Fri. Feb 28th, 2020

निष्पक्ष चुनावों के लिए राजनीतिक लेन देन पारदर्शी होना जरुरी : कुरैशी

काठमांडू । भारत के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने कहा है कि नवीनतम प्रौद्योगिकी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों का उपयोग चुनावी कदाचार की जाँच में बहुत उपयोगी होते हैं ।
इस तरह का विचार उन्होने तब व्यक्त किया है जब कि नेपाली राजनीतिक दलों ने ईवीएम के प्रयोग और प्रभाव पर चिंता व्यक्त कर रहा है । नेपाली निर्वाचन आयोग (ईसी)  ने आगामी चुनाव में देश भर में इसे उपयोग करने के लिए योजना बना रही है । कुरैशी ने कहा कि भारत और अन्य देशों में इलेक्ट्रॉनिक मशीनों प्रभावी साबित हो चुका है ।
“हमारे इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली [ईवीएम], अच्छी तरह से काम कर रहा है,” पूर्व भारतीय चुनाव प्रमुख ने कहा । “यह अमान्य वोट से बचने में कुशल है । इसमे अधिक महत्वपूर्ण है मतदाताओं की शिक्षा । “ईवीएम सामान्यत:  भारत में राज्य चुनाव में इस्तेमाल किया गया है। बहुलवादी समाज में आयोजित चुनाव”के बारे मे  भारतीय अनुभव को साझेदारी करने  आये कुरैशी ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक मशीनों निरक्षर मतदाताओं के साथ भी प्रभावी रहे हैं ।भारत में भी कुछ दलों ने ईवीएम को नकली वोट के लिये दोषी ठहराया था । इसपर कुरैशी ने कहा कि वे वास्तविक चुनाव कराने से पहले मतदाताओं को नकली चुनाव आयोजित करके मशिनों के बारे मे बताया था ।

भारत के सेवानिवृत्त मुख्य निर्वाचन आयुक्त डॉ. एसवाई कुरैशी ने कहा कि आवधिक चुनाव एक जीवंत लोकतंत्र के लिए आवश्यक हैं ।
उन्होंने कहा, “चुनाव एक राजनीतिज्ञ की अंतिम जवाबदेही के लिए जरूरी है” । उनके अनुसार, चुनाव और लोकतंत्र एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

उन्होंने कहा कि भारत में पिछले ११ चुनावों में औसतन 60 प्रतिशत मतदान नहीं पार किया है, उन्होंने कहा, “हम दर औसतन मतदान से संतुष्ट नहीं हैं, लेकिन यह प्रेरणादायक है  कि दुनिया में सबसे बड़ा लोकतंत्र वाला देश कई बाधाओं के बावजूद निष्पक्ष चुनावों कराने मे सफल रहा है ।

डॉ. कुरैशी ने सुझाव दिया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनावों के लिए राजनीतिक लेन – देन पारदर्शी होना जरुरी है। प्रक्रिया को स्वतंत्र और निष्पक्ष बनाने के लिये “नकद लेनदेन के बजाय चेक लेनदेन की जरूरत  है
उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को हमेशा सत्तारूढ़ दलों द्वारा सत्ता और पैसे के दुरुपयोग पर नियंत्रण रखना चाहिए। काठमांडू मे एनसीसीएस व्दारा बुद्धवार को कार्यक्रम आयोजन किया गया था ।

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: