Mon. May 25th, 2020

कोराना का असर नेपाल–बाजार पर

  • 134
    Shares

हिमालिनी  अंक फरवरी 2020,चीन में फैले कोरोना के कहर ने नेपाल के उद्योग व्यवसाय पर भी अपना असर दिखाना शुरु कर दिया है । चीन से काठमांडू तक विभिन्न सामानों की आपूर्ति करने वाले व्यवसायी दो सप्ताह से अपने व्यवसाय को लेकर चिंतित हैं । इसका कारण है, केरोना के कारण होने वाले आयात में मंदी । चीन से कच्चे माल सहित विभिन्न उद्योगों के लोगों को अब व्यापार संकट के लंबे समय तक रहने का खतरा है । कोरोना के कारण चीन से आने वाले सामानों में अवरोध पैदा हो गया है एक अघोषित नाकाबंदी जैसी स्थिति पैदा हो गई है । जनवरी के पहले सप्ताह में, केरूंग की सड़क पर भूस्खलन के कारण पहले ही बंद थी अब कोराना के कारण सामान आयात पर भी चीन रोक लगा दी है ।

व्यवसायियों के अनुसार, चीन में नेपाल के बंदरगाह पर लगभग तीन से चार सौ तक कंटेनर रुका हुआ है । स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं के कारण चीन की ओर आवागमन को रोक दिया गया है । फेडरेशन ऑफ नेपाली नेशनल एंटरप्रेनर्स फेडरेशन (एनएनएफ) के अनुसार, लगभग आधे कंटेनर नेपाल से माल इकट्ठा करने में सक्षम नहीं होने के बाद फंसे हुए थे । रसुवागढ़ी पहुंचने के बाद, कुछ खाद्य और कृषि वस्तुएं माल लेने की दुर्गम स्थिति के कारण क्षय की स्थिति में पहुंच गई हैं । एक तरफ, स्थिति इतनी जटिल है कि व्यवसायी चीन से माल का ऑर्डर पूरा करने में सक्षम नहीं हैं जिससे बाजार में सामान की कमी हो रही है ।

यह भी पढें   कोरोना को जीत कर २१ लोग घर वापस हो गए, वापस होनेवालों की संख्या ७० पहुँच गई

नेपाल दैनिक उपभोग की वस्त्ओं के लिए भारत की तुलना में चीन पर अधिक निर्भर है । पेट्रोलियम उत्पादों के अलावा कई चीनी उत्पाद नेपाली बाजार में फैले हुए हैं । सीमा शुल्क विभाग के आंकड़ों के अनुसार, नेपाल चीन से प्रति वर्ष लगभग दो खरब पाँच अरब का आयात करता है ।

तदनुसार, नेपाल के साथ चीन के संबंध मुख्य रूप से आयात पर निर्भर करते हैं । दर्जनों आइटम चीन से आते हैं, जिनमें फैशन आइटम, इलेक्ट्रॉनिक्स और इलेक्ट्रिकल सामान, सजावट के सामान, खेल और स्टेशनरी के सामान, दूरसंचार उपकरण, खाद्य सामग्री और विभिन्न मशीनरी शामिल हैं । बैग, कॉस्मेटिक, जूता चप्पल, घडि़यां, कैमरा, बैटरी, सौर पैनल, टेलीविजन और भाग, वेल्डिंग आरडीएस, एल्यूमीनियम स्क्रैप, रसायन, खिलौने, कांच के बने पदार्थ, चिकित्सा उपकरण और उपकरण, चिकित्सा धातु और लकड़ी के फर्नीचर, कार्यालय आपूर्तियाँ और स्टेशनरी, अन्य सामान के लिए चीन पर निर्भर करता है ।

यह भी पढें   भारतीय प्रध्यापक एसडी मुनी को सांसद् गगन थापा ने दिया ऐसा जबाव

इसी तरह के कच्चे माल, पालिएस्टर यार्न, मसाला पाउडर, जूते और चप्पल, स्मार्ट कार्ड, मोबाइल और टेलीफोन, परिवहन उपकरण और भागों, टायर, ट्यूब, सिरेमिक, बर्तन, लहसुन, सेब हाल के वर्षों में गुंड्रुक से चीनसे आते हैं । अन्य देशों के उत्पादों की तुलना में चीनी सामान सस्ता है । बड़े पैमाने पर औद्योगिक उत्पादन के कारण, कम आय से चीनी सामान का उपयोग सामान्य से बड़े घरों में होता है । यह चीन की विशेषता है जो अविश्वसनीय कीमतों पर गुणवत्ता वाले उत्पादों को वितरित कर सकता है और अविश्वसनीय कीमतों पर उत्पादन कर सकता है । चीन के उत्पादों के साथ प्रतिस्पर्धा करने से अन्य देशों के लिए उत्पादन करना आसान नहीं होता है । इसलिए, उपभोक्ता अपेक्षित बजट पर अपने बजट की कीमत पर सामान खरीदने में सक्षम होते हैं ।
चीन का संकट नेपाली बाजार तक पहुंचने लगा है । संकट की स्थिति को देखते हुए, यह समझा जा रहा है कि नेपाल की अर्थव्यवस्था भविष्य में नेपाली उपभोक्ताओं के साथ समस्याओं का सामना करेगी । बाजार का कहना है कि यदि कोरोना संक्रमण आगे फैलता है या ऐसा संकट लंबे समय तक रहता है तो उपभोक्ताओं और उपभोक्ताओं को कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा ।
वर्तमान में, चीन में यातायात स्थिर है । एक प्रांत से दूसरे प्रांत में बाजार बंद हैं । व्यावसायिक कार्यालय भी बंद हैं । ऐसे में चीन से सामान लाने या भेजने का कोई रास्ता उपलब्ध नहीं है । फेडरेशन ऑफ नेपाली एंटरप्रेन्योर, जो मुख्य रूप से चीन से माल लाता है, का कहना है कि अगर स्थिति चीन से आयात करना बंद कर देती है, तो बाजार में विभिन्न समस्याएं होंगी ।

यह भी पढें   गरीबों का सहारा बनती जोडी, निरन्तर समाजसेवा में समर्पित

फेडरेशन के अध्यक्ष, नरेश कटुवाल ने कहा कि जो सामान चीन के बंदरगाह पर आ चुका है उसे जाँच के साथ शीघ्र लाया जाना चाहिए । अगर ऐसा नहीं हुआ तो अत्यन्त समस्याओं का सामना नेपाल के बाजार को उठाना होगा ।

उन्होंने कहा कि केरुंग सीमा पर जो सामान प्रतिबंधित है उसे नियमतः जाँच कर मँगवाने की पहल होनी चाहिए इन सामानों में फैशन और इलेक्ट्रिक्स सामान शामिल हैं । सरकार ने स्वास्थ्य चेतावनी को प्राथमिकता दी है । हालांकि, उद्योग, वाणिज्य और आपूर्ति मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि बाजार में वास्तविक कमी की स्थिति है इसके लिए विकल्प की तलाश की जाएगी ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: