Mon. Nov 18th, 2019

प्रसुति अस्पताल में नवजात शिशु की मौत, शव लेने से परिवार वालों ने किया इन्कार

५ नवम्बर, काठमांडू । राजधानी के थापाथली स्थित परोपकार प्रसूति तथा स्त्री रोग अस्पताल में नवजात शिशु की मृत्यु होने के बाद परिवार ने शव लेने से अस्वीकार किया ।
परिवार का कहना है कि रविवार सुबह गोरखा आरुपोखरी–७ का कृष्णबहादुर कुँवर ने अपनी ३५ वर्षीय पत्नी ज्ञानुकुमारी को प्रसव के लिये भर्ना किया । सोमवार ज्ञानकुमारी को प्रसव के लिये प्रसवकक्ष में ले जाया गया और मंगलवार बच्चा का जन्म के बाद मृत्यु हो गई ।
कृष्णबहादुर ने बताया कि चिकित्सक का कहना है कि बच्चा अपने ही नाभी से बेडे जाने कारण बच्चा की मृत्यु गर्भ में ही हो गई थी ।
परिवार का कहना है कि अगर बच्चा मरा ही था तो उसका नाभी क्यों काटा गया , बच्चा को साफ क्यों किया गया । यह झूठ है बच्चा मरा नहीं जन्मा था डाक्टर के लापरवामही के कारण मेरा बच्चा जन्म के बाद मरा है । उन्होंने बताया कि बच्चा के नाक से खून निकल रहा था ।
उन्होंने बताया कि फिलहाल मेरी पत्नी की अवस्था बहुत ही गम्भीर है । चिकित्सक के अनुसार उसे आईसीयु में रखना चाहिये पर हम यहां अपनी पत्नी का इलाज नहीं करायेंगे । क्योंकि जिस अस्पताल ने मेरे बच्चा को मार दिया उस पर अब हमारा विश्वास नहीं रहा ।
उन्होंने कहा कि अभी हम अपने बच्चा का शव नहीं ले सकते ।पहले पत्नी को दूसरे अस्पताल में भर्ना करुंगा इसके बाद बच्चा के लिये बात करुंगा ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *