Tue. Aug 11th, 2020

10 दिन से एडमिट कनिका, क्यों नहीं मिला कोरोना वायरस से छुटकारा?

  • 63
    Shares

20 मार्च को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद कनिका कपूर को लखनऊ के केजीएमयू हॉस्पिटल, फिर संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट यानि पीजीआई शिफ्ट कर दिया गया था. शुरूआत में पीजीआई के निदेशक ने बाकायदा शिकायत की कि कनिका कपूर इलाज में सहयोग नही कर रही है और एक स्टार होने के नखरे दिखा रही है. हालांकि इसके बाद कनिका कपूर ने शिकायत का मौका नहीं दिया और इलाज करा रही है. इस बीच 20 मार्च से 30 मार्च तक कनिका की चार बार कोरोना की जांच के लिये टेस्ट किये गये लेकिन हैरानी की बात ये कि चारो जांचो में कनिका कपूर का टेस्ट पॉजिटिव आया है.

 

 

ऐसे में सवाल ये उठता है कि आखिरकार उन पर कोरोना का असर इतने लम्बे समय तक क्यों है? दूसरा सबसे बड़ा सवाल ये है कि कनिका के कोरोना ग्रसित होने के बावजूद जितने भी लोग उसके संपर्क में आए अभी तक किसी का टेस्ट पॉजिटिव नहीं आया. जबकि लंदन से मुम्बई और फिर लखनऊ आने के बाद कनिका ने कई जगह पार्टियां की और लोगो के सम्पर्क में भी रही.

यह भी पढें   सुशांत सिंह राजपूत के अकाउंट से रिया चक्रवर्ती के भाई को पैसा ट्रांसफर किया गया पूछताछ में नहीं कर रही सहयोग

 

 

डाक्टरों के मुताबिक कनिका पर इतने लम्बे असर की मेडिकल में कई वजहें हो सकती है. जब संभावित मरीज की पहली बार जांच हो तो अगर वायरस का असर शुरुआती दौर में ही पता चल जाये तो रिजल्ट तो पॉजिटिव आता है. पर वायरस को पूरी तरह शरीर से बाहर जाने में वक्त लगता है

 

 

अगर मरीज की रोग प्रतिरोधक क्षमता, यानि कि इम्युनिटी कम हो तो रोगी के ठीक होने में वक्त लगता है. अगर मरीज को सांस की बीमारी हो या उसको धूम्रपान की आदत हो तो कोरोना के वायरस का असर देर तक रहता है. अब सवाल इस बात पर भी है कि आखिरकार कनिका के सम्पर्क में आनेवाले बाकी लोगों को कोरोना का असर क्यों नही हुआ?

यह भी पढें   सुशांत सिंह केस : सीबीआई ने रिया चक्रवर्ती सहित छह लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की

 

डाक्टरों का मानना है कि जैसे ही कनिका के बारे में पता चला उन्हें आईसोलेशन में डाल दिया गया और बाकी लोगों की पहचान करके उनकी जांच की गयी. कायदे से पहली जांच अगर सम्पर्क में आने के पांच- छह दिन बाद की जाये तो उसमें ठीक से कोरोना के लक्षण पता चलते हैं. लेकिन कनिका के मामले में उसके सम्पर्क में आये लोगों की जांच दो दिन बाद ही की गयी.

 

 

हो सकता है कि तब तक कोरोना के लक्षण साफ ना हुए हों. ऐसे में डाक्टर्स ने सभी लोगो को हिदायत दे रखी है कि जैसे ही स्वास्थ्य में कोई अंतर लगे फौरन सूचना दी जाये. साथ ही आनेवाले दिनों मे एक बार फिर से डाक्टर्स सभी लोगों का टेस्ट करानेवाले हैं ताकि वायरस की स्थिति पूरी तरह साफ हो सके.

यह भी पढें   रिया चक्रवर्ती तांत्रिक से सुशांत का इलाज कराती थी

 

बहरहाल कनिका कपूर के सम्पर्क में आनेवाले सभी लोग अभी भी डाक्टर्स की निगरानी में हैं. कनिका को लेकर उनके परिवारवाले चिंता में हैं. परिवारवालो ने तो डाक्टर्स की जांच पर भी सवाल उठाया था लेकिन कनिका अपना इलाज करा रही है जिससे जल्द वो ठीक हो सके.

 

बहरहाल कनिका कपूर के सम्पर्क में आनेवाले सभी लोग अभी भी डाक्टर्स की निगरानी में हैं. कनिका को लेकर उनके परिवारवाले चिंता में हैं. परिवारवालो ने तो डाक्टर्स की जांच पर भी सवाल उठाया था लेकिन कनिका अपना इलाज करा रही है जिससे जल्द वो ठीक हो सके.

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: