयोग केवल भाषागत आवश्यकता के लिए ही नहीं होता अपितु एक सामाजिक स्तर प्रदर्शन के रूप में किया जा रहा है । सह राजभाषा के पद पर आसीन अंग्रेजी को आज विकास का पर्याय माना जा रहा है । मध्यवर्ग इस प्रवृत्ति को अधिक ओढ़ रहा है यही कारण है कि कई बार हिंदी की स्थिति शोचनीय लगती है परन्तु साथ ही इसके प्रसार को देखकर आश्वस्ति होती है कि तुमुल कोलाहल में भी हिंदी अपनी शांत, सौम्य परन्तु दमदार उपस्थिति दर्ज करा रही है । यह हिंदी की लोकप्रियता का ही प्रमाण है कि आज संचार के अत्याधुनिक साधनों मोबाइल और इन्टरनेट जहां अंग्रेजी का एकछत्र राज्य हुआ करता था वहां भी यह भाषा विस्तार प्राप्त कर रही है । आज इन यंत्रों पर देवनागरी टंकण हेतु अनेक एप्स उपलब्ध हैं जिससे हिंदी लोकप्रिय हो रही हैं । तकनीकविज्ञों के अनुसार हिन्दी कम्प्यूटर इत्यादि के लिए संस्कृत के पश्चात सर्वश्रेष्ठ भाषा माध्यम है और इसका कारण इसकी ध्वन्यÞात्मक प्रकृति है । हिन्दी विश्व की बिरली भाषा है जो ध्वनि संचरित है । हिंदी पूरी तरह से सक्षम और समर्थ भाषा है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता तो यह है कि इसे जैसे बोला जाता है वैसा ही लिखा भी जाता है । यानी हिंदी भाषा पूरी तरह से ध्वनि और उच्चारण आधारित भाषा है । यह खूबी विश्व की अन्य किसी भी भाषा में नहीं है । अंग्रेजी सहित विश्व की अन्य भाषाओं के लिखने और बोले जाने में काफी अंतर होता है । हिंदी भाषा का जन्म संस्कूत भाषा से हुआ है । वैज्ञानिकों द्वारा संस्कृत और हिंदी भाषा को ध्वनि विज्ञान और दूरसंचारी तरंगों के माध्यम से अंतरिक्ष और अन्य अज्ञात सभ्यताओं को संदेश भेजे जाने के लिए भी सर्वाधिक उपयुक्त पाया गया है ।


वैश्वीकरण, बाजारीकरण और सूचना क्रांति के इस दौर में तत्क्षण बदलते वैश्विक परिदृश्य के बीच हिंदी भाषा एक नए जोश के साथ उभर रही है । आज भारत वैश्विक अर्थजगत में महाशक्ति बनकर उभर रहा है । विश्व के सर्वाधिक शक्तिशाली माने जाने वाले देश अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा तो अपने देश के नागरिकों को कई बार हिंदी सीखने की सलाह दे चुके हैं क्योंकि उन्हें भी लगता है कि भारत एक उभरती हुई विश्व शक्ति है और भविष्य में हिंदी सीखना अनिवार्य होगा । व्यवसाय की दृष्टि से देखें तो बाजार बिकने वाली वस्तु की ताकत को देखता है । हिंदी भाषा में वह ताकत है । यही कारण है कि आज सर्वाधिक विज्ञापन भी हिंदी में आते हैं । इंटरनेट और सोशल मीडिया पर भी हिंदी का प्रभाव बढ़ रहा है । अब कई साफ्टवेयर और हार्डवेयर अंतर्निर्मित हिंदी यूनिकोड की सुविधा के साथ आ रहे हैं । इससे हिंदी की तकनीकी समस्याएं लगभग समाप्त हो गई हैं ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of