Wed. Jan 22nd, 2020

एक निरीह युवक की नेपाल प्रहरी के गोली से निर्मम हत्या पर : गंगेश मिश्र अनुरागी

  • 173
    Shares
है, ज़ख़्म वही;
फ़िर से उभरा;
जो रिसता रहा;
वर्षों पहले से;
फ़िर ख़ून बहा;
अपनी धरती पर;
अपनों की ख़ुदगर्ज़ी से;
कुछ बूँद गिरेंगे आँसू के;
जो धूल में मिल;
ग़ुम जाएँगे;
कुर्सी की ख़ातिर, याचक बन
फ़िर लौट के घर, वो आएँगे;
लज्जा, लालच की बेदी पर;
क़ुर्बान किया है, अपनों नें;
सत्ता- सुख को, लालायित;
जो खोए रहते, सपनों में;
अवसर की ताक में, रहते जो;
हित अपना ही, सर्वोपरि है;
जनता को, हर बार ठगे;
वो मित्र नहीं, व्यापारी है;
है वक़्त अभी, समझो इनको;
अपना सर, फ़िर ना दो इनको;
कुर्सी की लालच, में फँसकर;
घर अपना तो, ना बेचों इनको;
हर बार ठगे, जाते हो तुम;
अपनों को, ठुकराके तुम;
यूँ चन्द, खनकते सिक्कों के;
ख़ातिर, कुत्ते बन जाते तुम।
●●●●●●●●●●
** संदर्भ – कृष्णानगर, कपिलवस्तु  में लक्ष्मी मूर्ति विसर्जन के क्रम में, समुदाय विशेष द्वारा अवरोध और कर्फ्यू के दौरा एक निरीह युवक की नेपाल प्रहरी के गोली से निर्मम हत्या।
Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: