Mon. May 25th, 2020

आयोडिन युक्त नमक अ‍ैर साल्ट ट्रेडिङ : ब्रजेश झा

हिमालिनी, अंक अक्टूबर 2018 ।वाणिज्य क्षेत्र में एक उत्कृष्ट संस्था के रूप में स्थापित है– साल्ट ट्रेडिङ कर्पोरेशन लिमिटेड, जो पब्लिक प्राइभेट पार्टनरसीप कम्पनी के रूप में विगत साढ़े ५ दशक से संचालित है । विशेषतः नेपाल में नमक आपूर्ति के लिए तत्कालीन सरकार ने वि.सं. २०२० साल भाद्र २७ गते इस संस्था की स्थापना की थी । उस समय नेपाल में नमक का स्रोत नहीं था, सम्पूर्ण जनता में नमक को सहजता से पहुँचाने के लिए यातायात की सुविधा भी नहीं थी । नमक आपूर्ति और व्यवस्था को व्यवस्थित, नियमित बनाने के उद्देश्य से ही इस संस्था की स्थापना की गई ।
उस समय नमक के व्यपार में संलग्न व्यवसायिक लोगों को समेट कर सरकार ने साल्ट ट्रेडिङ कर्पोरेशन को पब्लिक प्राइभेट पार्टनरशिप कम्पनी के रूप में स्थापित किया था । शुरु में सिर्फ नमक के लिए काम करनेवाला यह संस्था बाद में नमक के अलावा अन्य खाद्यवस्तुओं का भी व्यापार करने लगी । आज साल्ट ट्रेडिङ की ओर से नमक, रसोई गैस, तेल, चावल, आटा जैसे घरेलु समान सुपथ मूल्य में आम जनता को उपलब्ध कराया जा रहा है । विशेषतः आयोडिनयुक्त नमक को आम जनता के घर–घर में पहुँचानेवाली एक मात्र संस्था के रूप में साल्ट ट्रेडिङ कर्पोरेशन को लिया जाता है ।

‘सत्यमेव परम धनम्’ आदर्श वाक्य को आत्मसाथ कर संस्था गुणस्तरीय वस्तु को उचित मूल्य में देशभर की जनता के समक्ष पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है । जनस्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए खाद्य पदार्थों के कारोबार को सहज बनाना ही इस संस्था का उद्देश्य है । संस्था स्थापना की १०वीं वर्षगांठ के अवसर से ही साल्ट्र टे«डिङ ने मैदा, आटा, सूजी, चोकर जैसी वस्तुओं को आयात–प्रतिस्थापना किया था । जिसके चलते स्वदेशी उत्पादन गेहू की खपत स्वदेश और विदेश दोनों जगह होने लगी ।
आम नेपाली जनता आयोडिन की कमी से विभिन्न रोगों से जूझ रहे थे, वैसी ही अवस्था में साल्ट ट्रेडिङ ने नमक में आयोडीन मिला कर आम जनता के घरघर में पहुँचाया । मानव शरीर में आयोडिन की मात्रा कम होने के कारण विशेषतः गर्भवती महिला और बाल–बच्चे ज्यादा प्रभावित हो जाते थे । गर्भपतन होना, मृत शिशु का जन्म होना, अपंग तथा सुस्त मनःस्थितिवाले शिशु की जन्म आदि समस्या आयोडिन की कमी से ही हो रही थी । इसीतरह वयस्क व्यक्तियों में आलश्यता होना, प्रजनन् क्षमता में ह«ास आना, मानसिक कमजोरी आदि समस्या भी आयोडिन की कमी से हो रही थी । ऐसी भयावह अवस्था में आम लोगों में आयोडिन पहुँचाने का एक ही विकल्प रहा– नमक में आयोडिन मिलना, जिसके लिए भारत सरकार का सहयोग भी अविस्मरणीय है ।

यह भी पढें   पुलिस सहायक निरीक्षक ने खूद को गोली मार कर लिया आत्महत्या !

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सन् १९६५ में एक अध्ययन प्रतिवेदन सार्वजनिक किया, उसमें कहा गया था कि ५५ प्रतिशत नेपाली जनता आयोडिन की कमी से होनेवाली विभिन्न समस्याओं से जूझ रहे हैं । इसी को मध्यनजर करते हुए भारत सरकार ने निरन्तर २५ वर्ष तक (सन् १९७३–१९९८) प्राविधिक एवं आर्थिक सहयोग प्रदान किया, जिसके चलते आज आयोडिन की कमी से होनवाली समस्या में काफी कमी आ गई है ।
विकसित समय, आम जनता की आवश्यकता और मांग को मद्देनजर करते हुए कार्पोरेशन की ओर से विभिन्न क्षेत्रों में भी आर्थिक निवेश किया गया । नेपाल के ही प्रथम खाद्य उद्योग लि., नेपाल वनस्पति घ्यू उद्योग, गोरखकाली रबर उद्योग लि. नेशनल फाइनान्स लि., सगरमाथा इन्स्योरेन्स, हिमालय खाद्य एवं प्याकिङ उद्योग जैसे उद्योग की स्थापना कर देश को औद्योगिकीकरण करने में साल्ट ट्रेडिङ कर्पोरेशन ने महत्वपूर्ण योगदान किया है । जिसके चलते स्वदेश में ही रोजगार सृजन से लेकर पुँजी को पलायन होने से रोकने के लिए भी कुछ हद तक कर्पोरशन ने काम किया है । इतना ही नहीं, सिमेन्ट, कागज, टायर, ट्युब, रसायिनक मल, विभिन्न बीउ–बिजन आदि के कारोबार से भी आम जनता की सेवा के लिए साल्ट ट्रेडिङ समर्पित रहा है ।
आज कर्पोरेशन की ओर से ‘आयो नून’ ‘शक्ति नून’, ‘तेज नून’ एवं ‘भानु नून’ के नाम से ४ ब्राण्ड का नमक (पैकेट) बाजार में जाता है । सार्क राष्ट्र की तुलना में नेपाल में सबसे अधिक सस्ता नून आम जनता को मिल जाता है । विभिन्न समय में किए गए सर्वेक्षण से पता चला है कि अब नेपाल में आयोडिन की कमी से होनेवाली समस्या नहीं है, अब कोई भी शिशु अपंग और सुस्त मनस्थिति में जन्म लेनेवाला नहीं है । आयोडिन हर व्यक्ति के लिए आवश्यक है, इसीलिए इसको नियमित सेवन करना जरुरी है । इसीलिए आयोडिन सेवन नियमतः रखने के लिए भी कर्पोरेशन आम जनता से आग्रह कर रहा है । इसीलिए नमक जैसी अत्यावश्यक वस्तुमें आयोडिन मिला कर साल्ट ट्रेडिङ ने जनस्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण काम किया है, जो निरन्तर जारी है ।
आज साल्ट ट्रेडिङ की महत्वपूर्ण उपलब्धि के रूप में यही देखा जाता है कि इस संस्था की भरपूर प्रयास के कारण ही आज देश में आयोडिन की कमी से होनेवाली समस्या का निराकरण हो गया है । इतना ही नहीं, संस्था अपनी स्थापना काल से ही हर वर्ष अपने शेयरधनी को लाभांश एवं बोनस शेयर वितरण करता आ रहा है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: