Tue. Jun 18th, 2019

साहित्य

गुल्जारे अदब बाँके द्वारा शुभकामना अदन प्रदान और गजल गोष्ठी

नेपालगन्ज,(बाँके) पवन जायसवाल । बाँके जिला के नेपालगन्ज में रहें उर्दू साहित्यकारों द्वारा नेपालगन्ज में

नेपाल भारत साहित्य संगोष्ठी का आयोजन, भारत से दर्जनों कवियों की सहभागिता

माला मिश्रा, बिराटनगर । नेपाल भारत मैत्री संघ बिराटनगर व जगन्नाथ गुरागाई साहित्य प्रतिष्ठान के

हे पार्थ ! मोह तजो गाण्डीव उठाओ……….प्रदीप बहराइची 

हे पार्थ ! मोह तजो गाण्डीव उठाओ………. प्रदीप बहराइची भय- पाप से व्याकुल धरती,अपनी धुरी

दिलीपदर्श की तीन गज़लें कत्ल होता चौक पे सच के सिपाही का। उधर गाता राग कातिल बेगुनाही का।   शब्द कल

स्त्री विमर्श के क्षेत्र में महिला लेखिकाएँ : मौसमी सिंह

हिमालिनी, अंक मार्च 2019 | स्त्री विमर्शः एक नारीवादी सिद्धान्त है । जिसके द्वारा स्त्री की

हिंदी साहित्य के पुरोधा आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी

पुण्यतिथि विशेष 19 मई हिंदी साहित्य के पुरोधा आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी का हिन्दी साहित्य

मुझे आज साहिल पे रोने भी दो कि तूफ़ान में मुस्कुराना भी है : मजाज़

असरारुल हक मजाज़ या मजाज़ लखनवी (जन्म: 19 अक्तूबर 1911—देहांत: 5 दिसंबर 1955) तत्कालीन साहित्य

श्री लूनकरणदास–गंगादेवी चौधरी साहित्यकला मन्दिर ने मनाया स्रष्टा सम्मान रजत महोत्सव (फोटो फिचर)

लिलानाथ गौतम काठमांडू, १० मई । नेपाली भाषा–साहित्य और गीत–संगीत–कला जगत के लिए परिचित नाम

पत्रकार स्वतन्त्र है किसी का गुलाम नहीं …..‘‘प्रेस की स्वतन्त्रता पर संवाद

             विश्व प्रेस स्वतन्त्रता दिवस पर ‘‘प्रेस की स्वतन्त्रता में अध्यात्म की भूमिका’’ विषय पर हुआ संवाद              जिलाधिकारी मंगलायतन विश्वविद्यालय

एक समीक्षात्मक अनुशीलन: रेत होते रिश्ते

 लेखिका: डॉ मुक्ता प्रकाशन: पेसिफिक बुक्स इंटरनेशनल मूल्य: 220 पृष्ठ: 128 समीक्षक  डॉ बीना राघव

देखो मधुमास के रंग यहाँ,सतरंगी कुशुमके संग यहाँ….नव वर्ष की शुभकामना : स्वामी देवस्वरूप (अजय)

अपना नववर्ष 2076 , स्वामी देवस्वरूप (अजय) नव वर्ष की शुभकामना मेरे सभी दिव्य आत्माओं,पूण्य

नेपालगन्ज में नया वर्ष २०७६ की पूर्व सन्ध्या में उर्दू साहित्यकारों द्वारा गजल गोष्ठी का आयोजन

नेपालगन्ज,(बाँके) पवन जायसवाल, चैत्र ३० गते । बाँके जिला की नेपालगन्ज में नया वर्ष २०७६

मौत आई तो जिंदगी ने कहा-‘आपका ट्रंक कॉल है साहब’ : नहीं रहे हास्य कवि प्रदीप चाैबे

१२ अप्रैल स्मृति शेष प्रसिद्ध हास्य कवि प्रदीप चौबे का निधन हो गया है। प्रदीप

क्यूँ मायूस हो तुम टूटे दरख़्त, क्या हुआ जो तुम्हारी टहनियों में पत्ते नहीं

टूटे दरख़्त (सुलोचना वर्मा) क्यूँ मायूस हो तुम टूटे दरख़्त क्या हुआ जो तुम्हारी टहनियों

नेपालगन्ज में नेपाल और भारत के उर्दू साहित्यकारों की गजल गोष्ठी

नेपालगन्ज,(बाँके) पवन जायसवाल । बाँके जिला के नेपालगन्ज में नेपाल और भारत के उर्दू साहित्यकारों