Sat. Aug 15th, 2020

रक्षाबधंन पर पढ़ें यह पौराणिक कथा, क्यों माता लक्ष्मी ने राजा बलि को बांधी थी राखी ?

  • 55
    Shares

रक्षाबंधन का त्योहार 3 अगस्त को मनाया जाएगा। यह भाई बहन के प्रेम का त्योहार है। इसमें भाई बहन की रक्षा का वचन देता है। पौराणिक कथाओं में भी रक्षाबंधन का जिक्र है। ए​क बार माता लक्ष्मी ने राजा बलि को अपना भाई बनाकर भगवान विष्णु को उनके दिए गए वचन से ‘मुक्त’ कराया था। इस बार रक्षाबधंन पर पढ़ें यह पौराणिक कथा।

माता लक्ष्मी ने सबसे पहले राजा बलि को बांधी राखी

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, माता लक्ष्मी ने राजा बलि को सबसे पहले राखी बांधी थी। एक बार राजा बलि ने 100 यज्ञ पूरा करके स्वर्ग पर आधिपत्य का प्रयास किया, इससे इंद्र डर गए। वे भगवान विष्णु के पास गए और उनसे रक्षा का निवेदन किया। तब भगवान विष्णु ने वामन अवतार धारण किया।

यह भी पढें   कान्तिपुर का सहायक सम्पादक बलराम बनियां का दुःखद निधन,

वे वामन अवतार में राजा बलि के पास गए और भिक्षा में तीन पग जमीन मांगी। बलि ने उनको तीन पग देने का वचन दिया। तब भगवान विष्णु ने दो पग में पूरी पृथ्वी नाम दी। यह देखकर राजा बलि समझ गए कि यह वामन व्यक्ति कोई साधारण नहीं हो सकता है। उन्होंने अपना सिर आगे कर दिया। यह देखकर भगवान विष्णु राजा बालि से प्रसन्न हुए और उनसे वर मांगने को कहा। साथ ही बलि को पाताल लोक में रहने को कहा।

तब राजा बलि ने कहा कि हे प्रभु! पहले आप वचन दें कि जो वह मांगेंगे, वह आप उनको प्रदान करेंगे। उनसे छल न करेंगे। भगवान विष्णु ने उनको वचन दिया। तब बलि ने कहा कि वह पाताल लोक में तभी रहेंगे, जब आप उनके आंखों के सामने हमेशा प्रत्यक्ष रहेंगे। यह सुनकर विष्णु भगवान दुविधा में पड़ गए। उन्होंने सोचा कि राजा बलि ने तो उनको पहरेदार बना दिया।

यह भी पढें   संजय दत्त की कैंसर से लडाई जारी, माँ नरगिस और पहली पत्नी ऋचा की मौत भी कैंसर और ब्रेन ट्युमर से

अपने वचन में बंधे भगवान विष्णु भी पाताल लोक में राजा बलि के यहां रहने लगे। इधर माता लक्ष्मी विष्णु भगवान का इंतजार कर रही थीं। काफी समय बीतने के बाद भी नारायण नहीं आए। इसी बीच नारद जी ने बताया ​कि वे तो अपने दिए वचन के कारण राजा बलि के पहरेदार बने हुए हैं। माता लक्ष्मी ने नारद से उपाय पूछा, तो उन्होंने कहा कि आप राजा बलि को भाई बना लें और उनसे रक्षा का वचन लें।
तब माता लक्ष्मी ने एक महिला का रूप धारण किया और राजा बलि के पास गईं। रोती हुई महिला को देखकर बलि ने कारण पूछा। उन्होंने कहा कि उनका कोई भाई नहीं है। इस पर बलि ने उनको अपना धर्म बहन बनाने का प्रस्ताव दिया। जिस पर माता लक्ष्मी बलि को रक्षा सूत्र बांधीं और रक्षा का वचन लिया। दक्षिणा में उन्होंने बलि से भगवान विष्णु को मांग लिया।

यह भी पढें   COVID-19 वैक्सीन विकसित करना कोई रेस नहीं : अमेरिका

इस प्रकार माता लक्ष्मी ने बलि को रक्षा सूत्र बांधकर भाई बनाया, साथ ही भगवान विष्णु को भी अपने दिए वचन से मुक्त करा लिया।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: