Tue. Aug 11th, 2020
himalini-sahitya

मैं नारी दुष्टों की बला हूँ मैं, भूल से भी ना कहना अबला हूँ मैं : अरूणा बाजेसरिया

  • 30
    Shares

मै छू सकती हूँ आसमा

मै छू सकती हूँ आसमा
सिर्फ माैके की तलाश है।

क्यों समझूँ मैं स्वयं को
अबला,
जब इस दुनिया की पहचान हूँ मैं।

हर घर की जान हूँ मैं,
बेटी, बहन, पत्नी, माँ रूप में सम्मान हूँ मैं।

काैन कहता है नारी अबला हैं।
सर झुकाना नारी की कमजाेरी ना समझे।
ऊंचाई सर झुकाने से भी पायी जा सकती है।
चुप रहकर,समझदारी दिखाना
काेई नारी से सीखे।
हर मुस्किल आसान बनादे
घर परिवार काे जाेडे रखे
पत्थरीली डगर पर चल
अपनी राष्ट्र भूमि का सम्मान
बचाने हर तरह से तैयार हूँ मैं।
मैं नारी दुष्टों की बला हूँ मैं।
भूलसे भी ना कहना अबला हूँ मैं।

यह भी पढें   हथियार विक्री के लिए सीमावर्ती क्षेत्र से जनकपुर आए २१ वर्षीय युवा गिरफ्तार
अरूणा बाजेसरिया
बैंगलाेर

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: