Thu. Jul 18th, 2024



काठमांडू, असार –१३  राष्ट्रीय   परीक्षा बोर्ड, परीक्षा नियन्त्रक के कार्यालय (कक्षा १०) ने माध्यामिक शिक्षा परीक्षा (एसईई) नतिजा सार्वजनिक कर दी है । इस परीक्षा में देशभर में मात्र ४७.८६ प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए हैं ।
बोर्ड के अनुसार इस बार के एसईई परीक्षा में सबसे ज्यादा बागमती प्रदेश से ९९ हजार ८७२ बच्चें सहभागी थे । जिसमें से ३३ हजार ८४३ को ननग्रेड (एनजी) मिला है ।
इसी तरह लुम्बिनी प्रदेश से एसईई में ८० हजार ३२७ बच्चें सहभागी थे । जिनमें से ४९ हजार २२४ को ननग्रेड (एनजी) मिला है । मधेश प्रदेश में ७९ हजार ५९२बच्चें सहभागी थे । जिनमें से ४२ हजार २८६ को ननग्रेड (एनजी) मिला है । कोशी प्रदेश में ७५ हजार ९८८ बच्चें सहभागी थे । जिनमें से ३९ हजार ८९५ अनुत्तीर्ण हुए हैं । बोर्ड के अनुसार गण्डकी प्रदेश में ४० हजार ५२६ बच्चें सहभागी थे ।

इसी तरह कर्णाली प्रदेश से एसईई परीक्षा में ३५ हजार ३४बच्चें सहभागी थे और उसमें से २० हजार ३८० विद्यार्थी ननग्रेड में समावेश हैं । सुदूरपश्चिम में ५३ हजार ४४६ विद्यार्थी सहभागी थे और उनमें से ३६ हजार ४१० ननग्रेड हैं ।
इस तरह माध्यमिक शिक्षा परीक्षा, एसईई २०८० में अनुत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थी में से १ लाख १५ हजार ८३४ पूरक परीक्षा देंगे ।
राष्ट्रीय परीक्षा बोर्ड न दो विषय में अनुत्तीर्ण (नन ग्रेड) विद्यार्थी को पूरक परीक्षा देने की व्यवस्था की है । यह पूरक परीक्षा साउन १८ और १९ गते को होगी ।
राष्ट्रीय परीक्षा बोर्ड, कक्षा १० के अध्यक्ष महाश्रम शर्मा ने बताया कि एक विषय में पूरक परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों की संख्या ६७ हजार ७९३ है । इसी तरह ४८ हजार ३८ विद्यार्थी दो विषय के पूरक परीक्षा देंगे । दो से ज्यादा विषयों में अनुत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थी आगामी चैत में होने वाले परीक्षा में केवल उन्हीं विषयों के परीक्षा देंगे । परीक्षा में सहभागी हुए ४ लाख ६४ हजार ७८५ विद्यार्थी मध्ये २ लाख ४२ हजार ३१३ विद्यार्थी अनुत्तीर्ण (नन ग्रेड) हुए हैं । सबसे ज्यादा विद्यार्थी गणित में अनुत्तीर्ण हुए हैं । सार्वजनिक नतिजा अनुसार १ लाख ७७ हजार ९८५ विद्यार्थी को गणित विषय में एनजी (नन ग्रेड) आया है ।



About Author

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: