Mon. May 25th, 2020
himalini-sahitya

“”सब हा- बो कोनीं हो !”” लक्ष्मण नेवटिया

  • 10
    Shares
“”सब हा- बो कोनीं हो !””( व्यंग्य ) : लक्ष्मण नेवटिया,बिराटनगर
भोग में बो हो,
योग में बो कोनीं हो।
रात्री रमण में बो हो,
प्रात:भ्रमण में बो कोनीं हो।
आराम में बो हो,
व्यायाम में बो कोनीं हो ।
गरिष्ठ खानै में बो हो,
पौष्टिक खानै में बो कोनीं हो।
शराब पिणै में बो हो
दूध पिणै में बो कोनीं हो।
होतां होतां आखर बो ई होग्यो,
जिण को डर हो,
एक भोर में उणकै घर्यां
गाँव सगलो हो,
बो कोनीं हो!!

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: