Sat. Apr 13th, 2024

नहाय खाय के साथ आज 17 नवंबर शुक्रवार से आस्था का महापर्व छठ व्रत आरंभ

आज प्रातः स्नान पूर्वक पवित्र वस्त्र धारण कर अगहनी चावल, अरहर चना का दाल, कद्दू, गोभी, परवल आदि के साग सब्जी का पवित्र भोजन बना के भगवान भास्कर और षष्ठी को अर्पित कर 10 बजे तक राहु काल के पूर्व तक भोजन कर लिया जाएगा। और पुनः रात्रि काल में ऐसे ही पवित्र भोजन किया जायेगा।



पुनः व्रत के दूसरे दिन 18 नवंबर शनिवार को प्रातः स्नान पूजन कर दिन भर निर्जला उपवास करते हुवे रात्रि काल में मिट्टी के या पवित्र चूल्हे पर आम के लकड़ी या पवित्र ईंधन पर अगहनी चावल, दूध, मिठ्ठा, से खीर और रोटी बना कर अग्नि देव के माध्यम से षष्ठी माता को भोग लगा के बच्चों को प्रसाद देकर स्वयं प्रसाद ग्रहण किया जायेगा।

पुनः व्रत के तीसरे दिन 19 नवंबर रविवार को प्रातः स्नान पूजन कर छठ के पूजन सामग्री और घाटों की तैयारी कर अपराह्न 2 से 3 बजे पुनः स्नान कर समस्त पूजन अर्घ्य सामग्री के साथ छठ घाटों पर माता जी के पिंडी का पूजन कर सायं 4:22 से सूर्याघ्य आरंभ हो जायेगा।

पुनः चौथे दिन 20 नवंबर सोमवार को ब्रह्म वेला से पूर्व रात्रि 3 बजे स्नान कर छठ घाटों
सप्तमी तिथि में 5:22 से अर्घ्य दिया जाएगा। ध्यान रहे इस दिन सप्तमी तिथि प्रातः 5:36 तक ही है और स्पष्ट सूर्योदय सुबह 06:22 बजे होगा। जिसके कारण कुछ मतों से अरुणाचल पर अरुणोदय कालिक सूर्योदय प्रातः 5:22 बजे होने से बिना सूर्य को देखे ही प्रथम अर्घ्य सप्तमी तिथि में आरंभ हो जायेगा। और पुनः जल में 40 मिनट खड़ा होकर और प्रातः 6:22 पर सूर्य दर्शन कर व्रत पूर्ण कर लिया जाएगा। चुकी 20 नवंबर सोमवार को सप्तमी तिथि प्रातः 5:36 तक ही है। अतः सप्तमी तिथि का अर्घ्य 5:22 से आरंभ हो जायेगा। और प्रातः 6:22 में सूर्य का दर्शन कर व्रत पूर्ण होगा।
इसके बाद ही 36 घंटे का व्रत पूर्ण हो जायेगा। पुनः अर्घ्य देने के बाद व्रती प्रसाद का सेवन करके व्रत का पारणा कर सकते हैं।
*हे” माता षष्ठी, भगवान भास्कर, श्री हरि विष्णु, माता महालक्ष्मी, श्री गणेश, पार्वती और महादेव आप सब मेरे विशेष प्रार्थना से मेरे सभी अपनों पर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखना।” छठ पर्व के पावन पूजन से आज मेरे सभी अपनों को उत्तम आयु आरोग्यता, सुख सौभाग्य, संतति संतान, नौकरी आजीविका, पद प्रतिष्ठा, ऋण रोग शोक से मुक्ति और सर्व मनोकामना पूर्णता प्रदान करें।श्री लक्ष्मी नारायण, राधा कृष्ण, शिव पार्वती एवं श्री गणेश माता सरस्वती के साथ हम सबके सपरिवार में अटूट प्रेम पवित्र समर्पण, अनुपम त्याग बनाए रखें। सबके ऊपर श्री हरि विष्णु के साथ माता महालक्ष्मी के निरंतर शुभद आशीष के लिये मेरी विनम्र प्रार्थना….*
????????????????????
????????????????????
*हरि ॐ गुरुदेव..!*
*✒✍???? ✒✍????*
*ज्योतिषाचार्य आचार्य राधाकान्त शास्त्री*
*????शुभम बिहार यज्ञ ज्योतिष आश्रम????*
*राजिस्टार कालोनी, पश्चिम करगहिया रोड, वार्ड:- 2, नजदीक कालीबाग OP थाना, बेतिया पश्चिम चम्पारण, बिहार, 845449,*
????????????????????
*पदेन:-*
*संस्कृत शिक्षक:- राजकीयकृत युगल प्रसाद +2 उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भैसही, चनपटिया,बेतिया बिहार*
*व्हाट्सअप एवं संपर्क:-*
*9934428775*
*9431093636*
*????व्हाट्सएप से हर समय सेवा में, (अहर्निशं सेवा महे)????*
*आवश्यक वार्तालाप का समय:- प्रातः 6:30 से 8:30 तक एवं सायं 4 बजे से रात्रि 9:30 बजे तक।*
*!!भवेत् तावत् शुभ मंगलम्!!*



About Author

यह भी पढें   17वर्षीय नेपाली लड़की को बहलाकर ले जा रहे मोहम्मद मंजूर आलम खान को किया गिरफ्तार
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: