Fri. Feb 22nd, 2019

बेटी वा बेटा, दोनों अपना खून, तो भेद कैसा : अंकिता सुमार्गी

radheshyam-money-transfer

हाइकु                                                                                                                                                                                                           अंकिता सुमार्गी

आजका दिन
करता है स्वागत
आप सभी का

बुद्धका देश
हमारी मातृभूमि
नेपाल देश

ठण्डी की धूप
सरकारी नौकरी
मजेकी नीद

भरे से नहीं
खाली पेटसे पूछो
रोटी की चाह

विश्व बचाओ
हरियाली बढ़ाओ
पेड लगाओ
हिन्दू मुश्लिम
हम सभी का इन्सान
तो बैर कैसा ?

प्रेम विकास
दो देशोंका मिलन
देश विकास

बेटी वा बेटा
दोनों अपना खून
तो भेद कैसा

स्वर्ग वही जहां
नारी सम्मान
उन्नति वही

क्यू पूजते हो ?
पत्थर के भगवान
पूजे माँ पिता
सहारे बने
है बेवस लाचार
वृद्ध अवस्था

सावन झरी
दे तन को शीतल
वर्खा बहार

लगाई मैने
सवान की मेहन्दी
तेरे नाम की

बहू बेटियां
बांधे दो परिवार
दोनों है शान

बिटिया नहीं
दूसरे की बेटी से
बेटा चाहिए
बेटी बचाओ
कुंवारी ही मरेंगे
कुल विनाश

देवी की पूजा
मन्नते जगराते
बेटे के लिए

पवित्र नदी
मनमोहक प्रकृति
देश नेपाल

प्रेम मिलन
साहित्य जमघट
सुन्दर दृश्य

अंकिता सुमार्गी

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of