Fri. Jul 3rd, 2020

प्रदेश नं. २ सरकार द्वारा संघीय सरकार से कृषि–मल मांग

  • 14
    Shares

काठमांडू, २२ जून । खेती का समय हो गया है । देशभर धान लगाने के लिए कृषक अपने कर्म में व्यक्त होने लगे हैं । विशेषतः प्रदेश नं. २ में सबसे अधिक धान उत्पादन होता है, लेकिन अभी तक कृषि के लिए आवश्यक डीएपी और युरिया मल नहीं है ।
इसी तथ्य को मध्यनजर करते हुए प्रदेश नं. २ सरकार भूमि व्यवस्था, कृषि तथा सहकारी मन्त्रालय ने संघीय सरकार से सहयोग मांग किया है । मन्त्रालय की ओर से सोमबार एक विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा गया है कि प्रदेश नं. २ में पर्याप्त रसायनिक मल नहीं है । मन्त्री शैलेन्द्र साह ने अपने विज्ञप्ति में कहा है– ‘देश में ही कूल उत्पादनों में से ३०–४० प्रतिशत धान प्रदेश नं. २ में उत्पादन होता है । अभी तक तक २० प्रतिशत जमीन में खेती हो चुकी है । कुछ ही दिनों में मनसुन सक्रिय होनेवाला है, लेकिन यहां पर्याप्त परिणाम में डीएपी और युरिया मल नहीं है ।’
उनका कहना है कि देश में हर साल ७ लाख मेट्रिक टन मल आवश्यक है, उसमें से ३ लाख मेट्रिक टन सिर्फ प्रदेश नं. २ को आवश्यक है । इस तथ्य को गम्भीरता से लेकर समय में ही मल आयात के लिए प्रदेश सरकार ने केन्द्र सरकार से आग्रह किया है । मन्त्री साह ने कहा है कि अब आनेवाला १२ हजार मेट्रिक टन मल प्रदेश नं. २ को उपलब्ध कराने के लिए भी उन्हौंने आग्रह किया है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: