Tue. Feb 27th, 2024

हिंदी उर्वरा है, इसमें भाव प्रवणता है तथा व्याकरण से अनुशासित है : डा.श्वेता दीप्ति

सर्वग्राह्य हिन्दी भाषा को संवैधानिक दर्जा प्राप्त हो

आज हिन्दी २२ देशों में करीब १०० करोड़ से भी ज्यादा लोग बोल रहे हैं ।

 



 

डा.श्वेता दीप्ति,१० जनवरी, २०१९, सम्पादकीय | सर्वग्राह्य हिन्दी भाषा को संवैधानिक दर्जा प्राप्त हो हिन्दी एक सर्वगुण सम्पन्न तथा वैज्ञानिक भाषा है । वह भाषा जो स्वयं में विश्वास और प्रेम को समाहित किए हुए है । हिन्दी एक सशक्त एवं समर्थ भाषा के साथ ही, संपर्क की,व्यापार की, शिक्षा व संस्कृति की,मीडिया की, फिल्म की, साहित्य सृजन की तथा निर्देशों की भाषा तो है ही, कलात्मक अभिव्यक्ति की भाषा भी है । अर्थात् वैश्वीकरण के इस दौर में हिन्दी का समृद्ध स्वरूप विश्व स्तर पर आच्छादित हो रहा है । हिन्दी न सिर्फ गतिशील हुई है,अपितु इसने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहुँच को साबित कर दिखाया है । आज हिन्दी के प्रति जागरुकता बढ़ी है और इसका रोज ही विस्तार हो रहा है ।

 

हिन्दी एक अद्भुत भाषा है । इसे अद्भुत बताने वाली इसकी अनेकानेक विशेषताएँ हैं । हिंदी उर्वरा है, इसमें भाव प्रवणता है तथा व्याकरण से अनुशासित भी है । यह वह भाषा है,जिसमें गद्य एवं पद्य दोनों का प्रवाह देखते ही बनता है, जो कि एक जीवंत भाषा का लक्षण है । हिन्दी वह भाषा है जिसने समन्वयवाद के स्वरूप को दिल से अपना कर अपने अस्तित्व को निखारा है । इसलिए यह सर्वग्राह्य हो गयी है । किसी भी अन्य भाषा के शब्दों को स्वीकार करने से यह पीछे नहीं हटी है और इसलिए इसका रूप निखरता ही रहा है । साहित्य ही नहीं पठन–पाठन, व्यापार, मीडिया, विज्ञापन आदि क्षेत्रों में भी हिन्दी की पकड़ मजबूत हुई है । सूचना एवं संप्रेषण का सशक्त माध्यम बन चुकी है । विदेशों में न सिर्फ हिन्दी जानने वालों की संख्या बढ़ रही है,अपितु इसके बोलने वालों की भी संख्या बढ़ रही है ।

इतना ही नहीं फिजी,मॉरीशस,गुयाना,सूरीनाम जैसे दूसरे देशों की अधिकतर जनता हिन्दी बोलती है । विदेशी विश्वविद्यालयों में खुल रहे हिन्दी संकायों से यह साबित होता है कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हिन्दी की स्वीकार्यता में वृद्धि हुई है । खास बात यह है कि जिन विश्वविद्यालयों में हिन्दी विभाग खुल रहे हैं,उनमें पढ़ाने वाले शिक्षक बाहर के नहीं,अपितु स्थानीय ही हैं । विभिन्न कारणों से विदेशी नागरिक हिन्दी की ओर उन्मुख हैं । चीन,जापान,अमेरिका,फ्रांस और ब्रिटेन जैसे देशों में हिन्दी सीखने वालों का प्रतिशत बढ़ा है । हिन्दी वैश्विक स्वीकृति की ओर अग्रसर है । हिन्दी की सबसे बड़ी सफलता और क्या होगी कि अंग्रेजी के विश्वस्तरीय शब्द कोषों मंी चटनी,इडली, छोला–भटूरा और डोसा जैसे शब्द स्थान पा चुके हैं । अब तो कंप्यूटर की भाषा भी हिन्दी बन गई है ।

    हिन्दी का वैश्वीकरण व्यापक रूप

वैश्वीकरण के इस युग में विश्व बाजार को मानकीकरण भी चाहिए और ग्राहकीकरण भी । अर्थात् पूरी दुनिया के लोग एक मानक भाषा बोलने और एक सी संस्कृति अपनाने को बाध्य होंगे । अमरीकी सूचना सेवा की पत्रिका स्पैन के एक महत्वपूर्ण आलेख में विश्वभर की तकरीबन ६००० भाषाओं के विलुप्त होने की आशंका जतायी गयी है । लेकिन हिन्दी ने वैश्वीकरण के उपरोक्त चुनौतियों को मुँहतोड़ जवाब दिया । आज हिन्दी २२ देशों में करीब १०० करोड़ से भी ज्यादा लोग बोल रहे हैं । अर्थात हिन्दी का वैश्वीकरण व्यापक रूप में हुआ है ।

इस उम्मीद के साथ कि नेपाल में भी हिन्दी को संवैधानिक दर्जा हासिल हो आप सुधीजन को विश्व हिन्दी दिवस की अशेष शुभकामनाएँ ।

 

 



About Author

यह भी पढें   मीटर ब्याज पीडि़त को न्याय दिलाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है –गृहमन्त्री श्रेष्ठ
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: