Mon. Sep 16th, 2019

नेपालगन्ज के मधेशी समुदाय में भुर्की पूजन

DSC00625नेपालगन्ज,(बाँके जिला) पवन जायसावाल कार्तिक २० गते ।
मधेशी समुदाय में दीपावली के अन्तिम दिन मंगलवार को यम द्धितीया अर्थात् भैया दुईज में भुर्की पूजन धूम धाम के साथ मनाया गया ।
मधेशी समुदाय की महिलाएँ अपने– अपने दादा, भैया को टीका लगाकर चुरा, भुर्की और मिठाई खिलाकर भैया दूइज मनाया गया । DSC00626
इसमे घर के आँगन में गाय का गोबर से  लीप पोत करके भाई का चित्र बनाकर बनायी जाती है, नदी तलाव, पर्बत, बाघ, भालु, सर्प, बन जगंल का भी चित्र बनाती है , जंगलों में मिलने वाला कुश लगायत बिभिन्न काँटों को राखकर उस के उपर सिलौटा रखके पूजा करने का चलन है । और भाइयों को किसी प्रकारकी बाधा अडचन बाधा, भालु, सर्प, जगलों के काँटा पैर में न चुभे इस लियें सभी का चित्र बनाकर पूजा करने का चलन रहा है ।
सिलौटा के उपर चामल का आँटा से नदी बनाकर उसमें धर्म के भाईका मुर्ती बनाकर पूजा करने का चलन है  । गाँव टोला पडोसी के सभी महिलाएँ एकजुट होकर के  सामुहिक रुपों में भुर्की पूजा करने के बाद में भोजन  करने का परम्परा रहा है । DSC00629
उसी अवसर पर  भाई को बहन को सुख, समृद्धि और शान्ति के लियें बिभिन्न प्रकार की कथा, कहानी भी सुनायी जाती है । DSC00641
भुर्की पूजन के समय में  दिदी, बहन लोंग अपने– अपने दादा भैया का सुख, शान्ति, उन्नति, सुस्वास्थ्य, प्रगति लगायत की कामनाए भी करती है ।
पूजा करके चुरा भुर्की दूर दूर में रहने वाले दादा भैया को कार्तिक पुर्णिमा तक   खिलाने का प्रचलन रहा है ।
इसी तरह बाके जिला नेपालगन्ज के सदरमुकाम से करीब ८ किलोमीटर पूर्व में रहा कम्दी गाबिस का सिंधनिया गाँव की मधेशी समुदायकी महिलाए ने सामूहिक रुप में मंगलवार को भैया दूइज (भुर्की पूजन की । सीमावर्ती क्षेत्र भारत में भी बडा धूमधाम के साथ मनाया गया है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *