Sat. Feb 29th, 2020

नरेन्द्र दामोदरदास मोदी जिनका नाम भाजपा की पहचान बन गया : एक नजर उनके राजनीतिक सफर पर

24 मई

नरेन्द्र दामोदरदास मोदी वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के निर्विवाद विजेता थे और इनकी पार्टी ने भारत के चुनाव में सबसे अच्छे परिणाम हासिल किए थे।  परन्तु 2019 ने ताे इनकी माेदी लहर काे माेदी सुनामी में बदल दिया है । भाजपा अकेले अपने दम पर बहुमत में है । यह सिर्फ और सिर्फ नरेन्द्र माेदी के नाम और एक पूरी सक्षम टीम की वजह से हुआ है । जनता की नब्ज काे पकडने में सफल रही माेदी की टीम । विपक्ष  ने जाे भी आराेप लगाया उसी काे माेदी ने अपने भाषणाें शामिल कर उसकी धज्जी उडाई । आइए जानें आज विश्व के सबसे अधिक चर्चित और लाेक प्रिय नेता नरेन्द्र दामाेदर दास माेदी के विषय में ।

नरेन्द्र जो अपने बचपन में एक चाय विक्रेता के रूप में काम करते थे, उन्होंने अब तक दुनिया के सबसे बड़े चुनावी अभ्यास के रिपोर्ट कार्ड में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए एक लंबा सफर तय किया है।  नरेन्द्र मोदी ने “26 मई 2014” को भारत के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की थी।

नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में 13 साल तक शासन किया। मोदी को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता लालकृष्ण आडवाणी ने वर्ष 2001 में गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव अभियान में निर्देश देने के लिए चुना था। मोदी 7 अक्टूबर 2001 को गुजरात के मुख्यमंत्री चुने गए और वह इस राज्य में सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री के पद पर आसीन रहे। वर्ष 2012 के गुजरात विधानसभा चुनाव में, उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में चौथी बार शपथ ग्रहण की थी।

मोदी ने आरएसएस (हिन्दू राइट विंग ग्रुप) के लिए काम करते हुए अपने कैरियर की शुरुआत की थी, लेकिन अब उनका कैरियर अपने चरम पर पहुँचने के रास्ते पर है। नरेन्द्र दामोदरदास मोदी ने निडरता और आत्मविश्वास के साथ काफी दूरी तय की है। गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री और भारत के वर्तमानप्रधानमंत्री की एक आकर्षक छवि है, क्योंकि इन्होंने अपने समीक्षकों और प्रशंसकों के लिए समान अवसरों की शुरुआत की है। नरेंद्र मोदी अपनी आर्थिक नीतियों और विकास के लिए गुजरात की प्रशंसा करते हैं, लेकिन गुजरात में मानव विकास सूची की निराशाजनक स्थिति को देखकर काफी आहत भी हुए हैं।

विनम्र शुरूआत

मोदी के लिए यह रास्ता काफी संघर्ष-पूर्ण था। जब तक उन्हें आरएसएस में पूर्णकालिक सदस्य के रूप में शामिल नहीं किया गया, तब तक उन्होंने एक चाय की दुकान चलाने का काम किया। पार्टी के सहयोगियों से उन्हें जो थोड़ा सा प्रशिक्षण प्राप्त हुआ था, उसे एबीवीपी प्रभार (आरएसएस का एक छात्र संघ) को देने के लिए पर्याप्त क्षमता का प्रदर्शन करना पड़ा था। राजनीति विज्ञान में मास्टर की डिग्री लेने के बावजूद भी उनका पार्टी के प्रति निष्ठा और समर्पण भाव कम नहीं हुआ था। वडनगर के इस ‘मध्यवर्गीय छात्र’ ने राष्ट्रीय स्तर पर बड़ा कदम उठाने के लिए पढ़ाई की थी।

परिवार

हालाँकि सार्वजनिक क्षेत्र में मोदी के निजी जीवन के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है, लेकिन राजनीतिक बहस कभी-कभी उनके निजी जीवन के तथ्यों और कहानियों को उजागर कर देती है। मोदी का जन्म “मेहसाणा” जिले के वडनगर में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम दामोदरदास मूलचंद मोदी और माता का नाम हीराबेन मोदी है।

राजनीति में प्रारंभिक दिन

नरेंद्र मोदी अपनी शुरुआती किशोरावस्था में राजनीति में जाने का फैसला कर लिया था और यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सदस्य भी थे। वर्ष 1960 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान मोदी काफी छोटे थे, फिर भी उन्होंने रेलवे के माध्यम से यात्रा करने वाले सैनिकों की सेवा की थी। एक युवा के रूप में वह भ्रष्टाचार विरोधी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में छात्र संगठन के सदस्य बन गए। उनके साथ पूरा समय काम करने के बाद, भाजपा ने मोदी को अपने प्रतिनिधि के रूप में नामित किया। मोदी अपने कॉलेज के समय (आरएसएस) के प्रचारक भी थे और पार्टी के सदस्यों को प्रोत्साहित करने का कार्य करते थे। मोदी ने शंकर सिंह वाघेला के साथ भागेदारी की और गुजरात के आन्तरिक ढाँचे का शुभारंभ किया। नरेंद्र मोदी एक विनम्र पृष्ठभूमि से हैं और उन्हे साधारण जीवन शैली के लिए जाना जाता है। उनमें एक अच्छे कार्यवाहक और अंतर्मुखी होने की प्रतिष्ठा है। श्री मोदी ने अपनी छवि को एक हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिज्ञ की ओर से एक ईमानदार प्रशासक के रूप में बनाने की कोशिश की है।

उनकी पार्टी ने राजनीतिक रूप से ध्यान आकर्षित किया और वर्ष 1990 में गठबंधन करके सरकार बनाई। इसके बाद वर्ष 1995 में गुजरात में भाजपा पूर्णसत्ता में आई। इस अवधि के दौरान, मोदी ने सोमनाथ के लिए अयोध्या रथ यात्रा और दक्षिणी भारत के कन्याकुमारी से लेकर उत्तर में कश्मीर तक एक समान यात्रा की।

राष्ट्रीय मंच पर उनका विस्तार रूप से अवलोकन करने से पता चलता है कि वह अपने बुनियादी सिद्धांतों का किस तरह से पालन करते हैं, क्योंकि देश भर में आपातकाल के दौरान जारी आंदोलनों, मुरली मनोहर जोशी की एकता यात्रा (एकता की यात्रा) का आयोजन और वर्ष 1995 के राज्य चुनावों से पहले चुनावी रणनीति के साथ हर किसी को प्रभावित करना सब के बस की बात नहीं है। बीजेपी द्वारा जीत हासिल करने के बाद, मोदी ने पार्टी के लिए महासचिव पद को छोड़ दिया और कार्यवाहक, वफादार तरीके से हरियाणा व हिमाचल प्रदेश में पार्टी की गतिविधियों के प्रबंधन की नई जिम्मेदारी उठाने के लिए नई दिल्ली चले गए।

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में पहला कार्यकाल

भ्रष्टाचार के आरोपों और खराब शासन के कारण गुजरात बार-बार अशांती से जूझ रहा था। शंकर सिंह वाघेला द्वारा भाजपा छोड़ने के बाद केशु भाई पटेल गुजरात के मुख्यमंत्री बने और मोदी दिल्ली में पार्टी के महासचिव बने। वर्ष 2001 में भुज भूकंप के प्रभाव के बाद कमजोर संचालन के कारण केशु भाई पटेल को हटाने के बाद भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं ने मुख्यमंत्री पद के नए उम्मीदवार की तलाश की। मोदी को अक्टूबर 2001 में सत्ता की खाली जगह को भरने चयनित किया गया। मोदी को उस समय शासन का ज्यादा अनुभव नहीं था, फिर भी उन्होनें सत्ता संभाली और गुजरात के मुख्यमंत्री का पहली बार कार्यभार संभाला। शुरू में, भाजपा उन्हें सबसे आगे रखने के लिए उतनी उत्सुक नहीं थी और पार्टी उन्हें उप-मुख्यमंत्री का पद देने का विचार कर रही थी, जिससे उन्होंने इनकार कर दिया। फिर उन्होंने आडवाणी और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से यह कहा कि या तो वे गुजरात के लिए पूरी तरह जिम्मेदार होगें या बिल्कुल भी नहीं। जुलाई 2007 में, वह गुजरात के राजनीतिक इतिहास में सबसे लंबे समय तक सेवा प्रदान करने वाले पहले मुख्यमंत्री बने।

गुजरात विधानसभा चुनाव 2012 में, नरेंद्र मोदी ने मणिनगर के निर्वाचन क्षेत्र में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के खिलाफ 86,373 वोटों से जीत दर्ज की। भाजपा ने 182 सीटों में से 115 सीटों पर जीत हासिल करके गुजरात में अपनी सरकार बनाई। यह मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी का चौथा पद था। अगले साल मार्च में, उन्हें भाजपा संगठन का सदस्य नियुक्त किया गया, जोकि पार्टी का सर्वोच्च निर्णय लेने वाला संगठन है। उन्हें पार्टी के केंद्रीय चुनाव समिति के सदस्य के रूप में भी नामित किया गया था।

जटिल गुत्थियों को सुझाने में माहिर

गांधीनगर में 200 अवैध मंदिरों के ध्वस्त होने के कारण उनके बहुत आलोचनात्मक निर्णय से वीएचपी के साथ दरार बनना प्रारंभ हो गई थी। यह सिर्फ ट्रेलर था। मोदी आतंकवाद विरोधी कानूनों को पुनर्जीवित करने के लिए मनमोहन सिंह की अनिच्छा से भी अभिज्ञ थे। वर्ष 2006 में होने वाले मुंबई हमलों के कारण राज्य में इन कानूनों को लागू करने की अवश्यकता पड़ी थी। समय-समय पर, उन्होंने विवेकपूर्ण रूप से चुनिंदा मुद्दों को केंद्रीय सरकार पर हमला करने के लिए चुना है। नवंबर 2008 में मुंबई के हमलों को मद्देनजर रखते हुए, मोदी ने गुजरात के तट पर सुरक्षा का मुद्दा उठाया। यूपीए सरकार ने तुरंत इस पर कार्रवाई की और 30 उच्च गति निगरानी वाली नौकाओं के निर्माण को मंजूरी दी। हाल ही में, लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में चीनी घुसपैठ और भारत-बांग्लादेश सीमा पर बांग्लादेशियों द्वारा घुसपैठ के प्रति कमजोर दृष्टिकोण के लिये केंद्र सरकार को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

आलोचनाएं

वर्ष 2002 के गुजरात दंगों के बाद मोदी सरकार को कड़ी आलोचना मिली थी, क्योंकि उन्होंने राज्य के भीतर प्रचलित सांप्रदायिक एकता का विखंडन किया था। उसके बाद अपराधों के कारणों की जाँच करने का आदेश दिया गया था। एक सामान्य आम सहमति को सुव्यवस्थित करने के लिए मोदी की छवि पर दाग भी आए, क्योंकि राज्य की सांप्रदायिक हिंसा में मोदी को जिम्मेदार ठहराया गया था। कुछ लोगों ने दंगों के दौरान विभिन्न समुदायों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के लिए उनके अभियोजन को जानने की इच्छा व्यक्त की। उनका कार्य करने का तरीका भी आलोचकों और समीक्षकों के साथ राजनीतिक क्षेत्र में काफी चर्चा का विषय रहा और विशेषज्ञों ने उन्हें तानाशाह शासक बताया। उनके आलोचकों ने उन्हें एक आत्म-केंद्रित और स्वेच्छाचारी शासक भी कहा, जो बीजेपी के बारे में चिंतित नहीं है। उनका आरोप है कि गुजरात के मुख्यमंत्री विश्लेषकों की गुणहीन पुस्तकों में विद्यमान हैं, क्योंकि वह एक से अधिक अवसरों पर राजनीतिक उद्देश्यों के अनुरूप तथ्यों का विखंडन कर देते हैं।

जब नरेंद्र मोदी को राष्ट्रीय अभियान जून 2013 में समिति के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था, तब लालकृष्ण आडवाणी ने मोदी की नियुक्ति के खिलाफ आपत्ति जताते हुए अपना इस्तीफा सौंप दिया। लेकिन, भाजपा वर्ष 2014 के चुनाव में मोदी को पार्टी की कमान संभालने के अपने फैसले पर अडिग रही।

सेल्फ मेड मैन

एक बेहतरीन वक्ता और एक विपुल लेखक होने के अलावा, वह एक देखभाल करने वाला बेटा और हसमुख जीवन-शैली वाले व्यक्ति हैं। जो लोग लंबे समय से उनके साथ जुड़े हैं, वह यह जानते हैं कि उनके सत्ता का विचार काफी रोमांचक है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि वह न जाने कितने भारतीयों का ध्यान आकर्षित करने में सफल हुए हैं। उन्होंने सार्वजनिक संबंधों और छवि प्रबंधन पर अमेरिका में कठोर प्रशिक्षण किया।

जब ब्रांड की बात आती है, तो मोदी कहते हैं कि महात्मा गांधी की तुलना में कोई बड़ी प्रेरणा नहीं है। गांधी जी के बारे में कहा जाता है कि उनके हाथ में लाठी होने के बावजूद भी वह एक अहिंसा के पुजारी थे। गांधी जी ने कभी टोपी नहीं पहनी थी, लेकिन दुनियाभर के लोग गांधी नामक टोपी पहनते हैं। मोदी का एक हिन्दुत्व पार्टी के साधारण समर्थक से एक विकसित नेता के रूप में उभर कर सामने आना, उनकी छवि निर्माण क्षमता की योग्यता को प्रदर्शित करता है। हिमालय में दो साल का मनमाना व्यवहार और योग साधुओं के साथ रहने से उन्हें हिंदुत्व का उचित ज्ञान मिला। वह आंशिक रूप से बताते हैं कि लोग उन्हें विचारधाराओं के बारे में बात करते वक्त बड़े ध्यान से सुनते हैं।

नरेंद्र मोदी के बारे में जानने योग्य तथ्य –

पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी
जन्म 17 सितंबर 1950 में वडनगर, बॉम्बे राज्य, भारत
धर्म हिंदू
पिता दामोदरदास मूलचंद मोदी
माता हीराबेन
 

भाई

सोमा: एक सेवानिवृत्त स्वास्थ्य अधिकारी हैं। अब अहमदाबाद में एक वृद्धाश्रम चलाते हैं।

प्रहलाद: अहमदाबाद में एक उचित मूल्य की दुकान चलाते हैं। वह निष्पक्ष-मूल्य वाले दुकान मालिकों के हितों के लिए संघर्ष भी करते हैं।

पंकज मोदी: सूचना विभाग, गांधीनगर में काम करते हैं।

निवास स्थान गांधीनगर, गुजरात
विवाह मोदी के विवाह का मुद्दा मामूली विवाद था। बाद में पता चला कि उनकी बचपन में शादी हो गई थी, लेकिन बाद में एकसाथ रहने से इनकार करके, संघ में शामिल हो गए।
किशोरावस्था मोदी अपनी किशोरावस्था में और उनके भाई एक चाय की दुकान चलाते थे।
शिक्षा उनका विद्यालय वडनगर में था। उनके शिक्षकों के अनुसार, वह एक औसत-दर्जे के छात्र थे, लेकिन उनको वाद-विवाद में बहुत रुचि थी।
परास्नातक गुजरात विश्वविद्यालय
व्यवसाय गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री। 26 मई 2014 के बाद से वर्तमान में भारत के प्रधानमंत्री हैं।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) मोदी की छवि एक कट्टर आरएसएस समर्थक और हिंदू राष्ट्रवादी की है। उन्होंने भारत और विदेश दोनों के बीच नए रिस्तों को जन्म दिया है।
राजनीति की शुरुआत नागपुर में आरएसएस प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद मोदी ने गुजरात में आरएसएस के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) का पदभार संभाला।
राजनीतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी
निर्वाचन क्षेत्र मणिनगर
इनसे पहले केशु भाई पटेल
कल्पित कार्यभार ग्रहण 10-07-2001
भाजपा के महासचिव उसके तुरंत बाद, मोदी को भाजपा का महासचिव बनाया गया और हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में पार्टी की गतिविधियों की देख रेख शुरू की। उनके काम से उन चुनावों में पार्टी की जीत हुई।
भाजपा के राष्ट्रीय सचिव वर्ष 1998 में, मोदी भाजपा के राष्ट्रीय सचिव बने।
गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में प्रथम कार्यकाल (वर्ष 2001-02)  मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में केशु भाई पटेल की जगह ली, क्योंकि उत्तराखंड भ्रष्टाचार और गरीब प्रशासन की समस्याओं से निजात पाने के लिए संघर्ष कर रहा था। उस समय मोदी में अनुभव की कमी होने के कारण, लालकृष्ण आडवाणी उनसे बहुत आश्वस्त नहीं थे। 7 अक्टूबर 2001 को मोदी को गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर नियुक्त किया गया और दिसंबर 2002 में चुनावों के लिए भाजपा को तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। हालांकि, मोदी ने, आरएसएस से जुड़े होने के कारण निजीकरण और व्यापार में न्यूनतम हस्तक्षेप पर ध्यान केंद्रित करते हुए, बहुत अच्छा काम किया।
गुजरात हिंसा (वर्ष 2002) एक ट्रेन पर 58 हिंदू तीर्थ यात्रियों की हत्या के बाद राज्य में गोधरा दंगों का पता चला। सांप्रदायिक हिंसा की वजह से करीब 1,000-2,000 मुस्लिम मारे गए थे। जवाब में, मोदी सरकार ने राज्य में कर्फ्यू लगावाया, गोलीबारी की व्यवस्था के आदेश जारी किए और सेना को तैनात किया। मोदी सरकार पर ऐसे आरोप थे कि उन्होंने हिंसा को उकसाया था, लेकिन विशेष जाँच दल (एसआईटी) को ऐसा कोई ठोस सबूत नहीं मिला। हालांकि, 7 मई 2002 को, इस मामले के लिए सुप्रीम कोर्ट के सलाहकार राजू रामचंद्रन ने एक विपरीत विचार दिया और कहा कि मोदी पर मुकदमा किया जा सकता है। इस मुद्दे पर राष्ट्रीय स्तर पर बहस चली, जिसमें विपक्षी दल ने मोदी के इस्तीफे की माँग की।
वर्ष 2002 के चुनावों में मोदी की जीत चुनावों में तुरंत मोदी ने एक मजबूत विरोधी मुस्लिम रुख अपनाया और 182 सीटों में से 127 को जीतने में कामयाब रहे।
गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में दूसरा कार्यकाल (2002-07) मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान हिंदुत्व को अपनाते हुए पूरी तरह से आर्थिक विस्तार करने के लिए अपना ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की तरह जैसा कि गुजरात में देखा गया था प्रतिक्रियावादी संगठनों पर शासन किया, क्योंकि गुजरात की अर्थव्यवस्था में निवेश बढ़ गया था। इसका एक संकेतक वर्ष 2007 सांप्रदायिक हिंसा सम्मेलन था, जिसमें उन्होंने अगुवाई करते हुए 6,600 अरब रुपये की कीमत वाली जमीन पर हस्ताक्षर किए। हालांकि, उन्होंने खुद को पार्टी में तेजी से विमुख कर लिया और यहाँ तक कि अटल बिहारी वाजपेयी ने भी मोदी से खुद को दूर कर लिया था। मीडिया में आलोचना भी बहुत हुई, साथ ही मोदी की समानता एडॉल्फ हिटलर से की गई।

 

वर्ष 2007-08 चुनाव जल की परेशानी के बावजूद भी मोदी ने वर्ष 2007 के चुनाव में 182 सीटों में से 122 सीटों पर जीत हासिल की।
गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में तीसरा कार्यकाल (2007-12) अपने तीसरे कार्यकाल के दौरान, मोदी ने गुजरात के कृषि उद्योग को बदलना शुरू किया, भूजल ततनीकि को बेहतर बनाने के लिए सफल परियोजना शुरू की। इस समय के दौरान, लगभग 1,13,738 निर्माण-कार्य किए गए थे। परिणामस्वरूप राज्य में कपास के उत्पादन में बढ़ोत्तरी हुई, जिससे अर्थव्यवस्था में भी तेजी से वृद्धि हुई और 10.97 प्रतिशत की उच्च चक्रवृद्धि वार्षिक दर दर्ज की गई।
सद्भावना मिशन और अनाहार मोदी ने अपने सद्भावना मिशन या गुडविल मिशन के जरिए सांस्कृतिक संबंधों में सुधार और राज्य में शांति को बढ़ावा देने के लिए कई उपवास भी किए। हालांकि, इसका किसी पर ज्यादा प्रभाव नहीं हुआ था।
सामाजिक मीडिया की स्वीकृति मोदी भारत में सबसे अधिक नेट-प्रेमी राजनीतिक नेता हैं। वह ट्वीटर और गूगल प्लस हैंगआउट का प्रभावी रूप से उपयोग करते हैं।
गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में चौथा कार्यकाल (वर्ष 2012) वर्ष 2012 के चुनावों में कोई भी आश्चर्यचकित नहीं हुआ, क्योंकि भाजपा ने एक बार फिर से विधानसभा की 182 सीटों में से 115 पर जीत दर्ज की थी।
राष्ट्रीय राजनीति में भूमिका वर्ष 2013 मोदी के लिए बेहद उपयोगी साबित हुआ, क्योंकि उन्होंने केंद्र स्तर पर खुद को पेश किया था। भाजपा ने प्रधानमंत्री की स्थिति के लिए मोदी को, भाजपा के केंद्रीय चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष चुना।
प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार भाजपा ने पार्टी के ध्रुवीकरण के एक फैसले में, मोदी की बढ़ती लोकप्रियता के कारण उन्हें चुनने का फैसला किया और वर्ष 2014 के चुनाव में उन्हें प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में चुना। भाजपा ने सितंबर 2013 में, वर्ष 2014 में होने वाले लोकसभा चुनाव में मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया।
भारत के प्रधानमंत्री के रूप में भाजपा वर्ष 2014 के आम चुनावों में भारी जनादेश के साथ विजयी हुई। 26 मई 2014 को नरेंद्र मोदी ने भारत के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली।

 

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: