Mon. Nov 18th, 2019

नेपाल में संदिग्ध पाकिस्तानी, भारत में आतंकवादी हमले काे अंजाम देने की आशंका : मुरली मनोहर तिवारी

बीरगंज में सात संदिग्ध पाकिस्तानी, आतंकवादी होने की आशंका

बीरगंज, भाद्र २३ गते सोमवार , मुरली मनोहर तिवारी (सीपू) | भारत के कश्मीर में अनुछेद 370 हटने के बाद, आतंकवादी कोई बड़ी घटना को अंजाम देने की लगातार काेशिश कर रहे हैं ।  कश्मीर में बड़ी संख्या में सुरक्षा बल की तैनाती से घुसपैठ करना मुश्किल है, नेपाल ओर भारत की खुली सीमा का फायदा लेते हुए आतंवादी नेपाल के रास्ते भारत प्रवेश कर आतंकी घटना अंजाम देने की फ़िराक़ में है । इसके मद्देनजर सभी सुरक्षा निकाय सक्रिय और सजग हैं। ख़ुफ़िया सूत्रों के अनुसार सात पाकिस्तानी नेपाल में प्रवेश कर चुके हैं।  काठमांडू एयरपोर्ट से उनकी गतिबिधि संदिग्ध थी, जिसके कारण वे सुरक्षा निकाय के नजर में आ गए।  उनका पीछा किया गया, जिसमे वे सातों काठमांडू में अलग-अलग लोगो से मिलते हुए बीरगंज तक आए।

सुरक्षा निकाय के पास इनकी गतिविधियों की पूरी फेहरिस्त मौजूद है। वे सात पाकिस्तानी जिनकी गतिविधिया संदेहास्पद रही उनके नाम हैं,  ज़मील  सुल्तान, खान वादा,  गुल अमान, रहमत अली, अवल बट खान, अजमल खान, अल्लाह दोस्त खान। ये लोग बीरगंज आने के बाद मुड़ली जामा मस्जिद, श्रीपुर मस्जिद, कास्मिया मस्जिद, मस्जिद अबरार, सखुआ परसौनी गांव पालिका के बिभिन्न मस्जिद के आसपास देखे गए।  सुरक्षा निकाय के नजर में आने के एहसास के बाद ये लोग भूमिगत हो गए। प्राप्त सुचना के अनुसार ये लोग अभी भी इन इलाकों में छुपे हुए है और अपनी रणनीति के अनुसार काम कर रहे है।  माहौल शांत होने के बाद एक-एक करके इन्हे बॉर्डर पार करके भारत के बिभिन्न जगहों पर पहुंचाया जाएगा, भारत में इनके एजेंट और स्लीपिंग सेल्स जिन स्थानों की रेकी कर चुके है, वहां आतंकी हमला करने या मुंबई हमला 26 /11 जैसे दोहराने की योजना में है। ये हमले दशहरा- दिवाली के मद्देनजर अक्टूबर 2019 से 30 नवंबर 2019 के बीच होने की आशंका है।

संदेहास्पद लोगो में ज़मील सुल्तान का पाकिस्तानी पासपोर्ट नंबर F 5722517 है, जो दिनांक 06 मई 2019 को जारी हुआ है और 05 मई 2024 तक है।  खान वादा का पाकिस्तानी पासपोर्ट नंबर E 1471659 है जिसका जारी दिनांक  02 फ़रवरी 2016 से 01 फ़रवरी 2021 तक है।  गुल अमान का पाकिस्तानी पासपोर्ट नंबर F 5236028 है जिसका जारी दिनांक 21 मार्च 2019 से 20 मार्च 2024 तक है। रहमत अली का पाकिस्तानी पासपोर्ट नंबर F 5302233 है, जिसका जारी दिनांक 01 अप्रैल 2019 से 02 अप्रैल 2024 तक है। अवल बट खान का पाकिस्तानी पासपोर्ट नंबर F 5302188 है, जिसका जारी दिनांक 02 अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2024 तक है। अजमल खान का पाकिस्तानी पासपोर्ट नंबर E 1918907 है, जिसका जारी दिनांक 01 मार्च 2019 से 28 फ़रवरी 2021 तक है। अल्लाह दोस्त खान का पाकिस्तानी पासपोर्ट नंबर F 4309444 है, जिसका जारी दिनांक 31 जनवरी 2019 से 30 जनवरी 2024 तक है।

सबसे चौकाने वाली बात है की इतनी जानकारी के वावजूद ये पकडे क्यों नहीं गए, ये कैसे चकमा देकर भूमिगत हो गए। उस पर चिंता की बात ये है कि ये लोग भारत नेपाल के लोगों में आराम से घुलमिल सकते है। इस बिषय पर बात करने पर कोई बड़ा अधिकारी कुछ कहने को तैयार नहीं है।

अगर उन्हें नेपाल में ही समय रहते नहीं पकड़ा गया तो बहुत बड़ी क्षति होगी और  विमान अपहरण की तरह एक और कलंक नेपाल पर लगेगा। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि क‌ंधार हवाई कांड के लिए नेपाल के त्रिभुवन अन्तरराष्ट्रीय विमान स्थल का उपयाेग किया गया था । जिसका मास्टर मांइन्ड मसूद अजहर आज भी पाकिस्तान की सरपरस्ती में है । अभी  वक्त है कि नेपाल सरकार इस विषय की गम्भीरता काे समझते हुए सुरक्षा की चाक चाैबन्द व्यवस्था करे और इन स‌दिग्धाें काे यथाशीघ्र हिरासत में ले ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *