Tue. Aug 11th, 2020

अाईएनजीअाे के सम्मेलन के लिए सरकार ने ताेडी कूटनीतिक परम्परा

काठमाडौं –

आईएनजीओ के सम्मेलन में सहभागी हाेने के लिए विदेशी अतिथि नेपाल अा चुके है्।

इनके भ्रमण काे सरकार ने औपचारिक बनाया है। यहाँ तक कि उपप्रधानमन्त्री ही विमानस्थल में जाकर स्वागत किया है।

इस मामले में सरकार ने कूटनीतिक परम्परा काे ताेडा है। इस बात काे िवदेशी मामलाें के जानकार गम्भीर गलती मान रहे हैं ।

जोरबिजोर प्रणाली लागू हाेने से यात्रा में दुःख भोग रहे सर्वसाधारण ने भी सरकार की आलोचना की है।

यह भी पढें   प्रदेश ५ की सांसद कृष्णा केसी में कोरोना भाइरस संक्रमण पुष्टि

सात विशिष्ट अतिथियाें के स्वागत करने की जिम्मेदारी उपप्रधान तथा रक्षामन्त्री ईश्वर पोखरेल काे दी गई है। सार्क अाैर बिम्स्टेक शिखर सम्मेलन जैसा ही इन अतिथियाें काे सरकार ने उच्च महत्व दिया है। जबकि यह सरकार के प्रत्यक्ष सहभागिता का कार्यक्रम नहीं है।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

1 thought on “अाईएनजीअाे के सम्मेलन के लिए सरकार ने ताेडी कूटनीतिक परम्परा

  1. It is the nature of the evil Christianity to attack other’s heritage and Dharma. It is the cultural genocide, which is the human right violation. The core nonsensical doctrine of Christianity is ‘All Christians go to heaven, no matter how evil. All others go to hell, no matter how virtuous.’ All converts have to agree that all their heritage is evil, and all their mother, father, ancestors gone to Hell.
    Let us study Bible:
    Deuteronomy 12:2-3 Destroy other’s temples and destroy images of their Gods.
    John 14:6 Jesus is the only way. All non-Christians will go to hell.
    Acts 4:12 There is no salvation in any other religions.
    John 3:16-18 All non-Christians are condemned to hell already.
    God said,
    Exodus 20:5 I am jealous God. If you bow to other Gods, I will punish even your children up to 4rth generations.
    Number 31: Attack Midian tribe. Kill all men, women and children; except virgin girls. Plunder their wealth and burn their villages. You enjoy their wealth and virgins.
    Jesus said,
    Matthew 10:34 I did not come to bring peace, but a sword.
    Luke 19:27 Kill them before me, who would not accept me as the King.
    John 6:53 Unless you eat the flesh and drink blood of Jesus, you have no life.
    Matthew 15:24 I am here to help only Jews or the people of Israel.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: