Fri. Feb 21st, 2020

नेपाल–भारत सहयोग : ‘सम्भावना और चुनौती’ संबंधी विचार गोष्ठी

  • 377
    Shares

काठमांडू, २ अगस्त । वर्तमान सन्दर्भ में नेपाल–भारत संबन्ध में ‘सम्भावना और चुनौती’ संबन्धी विषयों को लेकर काठमांडू में एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया । नेपाल–भारत मैत्री समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रम में विभिन्न राजनीतिक दल के प्रतिनिधि, कुटनीतिज्ञ एवं पत्रकारों ने नेपाल–भारत संबंध, संभावना और चुनौती के बारे में अपना अपना विचार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम के प्रमुख अतिथि एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विदेश विभाग प्रमुख विजय चौथाईवाले के साथ विभिन्न प्रश्न भी किये ।
भारतीय प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की नेपाल भ्रमण की तैयारी स्वरुप एवं नेपाल–भारत मैत्री समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधन के लिए नेपाल आए डा.चौथाईवाले ने भी नेपाल–भारत बीच रहे ऐतिहासिक संबंध, वर्तमान परिस्थिति, भाजपा एवं भारतीय सरकार की रणनीति आदि के बारे में चर्चा करते हुए नेपाल–भारत संबंध को थप प्रगाढ़ता के लिए जोर दिया । उन्होंने स्पष्ट रूप में कहा कि भारत का नेपाल पर कोई दवाव देने का इरादा नही है | डा. विजय चौथाईवाले ने स्पष्ट रूप में कह दिया कि भारत नेपाल से बराबरी का सम्बन्ध रखना चाहता है | उन्होंने कहा कि भारत अब पहले का भारत नही है | भारत अब मोदीजी के नेतृत्व में पूरा बदला रहा है | उनका यह बहुत बड़ा संकेत था नेपाल के लिए | उन्होंने बिजली की आवश्यकता पर कहा कि भारत को नेपाल की बिजली की फिलहाल जरूरत नही है |


कार्यक्रम सहभागी नेपाली राजनीतिज्ञ, कुटनीतिज्ञ, पत्रकार आदि वक्ताओं का कहना था कि नेपाल–भारत बीच जो ऐतिहासिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संबंध है, अब दो देशों की संबंध सिर्फ उसी में सिमित नहीं रहना चाहिए । उन लोगों का मानना है कि अब दो देशों के बीच आर्थिक सम्बन्ध भी होना चाहिए, जिससे दोनों देश आर्थिक रुप में समृद्ध बन सके । इसीतरह नेपाल–भारत बीच रहे कुछ असमझदारी पर चर्चा करते हुए वक्ताओं ने कहा कि बाढ़, सीमा विवाद जैसे जो भी समस्या है, उसमें दोनों देशों की आपसी समझदारी अनुसार ‘वीन–वीन थ्यौरी’ में समस्या का समाधान करना चाहिए । नेपाल के लिए भारतीय राजदूत श्री मंजीव सिंह पुरी ने डा. विजय चौथाईवाले का परिचय देते हुए नेपाल विकास कि संभावना को उजागर किया |


नेपाल–भारत मैत्री समाज के अध्यक्ष प्रेम लस्करी की अध्यक्षता में सम्पन्न कार्यक्रम में राष्ट्रीय योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष गोविन्द पोखरेल, नेपाल के लिए भारतीय राजदूत मंजीव सिंह पुरी का विशेष सम्बोधन रहा । कार्यक्रम में भारतीय दूतावास के D.C.M. डा.अजय कुमार तथा PIC प्रमुख श्री अभिषेक दुवे कि उपस्थिति थी | कार्यक्रम में नेपाली कांग्रेस के नेता एवं पूर्व अर्थमन्त्री डा. रामशरण महत, पूर्व मन्त्री एवं राजपा नेता महेन्द्र राय यादव, पूर्व मन्त्री एवं समाजवादी पार्टी की उपाध्यक्ष हिसिला यमी, पूर्वमन्त्री दानबहादुर चौधरी, नागरिक अगुवा डा. सुन्दरमणि दीक्षित, व्यवसायी विमल केडिया, नेपाली कांग्रेस के सांसद् अभिषेक प्रताप साह, ज्ञानचन्द्र प्रधान, पुरुषोत्तम ओझा, शिरिष प्रधान आदि वक्ताओं ने अपनी–अपनी ओर से विचार व्यक्त किया ।

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: