Fri. May 29th, 2020
himalini-sahitya

माँ छिपकर कोने में रो लेती पर, मेरी आँखों को रोने न देती : अश्विनी कुमार पांडेय

  • 126
    Shares

Mother loves baby (With images) | Baby sketch, Mother and baby ...

 

एकपल वह हुआ करता था,
सिर्फ खुशियाँ हुआ करती थीं ;
झरने-सी बहती आँखें भी तो,
जादूमंत्र -सा सुख जाती थीं ।

सर एकबार जो सहला देती वह
नींद भागती चली आती थी,
हरपल छलकती ममता तब भी
गिनती में कहाँ समा पाती थी !

अब, जब नींद नहीं आने लगती
सर्वस्व ले निकल पड़ता बाजार में,
‘ममता की पोटली उपलब्ध नहीं’
कहती ही मिलती दुकाने कतार में।

यह भी पढें   जब बाँट ही लिया दिल की ज़ागीर, तब क्यों पूछते हो दिल किधर गया : संजय कुमार सिंह

माँ जो तू आज भी होती तो ,
मेरी हर विपदा पहचान लेती ;
छिपकर कोने में रो लेती पर ,
मेरी आँखों को रोने न देती !

अश्विनी कुमार पाण्डेय

भागलपुर बिहार

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: