Wed. Aug 5th, 2020

रामजन्मभूमि पर प्रधानमंत्री ओली द्वारा दी गई अभिव्यक्ति पर विश्वहिन्दु महासंघ का ध्यानाकर्षण

  • 1.3K
    Shares
मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान रामचन्द्र के जन्मस्थल अयोध्या के विषय में सम्माननीय  प्रधानमन्त्री केपी शर्मा ओली जी द्वारा व्यक्त   अभिव्यक्ति के कारण हाल नेपाल  और भारत लगायत संसार भर के धार्मिक तथा  आध्यात्मिक संघसंस्थायों और  हिन्दु ओमकार परिवार के बीच में उत्पन्न  परिस्थिति के सम्बन्ध मे विश्वहिन्दु महासंघका गम्भीर ध्यानाकर्षण हुआ है ।
युग युग से अविछिन्न रूप में स्थापित नेपाल – भारत सामाजिक सांस्कृतिक धार्मिक तथा आध्यात्मिक सम्बन्ध को अक्षुण रखते हुए संसार के एकमात्र देवभूमि तथा तपोभूमि नेपाल के साथ हमारे धार्मिक ग्रन्थों द्वारा निर्दिष्ट मिथिला तथा अयोध्या का सम्बन्ध स्पष्ट रहते हुए भी उक्त विषय में तथ्य प्रमाणिकता के आधार पर  आगे बढ्ने की  आवश्यकता है न कि मनगढन्त वक्तव्यबाजी और राजनीतिकरण की।
यह हमारे वेद , पुराण , उपनिषद,रामायण तथा पाैराणिक धार्मिक ग्रन्थ में   उल्लेखित  एवं निर्देशित मूल्य , मान्यता , परम्परा अनुरुप ओमकार परिवार ,   इस बिषय का ज्ञाता , राष्ट्रीय अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का धर्मगुरु  और  पुरातत्त्व का  विज्ञयों के बीच गम्भीर एवं सुक्ष्म बिचार विमर्श तथा अध्ययन अनुसन्धान करना चाहिए ।
अत: धर्म-संस्कृति  और अध्यात्म जैसा अति संवेदनशील  भावनात्मक विषयों मे दोनों  देश के बीच का भाइचारा मित्रता प्रेम और  आपसी सद्भावको कायम रखते हुए  धार्मिक सांस्कृतिक  एकता मे  आँच न आने देने के लिए सभी पक्षों के बीच समझदारी कायम कर सजगता अपनाकर आगे बढने के लिए विश्वहिन्दु महासंघ हार्दिक अनुरोध करता है ।
अस्मिता भण्डारी
महासचिव

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: