Sat. Apr 4th, 2020

झरे फूल की डाली पे नए फूल फिर उग आते है : प्रविण कुमार कर्ण

  • 16
    Shares

प्रविण कुमार कर्णImage result for image of flowers tree

 

ऐ माली धागे में

पिरो दे फूल

जिन्हें मैं सींचता रहता हूं

मिट्टी खाद पानी से

जो उग आते है

डालो पे

ऐ माली

रँगी बिरंगी

भीनी खुशबू लिए

अनुपम अद्भुत आंखों मे

बस जाती है

ऐ माली

कभी कांट छांट करता हुं

कभी उखाड़ फेंक लगाता हुं नए फूल।

ऐ माली शाख से टूट के

जो मुरझा जाते है,

बन के कांटे

यह भी पढें   साै साल पहले जब स्पेनिश फ्लु ने मचाया था तांडव और निगल ली थी कराेडाे जिन्दगी

कुछ डालियाँ चुभ जाती है।

ऐ माली

झरे फूल की डाली पे

नए फूल फिर उग आते है

उजड़ी बगिया भी

फिर लहलहाते है।

ऐ माली

धागे में पिरो दे फूल

कर दूँ तुझे अर्पण

माला जीवन का। : प्रविण कुमार कर्ण

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: