Tue. Jun 2nd, 2020

ठोरी गांवपालिका ने शुरु किया नेपाल–भारत सीमा में काँटेदार जाली निर्माण प्रक्रिया (फोटो सहित)

  • 310
    Shares

१५ मई, वीरगंज, रेयाज आलम , पुनश्च: यह समाचार प्रकाशित होने के बाद कईतरह के फोन और मैसेज आना शुरू हो गया है | स्वयं अब वहां के अध्यक्ष भी कहना शुरू कर दिए है कि यह अफवाह है | हमे अच्छी तरह यह जानकारी है कि वाडा स्तर से यह काम सम्भव नही है | लेकिन यह केंद्र सरकार की कोई न कोई चाल है इससे इंकार नहीं किया जा सकता है | संघीय सरकार जिसका प्रतिनधि सीमा पर है वहीं से यह काम शुरू कराया गया हो | अभी यह गाँव के अंदर कहा जा रहा है बाद में इसको सीमा से जोड़ कर आगे का काम शुरू किया जा सकता है |  भले ही यह दिखावटी लगरहा है लेकिन कल यह हकीकत में भी बदल सकता है जैसा कि कम्युनिस्ट सरकार के नेता पहले से ही मांग कर रहें हैं | 

यह भी पढें   इरफान की मौत पर वाजिद ने कहा था, वो नहीं पास आता जो छुप जाता है, इरफान मेरे भाई।आज खुद उनके पास चले गए

राजनीतिक वृत्त में नेपाल–भारत सीमा विवाद को लेकर गरमा–गरम बहस हो रहा है । नेपाल के कई नेता कह चुके हैं कि अब नेपाल–भारत सीमा क्षेत्र में काँटेदार जाली लगानी होगी । विशेषतः लिपुलेक और कालापानी संबंधी विवाद को लेकर नेताओं ने ऐसा कहा है । ऐसी ही पृष्ठभूमि में पर्सा जिला ठोरी गांवपालिका स्थित एक वडाध्यक्ष ने भारतीय सीमा में काँटेदार जाली लगाने का काम शुरु किया है । स्मरणीय बात तो यह है कि उन्होंने आज नहीं, वि.सं. २०७४ मार्गशीर्ष महीना से ही यह काम शुरु है ।
हां, ठोरी गांवपालिका वर्डा नं. ३ के वडाध्यक्ष सूर्य लामा ने इस अभियान का शुरुआत किया है । वडाध्यक्ष लामा अपने वडा के भीतर पड़नेवाला भारत (बिहार) और नेपाल बीच रहे सीमा क्षेत्र ठुटेखेला में काँटेदार जाली निर्माण किया, जो पिलर नं. ४३५–१ से लेकर ४३१–४ तक लगभग ५ किलोमिटर है । वडाध्यक्ष लामा ने कहा कि स्थानीय प्रशासन, पुलिस और गांवपालिका से प्राप्त सहयोग से यह काम किया गया है । लामा के अनुसार ठुटे खोला से लेकर ब्राह्मनगर तक ५ किलोमिटर दूरी है, उसमें १९ पिलर है, जहां अन्तर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार काँटेदार जाली लगाया गया है ।
वडाध्यक्ष लामा ने यह भी कहा है कि यहां १ हजार ८ सौ मिटर में काँटेदार जाली लगाना बांकी है, जो भारतीय पक्ष की ओर से अवरोध होने के कारण रुका हुआ है । उनका कहना है कि भारतीय पक्ष के साथ बातचीत कर बांकी जगहों में भी काँटेदार जाली लगाने की तैयारी है । लामा ने कहा है कि गांवपालिका को प्राप्त होनेवाला विकास बजेट को कटौती कर सीमा क्षेत्र में काँटेदार जाली लगाया गया है । उन्होंने आगे कहा– ‘पड़ोसी देश की ओर से सीमा अतिक्रमण हो जाता है तो मन दुखता है । इसीलिए मैंने अपनी वडा में काँटेदार जाली लगाने का काम शुरु किया ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: