Tue. Jul 16th, 2024

७६ वर्षीय गाणेश जिसी की सातवीं कृति “मृत्युफूल कथा संग्रह” का बिमोचन 

नेपालगन्ज/(बाँके) पवन जायसवाल ।  बाँके जिला के नेपालगन्ज में रही भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति कीे भाषा तथा समालोचना विभाग की आयोजन में ७६ बर्षीय वरिष्ठ साहित्यकार÷कृतिकार गणेश बहादुर जिसी की सातवींं कृति मृत्युफूल कथा संग्रह कृति विमोचन समीक्षा एवं रचना वाचन कार्यक्रम एक कार्यक्रम के बीच सम्पन्न हुआ है ।



भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति के महासचिव तथा विश्व नेपाली साहित्य महासंघ नेपाल लुम्बिनी प्रदेश अध्यक्ष लेक प्रसाद प्याकुरेल कीे अध्यक्षता में, नेपाल प्रज्ञा प्रतिष्ठान के पूर्व सदस्य सचिव तथा वरिष्ठ कथाकार सनत कुमार रेग्मी के प्रमुख आतिथ्य में सम्पन्न हुआ । वह कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि सनत कुमार रेग्मी ने पानस में दीप प्रज्वलित करके बिधिवत रुप से कार्यक्रम उद्घाटन किया था ।

वह कृति के कृतिकार नेपालगन्ज उपमहानगरपालिका वार्ड नं.६ फुल्टेक्रा के निवासी है, वो भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति नेपालगन्ज के सल्लाहकार भी रहें हंै गणेश बहादुर जिसीद्वारा लिखी गई सावीं कृति की विमोचन प्रमुख अतिथि सनत कुमार रेग्मी, विशिष्ठ अतिथि लुम्बिनी विश्वविद्यालय सेवा आयोग के सदस्य प्रा.डा. कृष्ण प्रासद घिमिरे, प्राज्ञ सभा सदस्य महानन्द ढकाल, वरिष्ठ पत्रकार तथा कथाकार नरेन्द्र जंग पिटर, भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति के अध्यक्ष हरि प्रसाद तिमिल्सिना, अवधी साँस्कृतिक प्रतिष्ठान केन्द्रीय समिति के पूर्व अध्यक्ष बिष्णुलाल कुम्हार, कृतिकार की धर्म पत्नी जगत कुमारी जिसी, वह कार्यक्रम के सभाध्यक्ष लेक प्रसाद प्याकुरेल लगायत लोगों ने मृत्युफूल कथा संग्रह कृति की विमोचन किया था ।

भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति की सदस्य मीना बरालद्वारा सञ्चालित कार्यक्रम में गणेश बहादुर जिसीद्वारा लिखित सातवीं कृति मृत्युफूल कथा संग्रह की बिमोचन की गई कृति के उपर समीक्षा गीता आर्याल और ज्ञानोदय बहुमुखी पब्लिक क्याम्पस खजुरा की क्याम्पस प्रमुख चरित्रा शाह ने की थी । इसी तरह वह कार्यक्रम में नेपाल प्रज्ञा प्रतिष्ठान के पूर्व सदस्य सचिव तथा वरिष्ठ कथाकार सनत कुमार रेग्मी, प्राज्ञ सभा सदस्य महानन्द ढकाल, भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति नेपालगन्ज के अध्यक्ष हरि प्रसाद तिमिल्सिना, वरिष्ठ पत्रकार तथा कथाकार नरेन्द्र जंग पिटर, लुम्बिनी विश्वविद्यालय सेवा आयोग के सदस्य प्रा.डा. कृष्ण प्रसाद घिमिरे ने प्रकासित कृति के बारे में अपनी बिचार रखते हुये शुभकामना मन्तव्य व्यक्त किया था । उसी कार्यक्रम में कृतिकार गणेश बहादुर जिसी ने अपनी लिखी गई कृति के उपर प्रकाश डाला था । कृति प्रकासित में परिवार के सदस्यों से मिली सहयोग की प्रशंसा किया था ।

वह कार्यक्रम में चन्द्रवती अधिकारी, हाम्रो पूर्णिमा साहित्य समाज कोहलपुर की उपाध्यक्ष सुमित्रा न्यौपाने, पशुपति शर्मा, बोधराज प्याकुरेल लगायत साहित्यकाररों ने अपनी अपनी रचनाएँ प्रस्तुत किया था ।

साहित्यकार तथा कृति लेखक गणेशबहादुर जिसी ने ७६ वर्ष में लिखित कृति मृत्युफूल कथा सङ्ग्रह कृति की विमोचन नेपालगन्ज सुर्खेरोड स्थित स्वस्तिक काटेज में हुआ था ।

यह भी पढें   श्रद्धांजलि सभा में पहुंचे पूर्व बिधान पार्षद सुमन कुमार महासेठ

कृतिकार तथा साहित्यकार गणेश बहादुर जिसीद्वारा लिखित कृतियों में सम्झौता (लघु उपन्यास), अज्ञात अनाथिनी (उपन्यास), क्रन्दन कथा (कथा सङ्ग्रह), मङ्गलचा (खण्डकाव्य), सहरभित्र हराएको मान्छे (कविता  सङ्ग्रह), गणेश जिसीका हाइकु कथा संग्रह और मृत्युफूल (कथा सङ्ग्रह) प्रकाशित हो चुकी है । उन्हों ने भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति नेपालगन्ज, वाङ्मय प्रतिष्ठान, प्रगतिशील लेखक संघ, बि.विकास स्मृति पुरस्कार गुठी, नेपाल पत्रकार महासंघ बाँके शाखाद्वारा (जेष्ठ पत्रकार) से सम्मानित एवं पुरस्कृत हो चुके हैं ।

गणेश जिसी के मृत्युफूल कथा सङ्ग्रह में त्रिगुण, सुनको पिंजडा, एकाकार जीवनको पे्रमिलो अध्याय, माटोको माया, कन्टेनरको आभा, उत्तराद्र्धको यात्रा, सुशीलको दिवास्वप्न, अभिशप्त जिन्दगी, गहना, मिलन, पे्रमले तोडेको सीमारेखा, मृत्युफल, अनुराधा, हाट, राम भरोसेको सपना, पवित्रा, परिर्वतन, खण्डहर नाता, सूर्य बहादुर उर्फ आलोक, महत्वकाँक्षी, अकल्पनीय पे्रम, अधिकार, चुनाव, निमीलता कथा संग्रह रही है । 

इसी तरह वह कार्यक्रम में खजुरा प्रज्ञा प्रतिष्ठान के उपकुलपति डा.इन्द्र बहादुर भण्डारी, भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति के सल्लाहकार तथा वरिष्ठ पत्रकार पूर्णलाल चुके, प्रा.डा. जनार्दन आचार्य, शिक्षाविद् किरण आचार्य, पुष्पा सुवेदी, अशोक कर्माचार्य, श्यामानन्द सिंह, खम्भ पुन, ज्ञानोदय माध्यमिक बिद्यालय खजुरा के प्रधानाध्यापक ऋषिराम सापकोटा, नवराज भट्ट, रामचन्द्र आचार्य, डिल्ली प्रसाद न्यौपाने, लक्ष्मी बस्याल, सर्वदा साहित्य सङगम के अध्यक्ष खगेन्द्रगिरि कोपिला, साहित्यकार तथा अधिवक्ता भीम बहादुर शाही, इन्द्र बहादुर बस्नेत, पुष्पमणि प्रधान, बि. विकास स्मृति साहित्य पुरस्कार गुठी के अध्यक्ष पंकज कुमार श्रेष्ठ, रिमा थारु, नरेन्द्र बहादुर स्वार, शाश्वत शान्तम्,मध्य पश्च्मि श्रष्टा समाज के अध्यक्ष शुक्रऋषि चौलागाई, शरण कर्माचार्य, अर्जुन ओली, मधु पौडेल, गोविन्द शर्मा, राजकुमार थारु, आर.के. देवकोटा, शिवेन्द्र भण्डारी, ई. मुकुन्द प्रसाद ढकाल, सुनगाभा पोखरेल, खडग बहादुर बोहरा, भरत रानाभाट, हरि सुवेदी, कृष्ण मुरारी प्रसाद भट्ट, केबी शाही और कृतिकार गणेश बहादुर जिसी के परिवारों में धर्म पत्नी जगत कुमारी जिसी, बेटा में विजेन्द्र जिसी, नृपेन्द्र जिसी, बेटी दीपलता जिसी थापा, और रुपा थारु लगायत लोगों की सहभागिता रही थी । वह कर्यक्रम में भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति के उपाध्यक्ष बालकृष्ण शर्मा ने स्वागत मन्तव्य किया था ।

यह भी पढें   पेरिसडाँडा से प्रचण्ड करेंगे विशेष सम्बोधन


About Author

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: