Tue. Jul 16th, 2024

बाँके में दो पुस्तक पर परिचर्चा कार्यक्रम

नेपालगञ्ज/(बाँके) पवन जायसवाल बाँके जिला के खजुरा में कृतिकार द्वय कथाकार चरित्रा शाह की तातेताते और बोधराज प्याकुरेलद्वारा प्रकासित कृति शङका कृति की परिचर्चा कार्यक्रम असार २२ गते शनिवार को एक कार्यक्रम के बीच सम्पन्न हुआ है



कल्पना फाउण्डेसन नेपाल साहित्य विभाग की आयोजन मेंकल्पना फाउण्डेसनको पहिचान, साहित्य समाज सेवा हाम्रो पहिचानमूल नारा की साथ आयोजित वह कार्यक्रम में खजुरा गाँवपालिका के प्रमुख डम्बर बिक तुफान ने पानस में दीप प्रज्वलित करके बिधिवत रुप से कार्यक्रम की उद्घाटन किया प्रमुख अतिथि खजुरा गाँवपालिका के प्रमुख डम्बर बिक तुफान ने दोनों लोगों को बधाई दी, दोनों लोग खजुरा के रहनेवाले है ज्ञानोदय बहुमुखी पब्लिक क्याम्पस खजुरा के क्याम्पस प्रमुख चरित्रा शाह और ज्ञानोदय माध्यमिक बिद्यालय खजुरा के शिक्षक बोधराज प्याकुरेल है वो दोनों लोग बहुत मेहनत करके कृति प्रकासित किया धन्यवाद देते हुये इस प्रकार की कृति और प्रकासित करै हमारी खजुरा की एक अलग पहिचान होगी कहते हुये अपनी बिचार व्यक्त किया था  

कल्पना फाउण्डेसन नेपाल साहित्य विभाग के प्रमुख लेक प्रसाद प्याकुरेल के अध्यक्षता में बोधराज प्याकुरेलद्वारा प्रकासित लघुकथा शङका कृति पर छबिलाल खडका ने समिक्षा किया और कथाकार चरित्रा शाह की तातेताते कृति पर पुस्कर रिजाल ने समिक्ष किया था  

बोधराज प्याकुरेलद्वारा प्रकासित की गई कृति लघुकथा शङका, कथाकार चरित्रा शाह की तातेताते कृति पर नविन अभिलाषी ने परिचर्चा किया था

वह कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि खजुरा गाँवपालिका के प्रमुख डम्बर बिक तुफान को कल्पना फाउण्डेसन नेपाल साहित्य विभाग के प्रमुख लेक प्रसाद प्याकुरेल, अध्यक्ष कल्पना पौडेल जिज्ञासु, खजुरा गाँवपालिका की निर्वतमान उपप्रमुख एक माया बिक ने माया की चिनो प्रदान किया था उसी कार्यक्रम में समिक्षकद्वय छबिलाल खडका, पुस्कर रिजाल और परिचर्चाकार नविन अभिलषी को  प्रमुख अतिथि डम्बर बिक तुफान, कल्पना फाउण्डेसन नेपाल साहित्य विभाग के प्रमुख लेक प्रसाद प्याकुरेल, अध्यक्ष कल्पना पौडेल जिज्ञासु, खजुरा गावँपालिका की निर्वतमान उपप्रमुख एक माया बिक ने संयुक्त रुप में माया की चिनो प्रदान किया था

वह कार्र्यक्रम में कल्पना फाउण्डेसन नेपाल की सदस्य गीता अर्यालद्वारा सञ्चालित कार्यक्रम में स्वागत मन्तव्य इन्दिरा गौतम की थी आयोजित कार्यक्रम में बिशिष्ट अतिथि बर्दघाट प्रज्ञा प्रतिष्ठान के कुलपति प्रा.डा. घनश्याम परिश्रमी, लुम्बिनी प्राविधिक विश्वविद्यालय सेवा आयोग के सदस्य प्रा.डा. कृष्ण प्रसाद घिमिरे, वरिष्ठ साहित्यकार सनत कुमार रेग्मी लगायत लोगों की सक्रिय सहभागिता रही थी इसी तरह वह कार्यक्रम में भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति के निर्वतमान अध्यक्ष हरि प्रसाद तिमिल्सिना, भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति के अध्यक्ष इन्द्र बहादुर बस्नेत, ज्ञानोदय माध्यमिक बिद्यालय खजुरा के प्रधानाध्यापक ऋषिराम सापकोटा, साहित्यकार तथा अधिवक्ता भीम बहादुर शाही, धिरेन अनुपम, लक्ष्मी बस्याल, पुष्पमणि प्रधान, अवधी साहित्यकार बिष्णुलाल कुमाल, मणि अर्याल, मधई सिंह सरदार, कृष्णा देवी पाण्डेय, पंकज श्रेष्ठ, यज्ञलाल सुवेदी, खजुरा प्रज्ञा प्रतिष्ठान के सदस्य माधव शर्मा, ईश्वरी प्रसाद रिजाल, रुपन्देही के रमेश समर्थन, रविन शर्मा, खिमलाल बराल, मन्दिरा निरौला, खेमराज शर्मा, मीना बराल, आनन्द गिरी मयाल, चन्द्रवती अधिकारी, सीता सुवेदी, कमला सापकोटा, पदमा शर्मा, निशा शर्मा, मिलन गुरुङ्ग, दमयन्ति जैसी, आकृति राना, केबी शाही, सुन्दर गुरुङ्ग, राकेश गुरुङ्ग, भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति के सदस्य तथा शतक रक्तदाता पवन जायसवाल, खगेन्द्र दाहाल, रत्ना कार्की, पहलमान सुनार, हरिश जोशी, खेम बगर, अजमल खाँ, इन्दिरा गौतम, स्पर्श अधिकारी, लगायत लोगों की बरिश के बावजूद भी उपस्थिति रही थी

यह भी पढें   कास्की में भूस्खलन से ११ लोगों की हुई मृत्यु


About Author

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: