Sat. Aug 15th, 2020

लद्दाख और भूटान के मामले को उकसा कर चीन दुनिया को परखना चाहता था : पोम्पियो

  • 31
    Shares

 

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ ने कहा है कि हाल ही में भारत के पूर्वी लद्दाख में बीजिंग की आक्रामकता और भूटान की जमीन पर दावा चीन के मंसूबे को दिखाता है। पॉम्पिओ ने जोर देकर कहा कि राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेतृत्व में बीजिंग दुनिया को जांच रहा है कि कोई उसके खतरे और धमकी के सामने खड़ा होता है या नहीं।

गौरतलब है कि 5 मई से पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर चीनी सैनिक आक्रामक रुख अपनाए हुए हैं। चीनी सैनिकों की  आक्रामकता के कारण भारतीय सैनिकों के साथ हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें 20 सैनिक मारे गए थे। इसके अलावा चीन ने हाल ही में ग्‍लोबल इन्‍वायरमेंट फसिलिटी काउंसिल की 58वीं बैठक में भूटान के सकतेंग वन्‍यजीव अभयारण्य पर दावा करते हुए प्रॉजेक्ट के लिए फंडिंग का विरोध किया था।

यह भी पढें   घर से ही डिबेट में ऑनलाइन ले रहे थे हिस्सा, कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का दुखद निधन

पॉम्पिओ ने गुरुवार को कहा, ”वे लगातार ऐसा कर रहे हैं, जिससे वे दशकों से दुनिया को संकेत दे रहे हैं, आप कह सकते हैं कि 1889 से, लेकिन निश्चित तौर पर जिनपिंग के सत्ता में आने के बाद से चीन अपनी शक्ति और पहुंच को बढ़ाना चाहता है।

पॉम्पिओ ने कहा, ”वे चीनी विशेषता के साथ दुनिया में समाजवाद लाने की बात करते हैं। भूटान में जमीन पर जो उन्होंने दावा किया, भारत में जो घुसपैठ हुई, ये चीनी मंसूबे का इशारा है, वे जांच रहे हैं कि हम उनके खतरे और धमकी के खिलाफ खड़े होंगे या नहीं।”

यह भी पढें   हिन्दुओ, अब काशी, मथुरा और हिन्दू राष्ट्र स्थापना  हेतु सक्रिय हो जाओ ! - विधायक श्री. टी. राजासिंह

पॉम्पिओ ने आगे कहा, ”मुझे आज एक साल पहले से अधिक विश्वास है कि दुनिया इसके लिए तैयार है। इसके लिए अभी बहुत काम करने की जरूरत है, और हमें इसके प्रति गंभीर होना होगा।” उन्होंने यह भी कहा कि भारत ने इनके नागरिकों की गोपनीयता और सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करने वाले 106 चीनी ऐप्स को बैन कर दिया है।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: