Mon. Nov 18th, 2019

नेपालगंज के सुर्जी गावँ में गणेश, लक्ष्मी का प्रतिमा रखकर ३ दिन तक पूजाअर्चना

नेपालगन्ज,(बाँके) पवन जायसवाल ।
बाँके जिला के नेपालगन्ज उपमहानगरपालिका वार्ड नं.–१९ सुर्जीगावँ में गणेश लक्ष्मी का प्रतिमा रखकर तीन दिन तक पूजा अर्चना किया गया है ।
न्यू शक्ति जायसवाल ईंट्टा उद्योगकी सञ्चालिका तथा सुजीगाव निवासी तारा देवी जायसवाल की अगुवाई में विगत १० वा वर्ष से सुर्जी गावँ में दूर्गा पूजा जैसे ही गणेश, लक्ष्मी का प्रतिमा रखकर ३ दिन तक पूजाअर्चना करके मनाया जाता है ।
उसी अनुसार सुर्जीगावँ के निवासी अशोक कुमार गुप्ता के प्राङ्गण में इसी कार्तिक १० गते आइतवार से लेकर कार्तिक १२ गते मंगलवार तक गणेश महराज, लक्ष्मी माता, बिष्णु महराज, सरस्वती माता और कारतिके महराज का भी प्रतिमा रखकर पूजाअर्चना करकर वडा धूमधाम के साथ मनाया गया है इसके साथ साथ भाई टीका (भुर्की के दिन) देवी जागरण का भी आयोजना किया गया ।
भारत के रुपैडिहा, बहराइच लगायत विभिन्न स्थानों से आये हुये कलाकारोंद्वारा देवी जागरण किया गया था । वह कार्यक्रम में तारा देवी जायसवाल ने कलाकार रिन्कू पाठक लगायत १५ लोगों कलाकारों को और सुर्जी गावँ के बयोवृद्ध नन्द किशोर गुप्ता, श्रीराम जायसवाल, मनकामना ईंट्टा उद्योग के राम शंकर जायसवाल, राम ईंट्टा उद्योग के दिपक कुमार जायसवाल, विनोद कुमार तमोली (जायसवाल), न्यू मनकामना ईंट्टा उद्योग के सुनिल कुमार जायसवाल, भारत जिला बहराइच गौरा पिपरा निवासी सुनिल जायसवाल, लेखनदार राम गोपाल वर्मा, प्रमोद कुमार जायसवाल, राप्ती सोनारी गावँपालिका वार्ड नं.–५ गोडधोईया निवासी परसुराम जायसवाल, आकाश जायसवाल, सुरेश जायसवाल, आशिष जायसवाल, पवन जायसवाल, पुरोहित गुरुप्रसाद मिश्र लगायत २६ लोगों को फूलका माला, अबीर का टीका के साथ– साथ गम्छा ओढाकर तारा देवी जायसवाल ने सम्मान की थी ।
कलकत्ता के मूर्तिकार हाल रुपैडिहा निवासी बंगाली मूर्तिकार को नगद रु. १ हजार से पुरुस्कृत भी तरादेवी जायसवाल ने की थी लक्ष्मी पूजा भर पुरोहित गुरुप्रसाद मिश्र और घन श्याम पाठक पुजारी के रुप में रहें । इसी तरह पूजा अवधीभर अमन जायसवाल, अभय जायसवाल, अभजीत जायसवाल लगायत लोगों ने सहयोग किया था ।
वह गणेश महराज, लक्ष्मी माता, बिष्णु महराज, सरस्वती माता और कारतिके महराज का प्रतिमा को नेपालगन्ज से करीब १० किलोमीटर पूर्व डुडुवा गावँपालिका वार्ड नं.–५ राप्ती नदी के सिधनियाँ घाट में कार्तिक १३ गते बिधि विधान के साथ विर्सजन किया गया । नेपालियों का महान चाड दशैं के बाद में नेपाल में दूसरा वडा पर्व के रुप में दिपावली पर्व भी धूमधाम के साथ मनाया जाता है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *