Sun. Jul 12th, 2020

तुम मिली और मैं उजालों से भर गया इस अंधेरी रात में मरुस्थल में उतरते चाँद की तरह…दुष्यंत कुमार

कहते हैं कि अगर किसी शायर को आप से मोहब्बत हो जाए तो आप कभी मर नहीं सकते

वेलेंटाइंस डे पर एक शायर के दिलकश कलाम या किसी कवि की हृदयस्पर्शी कविता से बेहतर कुछ भी नहीं.

इंसान के दुनिया में आने के साथ ही प्रेम दुनिया में आया और भाषा के बनने के साथ कविता. तो यहां पेश हैं आपके लिए हिंदी  से ली गईं कुछ प्रतिनिधि प्रेम कविताएं.

अमृता प्रीतम

मैं तुझे फिर मिलूँगी

कहाँ कैसे पता नहीं

शायद तेरे कल्पनाओं की प्रेरणा बन

तेरे केनवास पर उतरुँगी

या तेरे केनवास पर एक रहस्यमयी लकीर बन

ख़ामोश तुझे देखती रहूँगी

मैं तुझे फिर मिलूँगी

कहाँ कैसे पता नहीं

या सूरज की लौ बन कर

तेरे रंगो में घुलती रहूँगी

या रंगो की बाँहों में बैठ कर

तेरे केनवास पर बिछ जाऊँगी

पता नहीं कहाँ किस तरह

पर तुझे ज़रुर मिलूँगी

या फिर एक चश्मा बनी

जैसे झरने से पानी उड़ता है

मैं पानी की बूंदें तेरे बदन पर मलूँगी

और एक शीतल अहसास बन कर

तेरे सीने से लगूँगी

मैं और तो कुछ नहीं जानती

पर इतना जानती हूँ

कि वक्त जो भी करेगा

यह जनम मेरे साथ चलेगा

यह जिस्म ख़त्म होता है

तो सब कुछ ख़त्म हो जाता है

पर यादों के धागे

कायनात के लम्हों की तरह होते हैं

मैं उन लम्हों को चुनूँगी

उन धागों को समेट लूंगी

मैं तुझे फिर मिलूँगी कहाँ कैसे पता नहीं

मैं तुझे फिर मिलूँगी!!

महादेवी वर्मा की कविता

जो तुम आ जाते एक बार

कितनी करूणा कितने संदेश                                                                                                                            

पथ में बिछ जाते बन पराग                                                                                                                              

गाता प्राणों का तार तार                                                                                                                                    

अनुराग भरा उन्माद राग                                                                                                                                  

आँसू लेते वे पद पखार                                                                                                                                      

  जो तुम आ जाते एक बार

हँस उठते पल में आर्द्र नयन                                                                                                                              

धुल जाता होठों से विषाद                                                                                                                                  

छा जाता जीवन में बसंत                                                                                                                                

लुट जाता चिर संचित विराग                                                                                                                            

आँखें देतीं सर्वस्व वार                                                                                                                                      

  जो तुम आ जाते एक बार

स्मृति आदित्य

कल जब 
निरंतर कोशिशों के बाद, 
नहीं कर सकी 
मैं तुम्हें प्यार, 
तब
गुलमोहर की सिंदूरी छाँव तले 
गहराती 
श्यामल साँझ के
पन्नों पर 
लिखी मैंने 
प्रेम-कविता, शब्दों की नाजुक कलियाँ समेट 
सजाया उसे 
आसमान में उड़ते 
हंसों की 
श्वेत-पंक्तियों के परों पर, 
चाँद ने तिकोनी हँसी से 
देर तक निहारा मेरे इस पागलपन को, 
नन्हे सितारों ने 
अपनी दूधिया रोशनी में
खूब नहलाया मेरी प्रेम कविता को, कभी-कभी लगता है कितने अभागे हो तुम 
जो ना कभी मेरे प्रेम के 
विलक्षण अहसास के साक्षी होते हो 
ना जान पाते हो कि 
कैसे जन्म लेती है कविता। 
फिर लगता है कितने भाग्यशाली हो तुम 
कि मेरे साथ तुम्हें समूची साँवल‍ी कायनात प्रेम करती है, 
और एक खूबसूरत प्रेम कविता जन्म लेती है सिर्फ तुम्हारे कारण।

दुष्यंत कुमार

तुम्हारे मिलने से
मिली सूरज की किरण
मेरी आँखों में हो गयी शामिल
और मेरी रोशनी
असीम हो गयी
सच
तुम मिली और
मैं उजालों से भर गया
इस अंधेरी रात में
मरुस्थल में उतरते चाँद की तरह…

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: