Wed. Nov 13th, 2019

Hindi Poem

हल्की हल्की बारिश की बूँदें गिरतीं, वो बैसाखी लिए आराम से चलती : सुरभि मिश्रा

उसकी याद हल्की हल्की बारिश की बूँदें गिरतीं वो बैसाखी लिए, आराम से चलती बैसाखी

बेटी वा बेटा, दोनों अपना खून, तो भेद कैसा : अंकिता सुमार्गी

हाइकु                                                                                                                                                                                                           अंकिता सुमार्गी आजका दिन करता है स्वागत आप सभी का बुद्धका देश हमारी मातृभूमि