Tue. Jul 7th, 2020

दिल्ली हिंसा : दरिंदगी की सीमा पार कर की गई थी आईबी कर्मी अंकित शर्मा की हत्या, मरने के बाद भी आधे घंटे तक चाकुओं से गाेदा

  • 342
    Shares

दिल्ली हिंसा में मारे गए आईबी कर्मी अंकित शर्मा के एक कातिल काे हिरासत में ले लिया गया है । उसने कई सनसनीखेज खुलासे किए । उसने बताया कि कितनी दरिंदगी से अंकित शर्मा की हत्या की गई ।

आईबी कर्मी अंकित शर्मा के पहले सभी कपड़े उतारे गए। इसके बाद उन्हें चाकू से गोदा गया। आरोपी करीब आधा घंटे तक अंकित शर्मा को चाकू से गोदते रहे और लाठी-डंडों से वार करते रहे। पुलिस अधिकारियों के मानें तो आरोपी चाकू व डंडे लेकर अंकित शर्मा के ऊपर उनकी मौत के बाद तक भी वार करते रहे। बाद में उनके शव को नाले में फेंक दिया गया था।

यह खुलासा गिरफ्तार आरोपी मूल रूप से अलीगढ़ के मोहल्ला ऊपरकोट के भुजपुरा निवासी हसीन उर्फ सलमान ने किया है। उसने अंकित शर्मा की हत्या का गुनाह कबूल कर लिया है। सलमान का कहना है कि भीड़ में से हर कोई अंकित शर्मा पर वार कर रहा था। किसी ने भी उन्हें बचाने का प्रयास नहीं किया। सलमान सुंदर नगरी में रहता है, लेकिन दंगा करने के लिए चांद बाग गया था। वह तीनों दिन हुए दंगों में दोस्तों के साथ शामिल था।
सलमान को स्पेशल सेल में तैनात इंस्पेक्टर अतुल त्यागी, एसआई जयवीर, एएसआई देवेंद्र और हवलदार हेवेंद्र की टीम ने नंद नगरी के सुंदर नगरी से गुरुवार को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में सलमान ने बताया कि आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन के घर के पास दोनों ही तरफ से पथराव हो रहा था। इसके बीच में अंकित शर्मा फंस गए। बचने के प्रयास में वे ताहिर हुसैन के घर से पथराव कर रहे लोगों के नजदीक पहुंच गए। मौका देखकर पथराव कर रहे लोग उन्हें खींचकर ले गए।

यह भी पढें   अनजान की मौत पर : वीरेन्द्र बहादुर सिंह

सलमान ने खुलासा किया कि ताहिर हुसैन के घर के पास आरोपियों ने सबसे पहले उनके कपड़े फाड़े और फिर चाकू व लाठी-डंडों से हमले शुरू कर दिए। सलमान ने चाकू पास में स्थित सब्जी की दुकान से लिया और अंकित शर्मा पर हमले करने शुरू कर दिए। इसके बाद वहां भीड़ ने अंकित पर पत्थरों, चाकू व डंडों से वार शुरू कर दिए। भीड़ ने उनका चेहरा भी बुरी तरह गोद दिया था।
सलमान ने बताया कि जब अंकित की मौत हो गई तो उनके शव को चांद बाग में नाले में फेंक दिया गया था। सलमान ने पूछताछ में यह भी बताया कि वह सुंदर नगरी में रहता है, मगर दंगा करने के लिए चांद बाग इलाके में गया था। दंगों से पहले व दंगों के दौरान वह मुस्तफाबाद में दोस्तों के साथ सोया था। वह तीनों दिन हुए दंगों में शामिल था।

यह भी पढें   सप्तरी में अवैध रुप में उत्पादित ३०० लिटर घरेलु मदिरा पुलिस द्वारा नष्ट


अंकित को ताहिर के घर में नहीं ले गए थे
सलमान ने पूछताछ में कहा कि वह और उसके साथी अंकित शर्मा को ताहिर हुसैन के घर के भीतर नहीं ले गए थे। हालांकि हत्या उसके घर के पास ही की गई थी। नृशंस हत्या के बाद बाहर से ही अंकित के शव को नाले में फेंक दिया था। सलमान उन लोगों की संख्या नहीं बता पा रहा है, जो अंकित पर हमले कर रहे थे। उसने कहा है कि उन पर हमला करने वालों की बड़ी भीड़ वहां मौजूद थी।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: