Wed. Aug 5th, 2020

नेपालगञ्ज कें एक घरमालिक ने तीन महीनें का घरभाडा छूट किया है

  • 227
    Shares

नेपालगञ्ज, (बाँके) पवन जायसवाल । बाँके जिला के नेपालगञ्ज कें एक घरमालिक ने तीन महीनें का घरभाडा छूट किया है । कोरोना भाईरस के कारण दोकान ब्यवसाय बन्द होने के कारण (घरबेटी) घरधनी ने ३ महीना का भाडा किरायेदार को छूट किया है ।
नेपालगन्ज उप–महानगरपालिका वडा नं.–४ गणेशपुर चौक में रहा ७ सटर का भाडा घरधनी हाजी इन्तियाज अहमद हलवाई और उनके बडे भाई हाजी सब्बीर महमुद हलवाई ने घरभाडा छूट किया है ।
भाडा छूट होने के बाद भाडा में ब्यवसाय सञ्चालन करते आ रहें थे ब्यवसायियों ने आर्थिक रुप में टाट पल्टने की अवस्था में घरधनी ने जो भाडा छूट कर दिया इस लिये हम लोगों राहत हुआ है बताया ।
नेपाल कपडा तथा सिलाई व्यवसायी संघ बाँके ने बन्दाबन्दी के समय पर घरभाडा छूट करने के लिये प्रयास करते आया था ।
नेपाल कपडा तथा सिलाई व्यवसायी संघ बाँके के प्रयास में यूनिक टेलर्स एण्ड बुटिक, यूनिक अण्डा रोल और माँ दुर्गा इलेकिट्रकल्स ने संयुक्त रुप में कार्यक्रम की आयोजन करके घरमालिक हाजी इन्तियाज अहमद हलवाई और हाजी सव्वीर मेहमूद हलवाई को खादा ओढाकर सम्मान किये थे ।
वह कार्यक्रम यूनिक टेलर्स एण्ड बुटिक की सञ्चालिका द्रोपता वली के अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ था । घरमालिक हाजी इन्तियाज अहमद हलवाई ने अपनी विचार रखते हुये कहा कोरोना के कारण बिश्वब्यापी रुप में आर्थिक समस्या हुआ है मेरे घर में भाडा में रहनेवाले बन्दाबन्दी के समय पर मेरे तर्फ से होनेवाली सहयोग करने के लिये आश्वासन भी स्मरण कराया ।
नेपाल कपडा तथा सिलाई व्यवसायी संघ बाँके के अध्यक्ष शालिकराम नागबाग ने ब्यवसायिओं की समस्या समझकर घरभाडा छूट किया घरमालिको धन्यवाद ज्ञापन किया था ।
वह कार्यक्रम की अध्यक्ष द्रोपती ओली ने कही हम को तो घरमालिक जैसे नही नल रहा हमारे पिता जी जैसी व्यवहार करते है हम तो उन को अपना अभिभावक मानती हूँ बातायी ।
कार्यक्रम में नेपाल कपडा तथा सिलाई व्यवसायी संघ बाँके के सचिव मोहम्मद मोहसीन हलवाई, मोहम्मद सद्दाम हलवाई, फैसल मेहमूद हलवाई लगायत लोगों की उपस्थिति रही थी । कार्यक्रम की सञ्चालन किरायेदार माधव पौडेल ने किया था ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: