Thu. Apr 18th, 2019

बिचार

नेपाली और मधेशी दोनो अलग अलग राष्ट्रियता के रूपमे स्थापित हो चुके हैं : विकास प्रसाद लोध

विकास प्रसाद लोध, लुम्बिनी | विगत कुछ दशक से आन्दोलित मधेश एवम नेपाल मे हाल

पाठ्यक्रम के आधार पर शिक्षकों कीयवस्था होनी चाहिए : डॉ. नारायणप्रसाद उपाध्याय

संसार के हर समृद्ध विश्वविद्यालयों में सेमेस्टर प्रणाली लागू हुई है । इसी को मद्देनजर

राकेश मिश्र संबंधी समाचार के बारे में रिपब्लिका के सम्पादक घिमिरे को एक पत्र

सम्पादक श्री सुभाष घिमिरे जी, कुछ साल पहिले, आप कसमस विश्वकर्मा के बदले ‘रिपब्लिका’ दैनिक

हमारा संघर्ष विखण्डन के लिए नहीं, पहचान के लिए हैं (भाग २)

पहचान में आधारित राज्य व्यवस्था हमारा संघर्ष पहचान में आधारित संघीय राज्य निर्माण के लिए

साहब ये लोकतंत्र है,एक-दुसरे पर कीचड उछालना इसका मूलमंत्र है : मुरलीमनोहर तिवारी (सिपु)

मुरलीमनोहर तिवारी (सिपु), वीरगंज | लोकतंत्र में सत्ता का अंतिम सूत्र जनता के हाथ में

अब तो मधेश भी मधेशी नेतृत्वों के हाथ से निकल गयी : कैलाश महतो

कैलाश महतो, परासी | मधेश के इतिहास से अनभिज्ञ रहे राजनीतिज्ञ, बुद्धिजिवी और कुछ पत्रकार

एमाले, माओवादी, नयाँ शक्ति के बीच एकिकरण है या बृहत ब्राह्मण एकता सम्मेलन ? अमरदीप मोक्तान

अमरदीप मोक्तान, डाडा खर्क ,दोलखा |  काठमाडौँ १७ गते मंगलबार २०७४ को साँम ५ बजे

कोठली बाहर मतदान अभियान ने मधेशी को मंजिल के करीब ला दिया : श्यामसुन्दर मण्डल

  श्यामसुन्दर मण्डल, भारदह | आजाद़ी_करीब_है “स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन”की आस्था, आदर्श और विचार ने मधेश

नेपाल अभी भी हिन्दू राष्ट्र है : पंडित प्रदीप (कार्यकारी सम्पादक ) दैनिक भास्कर

प्रदीप पंडित (कार्यकारी सम्पादक ) दैनिक भास्कर नमामि शमीशान निर्वाण रूपं । विभुं व्यापकं ब्रम्ह्वेद

ज्येष्ठ नागरिकों को अपमानित किया जाता है : इ.चन्द्रेश्वर प्रसाद रौनियार

ब्रहमपुरी [सर्लाही ]में जन्में चन्द्रेश्वर प्रसाद रौनियार सेवानिवृत इन्जिनीयर हैं । उन्होंने २९ वर्षों तक