Thu. Aug 6th, 2020

नेपाल, बंगलादेश और भूटान यात्री बस सेवा के नियमों का भारत कर रहा सरलीकरण

  • 134
    Shares

केंद्र सरकार भारत, बांग्लादेश, नेपाल और भूटान के बीच चल रही यात्री बस सेवाओं के सुगम आवागमन के लिए नियमों का सरलीकरण कर रही है। इससे यात्री-पर्यटकों को सीमा पार करने के लिए घंटों इंतजार नहीं करना होगा। इसका फायदा ट्रकों और दूसरे व्यावसायिक वाहनों को भी होगा।
वाहन संबंधी दस्तावेजों में एकरूपता, वाहन के आगे-पीछे पंजीकरण संख्या, देश का नाम आदि के नए मानक तैयार किए गए हैं। सरकार की इस कवायद से पड़ोसी देशों की सीमाओं के इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट पर बसों की लंबी-लंबी कतारें नहीं लगेंगी।

सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने 18 जून को भारतीय केंद्रीय मोटर वाहन (भारत व पड़ोसी देशों के बीच परिवहन सेवा विनियमन-माल ढुलाई व यात्री वाहन आवागमन) नियम 2020 संबंधी ड्राफ्ट नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। हितधारकों से सुझाव-आपत्ति के बाद उक्त नए नियमों को लागू कर दिया जाएगा।

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सूची-1 के तहत वाहन का परमिट होगा। नहीं किया जा सकेगा। संबंधित देश के वाहन संबंधी दस्तावेजों जैसे वैध पंजीकरण प्रमाणपत्र, फिटनेस प्रमाणपत्र, वैध बीमा पॉलिसी, वैध परमिट, यात्रियों की राष्ट्रीयता के विवरण के साथ यात्रियों की सूची, वैध पीयूसी प्रमाणपत्र आदि रखना होगा।

यह भी पढें   कोरोना के कारण ७०० पत्रिका और ५ रेडियो स्टेशन बंद, ७ प्रतिशत पत्रकारों की रोजगारी चली गई

इन दस्तावेजों को संबंधित राज्य सरकार के परिवहन विभाग के अधिकारी इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट पर दिखाएंगे। वहीं, वाहन चालक-सहायक के पास वैध ड्राइविंग लाइसेंस और बैज होना चाहिए। इसके अलावा एक निश्चित आकार में वाहन के आगे-पीछे भारत के पड़ोसी देश का स्थान व भारत का स्थान लिखा होना चाहिए। वाहन के अगले हिस्से पर पंजीकरण संख्या का उल्लेख होना चाहिए।

बस सेवा के लिए राज्य का स्वास्थ्य विभाग चिकित्सा सुविधाओं व आपातकाल स्थितियां होने पर समन्वय का काम करेंगे। सुचारु परिचालन के लिए इंटेलीजेंस संबंधी मद्दों के समन्वय की जिम्मेदारी इंटेलीजेंस ब्यूरो नोडल एजेंसी पर होगी। वाहन के गंतव्य से चलने से पहले वाहन यात्रियों के टिकट, सड़क पर चलने की योग्यता, यात्रियों-चालक-सहायक की तलाशी, समान की तलाशी आदि औपचारिकताओं का ध्यान रखना होगा। बस सेवा की सुरक्षा की जिम्मेदारी स्थानीय पुलिस की होगी।

यह भी पढें   काठमांडू उपत्यका में कोरोना से भयावह स्थिति पैदा हो सकती है, सतर्क रहेः स्वास्थ्य मन्त्री

दिल्ली-लाहौर बस सेवा ठप:
फरवरी 1999 में भारत-पाकिस्तान के बीच शुरू हुई दिल्ली-लाहौर बस सेवा फिलहाल ठप है। भारत बांग्लादेश के बीच ढाका-कोलकाता, ढाका-अगरतला, कोलकाता-ढाका-अगरतला, ढाका-शिलॉन्ग-गुवाहाटी के बीच बस सेवा चलती हैं। इसके अलावा भारत नेपाल के बीच काठमांडू-सिलीगुड़ी, महेद्र नगर-देहरादून, काशी-काठमांडू बस सेवा है। बांग्लादेश-भूटान-भारत-नेपाल (बीबीआईएन) मोटर वाहन समझौते के तहत बस सेवाएं चलती हैं।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: