Thu. Dec 12th, 2019

झरे फूल की डाली पे नए फूल फिर उग आते है : प्रविण कुमार कर्ण

  • 16
    Shares

प्रविण कुमार कर्णImage result for image of flowers tree

 

ऐ माली धागे में

पिरो दे फूल

जिन्हें मैं सींचता रहता हूं

मिट्टी खाद पानी से

जो उग आते है

डालो पे

ऐ माली

रँगी बिरंगी

भीनी खुशबू लिए

अनुपम अद्भुत आंखों मे

बस जाती है

ऐ माली

कभी कांट छांट करता हुं

कभी उखाड़ फेंक लगाता हुं नए फूल।

ऐ माली शाख से टूट के

जो मुरझा जाते है,

बन के कांटे

कुछ डालियाँ चुभ जाती है।

ऐ माली

झरे फूल की डाली पे

नए फूल फिर उग आते है

उजड़ी बगिया भी

फिर लहलहाते है।

ऐ माली

धागे में पिरो दे फूल

कर दूँ तुझे अर्पण

माला जीवन का। : प्रविण कुमार कर्ण

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: