Wed. May 27th, 2020

पडाेसी देश भारत की यात्रा की साेच रहे हैं ताे हरिद्वार और ऋषिकेश की सडक यात्रा जरुर करें

ऋषिकेश रोड ट्रिप के लिए वीकेंड रहेगा बेस्ट। क्योंकि दो दिन का समय काफी है शहर के हर एक नज़ारे को कैमरे और आंखों में कैद करने के लिए। शनिवार सुबह निकलकर आराम से शाम तक वहां पहुंच जाएंगे फिर रविवार दोपहर या शाम को निकलकर वापस दिल्ली पहुंचा जा सकता है।

ऋषिकेश, उत्तराखंड ही नहीं आसपास के बाकी शहरों से भी सड़कमार्ग से जुड़ा हुआ है। जहां के लिए नई दिल्ली, मेरठ, गाजियाबाद से बसों की सुविधा अवेलेबल है। लेकिन बेहतर होगा आप इस शॉर्ट ट्रिप को बाइक या कार से कवर करें। ऐसा इसलिए क्योंकि रास्ते में इतनी सारी चीज़ें देखने को मिलेंगी जिनका लुत्फ आप बस में बैठकर शायद न उठा पाएं।

यह भी पढें   गरीबों का सहारा बनती जोडी, निरन्तर समाजसेवा में समर्पित

ऋषिकेश जाने के लिए बेस्ट हैं दो रूट

पहला रूट

नई दिल्ली- मेरठ- मुजफ्फरनगर- रूड़की- हरिद्वार- ऋषिकेश NH 334 द्वारा

दूसरा रूट

नई दिल्ली- हापुड़- चांदपुर- नज़ीबाबाद- हरिद्वार- ऋषिकेश NH 9 द्वारा

अगर आप पहले रूट से जाएंगे तो ऋषिकेश पहुंचने में तकरीबन 6 घंटे का समय लगेगा। नई दिल्ली से ऋषिकेश की दूरी 235 किमी है। रास्ता बहुत ही स्मूद है।

दूसरे रूट से जाने पर तकरीबन 7 घंटे का समय लगता है। NH 9 से नई दिल्ली और ऋषिकेश के बीच की दूरी 288 किमी है।

मेरठ से गुजरते हुए यहां सुबह-सुबह नाश्ता करना मिस न करें। पंजाबी ढ़ाबे के लज़ीज, गरमा-गरम पराठे आपका पेट जरूर भर देंगे मन नहीं।

पावन नगरी हरिद्वार पहुंचेंगे तो यहां की हर एक गली से खाने की खुशबू आती है। जहां रूककर आप कम पैसों में भी बहुत ही स्वादिष्ट खाना खा सकते हैं। हरिद्वार में मंदिरों की भरमार है और हर मंदिर एक अलग इतिहास और खासियत समेटे हुए है। यहां के घाट पर लोगों की भीड़भाड़ मिलेगी लेकिन लेकिन कहीं से भी वो आपका सुकून छीनते हुए नज़र नहीं आएंगे। गंगा आरती यहां का खास आकर्षण है। हरिद्वार से 25 किमी दूर ऋषिकेश पहुंचने में करीब-करीब 45-60 मिनट लगते हैं।

यह भी पढें   नेपाल में फसे भारतीय नागरिक को लाने के लिये लगाया गया कैम्प मे नही पहुचे एक भी भारतीय नागरिक

ऋषिकेश का शानदार सफर

ऋषिकेश, जहां आध्यात्म और एडवेंचर का अनोखा संगम है। हिमालय ट्रेकिंग करने वालों के लिए ऋषिकेश एक बेस कैंप की तरह है। यहां आने वाले टूरिस्ट्स का मकसद ही शांति और सुकून से कुछ पल बिताना होता है। इसी वजह से यहां आश्रम और मेडिटेशन सेंटर्स की भरमार है। सैलानियों और साधुओं से भरे हुए राम-लक्ष्मण झूले का शानदार व्यू और व्हाइट वॉटर में रिवर रॉफ्टिंग का मज़ा लेना बिल्कुल भी मिस करने वाला नहीं है।

यह भी पढें   नेपाल की बदलती विदेश नीतिः मधेश की आँखों से

आसपास घने जंगलों के बीच ड्राइव करते हुए आप ऋषिकेश की अलग-अलग जगहों को कवर कर सकते हैं। बिना किसी डेस्टिनेशन पर रूके यहां ऐसे भी ड्राइविंग को एन्जॉय किया जा सकता है। सीज़न कोई भी हो यहां का मौसम ज्यादातर खुशगवार ही होता है। मतलब आप यहां की प्लानिंग कभी भी कर सकते हैं।

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: