Sun. Dec 8th, 2019

छ हजार देशी विदेशी साहित्य प्रेमियों की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ मेरठ लिटरेरी फेस्टिवल 2019

  • 359
    Shares

मेरठ, क्रांतिधरा साहित्य अकादमी द्वारा आई आई एम टी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मेरठ साहित्यिक महोत्सव ” मेरठ लिटरेचर फेस्टिवल “ आयोजित किया गया .. जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में जूनापीठाधीश्वर महामंडलेश्वर आचार्य अवधेशानंद जी महाराज और जैन मुनि डा लोकेश मुनि जी रहे भव्य उदघाटन समारोह में कनाडा से सरन घई , मारीशस से रामदेव धुरंधर, बेल्जियम से कपिल कुमार, जापान से डा रमा शर्मा, ब्रिटेन से जय वर्मा नेपाल से विधान आचार्य, डा शवेता दीप्ति, सरिता पंथी, बीर बहादुर चंद, सरिता अरयाल, डा वासुदेव काफले, डा प्रियवंदा काफले, खगेन्द्र गिरि कोपिला, भरत बहादुर रानाभाट , भुवन सिवाकोटी चौघरे, रविंद्र आशीष शैली, निर्मल रमण पराजुली , अनिता अरयाल, करूणा झा, आभा रानी मिश्रा, सच्चिदानंद मिश्रा, स्थानीय जन प्रतिनिधियो और मेरठ वासीयों के साथ साथ भारत के सभी राज्यों जिनमें प्रमुख रूप से तमिलनाडु, उडीसा, केरल, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, महाराष्ट्र, तेलंगाना, प. बंगाल, राजस्थान, बिहार, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़, पंजाब, उतराखंड, असम, मिजोरम, मेघालय, सिक्किम, त्रिपुरा , अरूणाचल प्रदेश, हरियाणा, जम्मू कश्मीर, दिल्ली व उत्तर प्रदेश से वरिष्ठ व नवोदित कवि, लेखक, रंगमंच, पत्रकारिता, सामाजिक कार्यकर्ताओं की सहभागिता रही |

कृपया सुनिये सरस्वती वन्दना

मेरठ लिटरेचर फेस्टिवल का मुख्य उद्देश्य ‘वसुधैव कुटुंबकम’ की भावना के साथ पूरी दुनिया में साहित्य के माध्यम से दिलो को दिलो से जोड़ना, एक दूसरे के लेखन से रूबरू कराना, अनुवाद , प्रकाशन , विचारों के आदान प्रदान, परस्पर सहयोग की भावना , पठन – पाठन व् साहित्य के दायरे का विस्तार और नवोदित व् गुमनाम कलमकार बन्धुओ को वरिष्ठ साहित्यकारों के सानिध्य में एक अंतर्राष्ट्रीय मंच प्रदान करना हैं और एक दूसरे से साहित्यिक, सांस्कृतिक व भावनात्मक रूप से जोडने के लिए एक सशक्त साहित्यिक सेतु का निर्माण करना है …. ” मेरठ लिटरेचर फेस्टिवल ” 2019 के भव्य उद्घाटन सत्र में छ हजार से भी अधिक देशी विदेशी साहित्यिक व सामाजिक विभूतियां साक्षी बने मुख्य व प्रमुख अतिथियों के आगमन पर एन सी सी कैडेटस ने गार्ड आफ आनर दिया आई आई एम टी यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति योगेश मोहनजी गुप्ता और इस पूरे परिक्षेत्र के सबसे बडे साहित्यिक महाकुंभ के आयोजक डा विजय पंडित व पूनम पंडित ने स्वागत किया मंगल गान व शंखनाद के मध्य प्रमुख अतिथियों ने पुस्तक प्रदर्शनी का उद्घाटन किया और देशी विदेशी साहित्यिक विभूतियों की कृतियों का अवलोकन किया मुख्य मंच पर पहुचने पर आयोजक डा विजय पंडित व पूनम पंडित द्वारा अतिथियों का फूलमालाओं से अभिनंदन किया |

कार्यक्रम का शुभारंभ नेपाल से पधारी साहित्यकार व हिमालिनी पत्रिका की संपादक डा शवेता दीप्ति ने सरस्वती वंदना के साथ किया भारत के ख्यातिप्राप्त इतिहासकार डा अमित पाठक द्वारा एतिहासिक नगर मेरठ के इतिहास व वर्तमान स्थिति के बारे मे सबको विस्तार से बताया इस अवसर पर तमिलनाडु से पधारे डा अब्दुल वहाब को उनकी अनवरत हिन्दी साहित्यिक साधना के लिए संत गंगा दास स्मृति सम्मान से विभूषित किया गया गीतकार भारत भूषण स्मृति सम्मान से वरिष्ठ गीतकार धर्मजीत सरल को अलंकृत किया गया शायर हफीज मेरठी स्मृति सम्मान से गुजरात के विजय तिवारी को अलंकृत किया गया पुरस्कारों मे सभी को धनराशि अंगवस्त्र प्रतीक चिन्ह प्रदान किया गया मुख्य मंच पर प्रमुख अतिथियों के साथ साथ विशिष्ट अतिथि के रूप में कनाडा के सरन घई, नेपाल से शवेता दीप्ति और सच्चिदानंद मिश्रा, बेल्जियम से कपिल कुमार, जापान से डा रमा शर्मा, मारिशस से रामदेव धुरंधर, ब्रिटेन से जय वर्मा सहित कुलाधिपति योगेश मोहनजी गुप्ता रहे सभी अतिथियों ने ….. संबोधित किया | समारोह में वरिष्ठ साहित्यकार, कवि, गजलकार, उद्योगपति तथा समाजसेवी श्रो बसंत चौधरी का संदेश भी पढ़ा गया |

उद्घाटन सत्र के बाद दूसरे सत्र मे अंतरराष्ट्रीय मुशायरे का सभी ने लुत्फ उठाया जिसमें दिलदार देहलवी और सुजीत शौकीन दिल्ली से, विजय तिवारी द्वारा संचालन किया गया कपिल कुमार बेलजियम, सरिता पंथी नेपाल, शवेता दीपति नेपाल, सरोजिनी तनहा मेरठ, अनिमेष शर्मा गाजियाबाद, साधना गुप्ता और मनोहर विजय पंजाब से शिरक़त रही और अपनी एक से बढकर एक गजलों से महफिल को उच्च शिखर तक पहुंचा कर खूब वाह वाही और तालियों से समस्त विश्वविद्यालय परिसर गूंज उठा, तीसरे सत्र मे ‘प्रवासी साहित्य व आज का भारत’ विषय पर परिचर्चा हुई जिसका संचालन चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी हिन्दी विभागाध्यक्ष डा नवीन चंद लोहनी द्वारा किया गया आयोजन में पधारे सभी प्रवासी साहित्यिक विभूतियों की शिरकत रही .. प्रथम दिवस के चतुर्थ सत्र में कविता गीत व सम्मान का देर रात तक विशेष सत्र चला ..
Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: