Tue. May 21st, 2019

मुझे जनता ने चुना था इसलिए मैं जेल में हूँ और अलग देश की माँग करने वाला बाहर : रेशम चाैधरी

जनकपुर–१२ मई

प्रदेश नम्बर ५ स्थित कैलाली के टिकापुर घटना के आरोप मेें कैद रेशम चौधरी की रिहाई की माँग करते हुए थारु समुदाय ने राष्ट्रिय भेला सम्पन्न किया है । ‘रेशम चौधरी बचाउ अभियान’ की अगुवाई में सप्तरी में हुए जमघट में  रेशम चौधरी काे निर्दाेष बताया गया और इस सम्बन्ध में पाँच बुँदे माँग बढाया गया ।

संविधान संशोधन, थरुहट प्रदेश की स्थापना, विभिन्न सरकार द्वारा थरुहट के साथ की गई सहमति का  कार्यान्वयन, टिकापुर घटना छानविन आयोग के प्रतिवेदन का सार्वजनिकीकरण और टिकापुर घटना के बाद थारुओं के उपर हुए दमन, हिंसा आगजनी और बलात्कार में संलग्न व्यक्ति के उपर कारवाही सहित ५ बुँदे मा‌ंग रखा गया है ।

टिकापुर घटना में संलग्न रहने के आरोप में ४२ महीना जेल जीवन बिता कर बाहर आए लक्ष्मण थारु ने कहा कि वर्तमान संविधान थारुओं काे स्वीकार्य नहीं है संविधान के ३५ बुँदा में संशोधन किए जाने की आवश्यकता है ।

थारु समुदाय के अधिकार प्राप्ति के लिए  आन्दोलन ही एक विकल्प रह गया है ।  उन्हाेंने कहा कि ‘काँग्रेस और नेकपा के जैसा हमें शहीद बनाने वाला आन्लेदाेलन नहीं चाहिए । हम शांतिपूर्ण और सशक्त आन्दाेलन करेंगे ।  १२ वर्ष के जनयुद्ध में ३ हजार थारुओं ने अपनी जान गँवाई बम बनाने और फाेडना हमें भी आता है पर हम यह नहीं करना चाहते हैं । हम बुद्ध के संतान हैं हम शाँति से अपनी बात रखना चाहते हैं । सरकार काे हमारी माँग सुननी चाहिए और पूरी करनी चाहिए ।

कारागार से रेशम चौधरी द्वारा भेजे गए पत्र काे शुभकामना सन्देश काे दाङ के महेश थारु ने पढ कर सुनाया था ।  । उक्त सन्देश में चौधरी ने सिके राउत की ओर संकेत करते हुए कहा गया था कि मुझे ज्यादा वाेट देकर चुना गया था इसलिए मैं जेल मे् हूँ और अलग देश का माँग करने वाला बाहर है ।  आगे उन्हाेंने लिखा था कि हम इसी देश के आदिवासी हैं हम अपराधी कैसे हाे गए । उन्हाेंने कहा कि जेल में व्यक्ति काे कैद रखा जा सकता है विचाराें काे नहीं । मैं एक व्यक्ति हूँ पर मेरे विचार सम्पूर्ण थारु जाति के हैं । थारु काेई दुकान में रखी हुई चीज नहीं है जिसे जब चाहे खरीद ले या बेच दें ।

कार्यक्रम में बाेलतु हुए राजपा के महासचिव समेत रहे आदिवासी जनजाति नेता राजकुमार लेखी ने कहा कि रेशम चौधरी की रिहाइ अवश्य हाेगी । प्रदेशसभा सदस्य विन्देश्वर यादव ने कहा कि थारु हक अधिकार विरुद्ध जाे थारु नेता है् उनका बहिष्कार किया जाना चाहिए । ।

कार्यक्रम में भारत–नेपाल सामाजिक सांस्कृतिक मञ्च के भारत के अध्यक्ष राजेश कुमार शर्मा ने कहा कि रेशम चौधरी का मुद्दा थारू आन्दोलन के लिए ही नही है पूरे मधेश के लिए है ।
संघर्ष समिति के संयोजक रमाकान्त थारु (राज थारु) की अध्यक्षता में सम्पन्न समाराेह में सांसद चन्द्रकान्त चौधरी, संघर्ष समिति की कल्पना चौधरी आदि ने सम्बोधित किया था । सम्मेलन में झापा, मोरङ, सुनसरी, सप्तरी, दाङ, कैलाली आदि के थारु प्रतिनिधियाें की सहभागिता थी ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of