Sat. Dec 7th, 2019

भाजपा की जीत में नाराें का असर ‘मोदी है तो मुमकिन’ नारे की आंधी में कांग्रेस का ‘चौकीदार चोर है’ का नारा उड़ गया

भाजपा के ‘मोदी है तो मुमकिन’ नारे की आंधी में कांग्रेस का ‘चौकीदार चोर है’ का नारा उड़ गया। लोकसभा चुनावों के दौरान विपक्ष ने समय-समय पर अलग-अलग नारे गढ़ने की कोशिश की। लेकिन भाजपा का ‘हम सब चौकीदार’ का सकारात्मक नारा विपक्ष के तमाम नकारात्मक नारों पर भारी पड़ा। भाजपा ने शुरू से ही अपने चुनावी अभियान को विकास और राष्ट्रवाद पर केंद्रित रखा और इसी हिसाब से उसके रणनीतिकारों ने नारों की रचना की।भाजपा ‘हम सब चौकीदार’, ‘मोदी है तो मुमकिन है’ और ‘काम रुके ना, देश झुके ना’ जैसे प्रमुख नारों के साथ जनता के बीच में थी। जहां ‘हम सब चौकीदार’ का नारा भ्रष्टाचार के विरुद्ध संघर्ष का प्रतीक था। वहीं ‘मोदी है तो मुमकिन है’ के पीछे राष्ट्रवाद की प्रेरणा थी। परंतु विकास और राष्ट्रवाद दोनों के मेल से ‘काम रुके ना, देश झुके ना’ की रचना की गई थी। जनता को ये सभी नारे पसंद आए और उसने इन्हें मोदी के ‘मन की बात’ समझ कर हृदय से अंगीकार किया। इसके विपरीत विपक्ष के नारे जनता की भावनाओं को समझे बगैर गढ़े गए।अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग प्रतिद्वंद्वियों के मद्देनजर अपने नारों को भी नया रंग देने की भाजपा की रणनीति कारगर साबित हुई। मसलन, पश्चिम बंगाल में मोदी का ‘चुपचाप, कमल छाप’ का नारा लोगों को भा गया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने जब कोलकाता में ‘जय श्रीराम’ के नारे लगाए तो ममता ने कहा कि उनकी पार्टी का नारा ‘जय श्रीराम’ नहीं, वरन ‘जय हिंद’ और ‘वंदे मातरम्’ है। जनता को उनकी ये बात नहीं जमी। क्योंकि भाजपा स्वयं ‘वंदे मातरम्’ की समर्थक है और ‘जय हिंद’ का उसने कभी विरोध नहीं किया।उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के बीच गठबंधन के बाद ‘बुआ-बबुआ’ की जोड़ी खूब चर्चा में रही। नतीजतन, दोनो पार्टियों के नारों का भी आपस में घालमेल हो गया। बसपा प्रमुख मायावती ने अपनी चुनावी रैलियों में पार्टी के ‘जय भीम, जय भारत’ नारे के साथ ‘जय लोहिया’ को भी जोड़ कर ‘जय भीम, जय भारत, जय लोहिया’ का नया नारा देने की कोशिश की। लेकिन उनके अस्वाभाविक गठजोड़ की तरह उनके इस नारे को भी जनता न हवा में उड़ा दिया। चुनाव के दौरान सपा की ओर से ‘हमारे पास गठबंधन है और भाजपा के पास सीबीआइ’ तथा ‘सत्य परेशान हो सकता है, पराजित नहीं’ जैसे नारों के पोस्टर भी लगवाए गए थे, पर मोदी के तूफान में इनकी चिंदी बिखर गई।

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: