Fri. May 29th, 2020
himalini-sahitya

ये अदृश्य रक्तबीज कोरोना, रहो घरों में कोई डरो ना : प्रदीप बहराइची

  • 40
    Shares

वक्त कठिन, है कड़ी परीक्षा,
राह न भटकें समय की शिक्षा।

ये अदृश्य रक्तबीज कोरोना ,
रहो घरों में कोई डरो ना ।

है विनाश का मंजर सम्मुख,
साथ रहे, न रहेगा ये दुख।

अंधड़ है पर राह न छोड़ें,
मिल विपदा का गुरूर तोड़ें।

आती – जाती हैं बाधाएँ ,
परिस्थितियों से न घबराएँ।

व्याकुलता से करें किनारा,
नाहर बन, जो कभी न हारा।

यह भी पढें   कोरोना कोष में सवा दो अरब रुपये जमा, किन्तु खर्च अब तक नहीं

आओ हम सब कसम उठायें,
राष्ट्र स्वयं हम, राष्ट्र बचायें।

प्रदीप बहराइची
बहराइच, उ.प्र.
(भारत)
8931015684

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: