Wed. Nov 21st, 2018

नेपाली भाषा और साहित्य के लिए महत्वपूर्ण अवसर : लक्ष्मण गाम्नागे

लक्ष्मण गाम्नागे, काठमांडू, (नेपाल)
लक्ष्मण गाम्नागे, काठमांडू, (नेपाल)

सन्दर्भ : नेपाल भारत साहित्यिक सम्मेलन 2018

हिमालिनी अंक सितम्बर २०१८ नेपाल और भारत दोनों देशों के लिए यह एक महत्वपूर्ण महोत्सव है । भारत और नेपाल के दूर–दूर से साहित्यकार तथा कवि यहां (वीरगंज) इकठ्ठा हुए हैं । मुझे लगता है कि नेपाली और हिन्दी साहित्य के बीच में यह महोत्सव एक पुल का काम करेगी । दोनों देशों के साहित्यकारों के लिए आपसी भाषा और संस्कृति समझने के लिए इससे महत्वपूर्ण अवसर दूसरा नहीं हो सकता । हमारे लिए तो और भी ज्यादा महत्वपूर्ण अवसर है । मैं तो चाहता हूं कि अब नेपाली भाषा और साहित्य को अनुवाद कर हिन्दी तथा अन्य भाषा–भाषियों के बीच ले जाना चाहिए । उसके लिए यह एक महत्वपूर्ण अवसर है ।
मेरे खयाल से अधिकांश नेपाली हिन्दी समझते हैं, लेकिन सभी भारतीय साहित्यकार नेपाली नहीं समझते हैं । उन लोगों के लिए भी नेपाली भाषा और साहित्य पढ़ने का यह एक अवसर है । नेपाली और हिन्दी दोनों देवनागरी लिपि में लिखा जाता है । भाई–भाई के बीच जो सम्बन्ध होता है, उसी तरह का सम्बन्ध हिन्दी और नेपाली के बीच है । इसीलिए नेपाली तथा हिन्दी समझने में ज्यादा दिक्कत नहीं है । हां, राजनीतिक वृत्त में जो उतार–चढावपूर्ण सम्बन्ध है, लेकिन जनता–जनता बीच उस तरह का संबंध नहीं है । अगर है भी, तो इस तरह का कार्यक्रम करने से आपसी संबंध में मजबूती आ जाएगी ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of